लखनऊ, जेएनएन। लोकसभा चुनाव 2019 में कल अंतिम चरण का मतदान पूरा होने के बाद विभिन्न एजेंसियों के एक्जिट पोल को लेकर जहां भाजपाई संतुष्ट दिखे, वहीं विपक्ष को मतगणना होने के बाद उनके पक्ष में और बेहतर नतीजे आने की उम्मीद है। अब सभी को 23 मई का इंतजार है।

भाजपा ने लोकसभा चुनाव के लिए प्रदेश के मतदाताओं के प्रति आभार जताया है। प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय ने लोकतंत्र के महापर्व में जनता की सहभागिता और समर्थन के लिए कृतज्ञता ज्ञापित की है। डा. पांडेय ने दावा किया कि भाजपा 74 सीटों पर जीतेगी। विभिन्न एक्जिट पोल प्रदेश में भाजपा को कम आंक रहे है।

उन्होंने कहा कि सवा दो माह चली चुनावी प्रक्रिया में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार के पांच वर्ष के कार्यकाल की उपलब्धियों को लेकर भाजपा जनता के बीच में गई। उन्होंने कार्यकर्ताओं के प्रति भी आभार जताया है। प्रदेश अध्यक्ष ने चुनाव आयोग और चुनावी प्रक्रिया से जुड़े प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों व कर्मचारियों को भी निष्पक्ष व शांतिपूर्ण ढंग से चुनाव कराने के लिए बधाई दी।

समाजवादी पार्टी अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि चार दिन बाद देश को नया प्रधानमंत्री और नई सरकार मिलेगी। अंतिम चरण के मतदान में भी गठबंधन को भरपूर समर्थन देकर भाजपा सरकार को अलविदा कह दिया। सत्तादल के सरकारी तंत्र का भरपूर दुरुपयोग करने के बावजूद लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया है। झूठ व नफरत की राजनीति केखिलाफ जनता ने अपनी भावना का इजहार किया।

एक्जिट पोल के नतीजों पर सपा के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने कहा कि 23 मई को सब कुछ स्पष्ट हो जाएगा। गठबंधन को कम आंकने वालों को भी अपनी गलती का अहसास होगा। प्रदेश की जनता ने भाजपा को आउट कर दिया है और देश में सत्ता परिवर्तन होना तय है। भाजपा ने बुनियादी मुद्दों को तरजीह न देकर आरोप-प्रत्यारोप व समाज बांटने वाली राजनीति अपनाया, इसीलिए जनता ने नकार दिया।

उधर, बसपा नेताओं का कहना है कि बसपा किसी तरह के एक्जिट पोल पर भरोसा नहीं करती। जनता, सपा-बसपा गठबंधन के साथ है और अबकी चौंकाने वाले परिणाम गठबंधन के पक्ष में होंगे। वहीं, प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता द्विजेंद्र त्रिपाठी का दावा है कि एजिक्ट पोल में दिखायी जा रही तस्वीर 23 मई के दिन बदल जाएगी। पहले से बदलाव का मन बना चुकी जनता ने चुनाव में मोदी के खिलाफ मतदान किया है। अबकी मोदी सरकार का हटना तय है। कांग्रेस की ताकत लगातार बढ़ रही है। एक्जिट पोल कराने वाली एजेंसियों को अपनी गलती का एहसास होगा।

रालोद के मुख्य प्रवक्ता अनिल दुबे ने भी एजिक्ट पोल को हवा हवाई बताते हुए कहा कि मोदी सरकार के पांच व योगी सरकार के दो वर्ष के कार्यकाल में जनता की बुनियादी समस्याओं की जैसी अनदेखी की गई। उसका असर मतदान के प्रत्येक चरण में नजर आया। गठबंधन के पक्ष में भारी जनसमर्थन से देश के बाद प्रदेश में भी सत्ता परिवर्तन होगा। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Dharmendra Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस