नरेंद्र शर्मा, जयपुर। राजस्थान की 25 में 13 सीटों पर मत पड़ेंगे। इनमें मेवाड़ (उदयपुर संभाग) की चार और मारवाड़ (जोधपुर संभाग) की चार, अजमेर संभाग की तीन और हाड़ौती (कोटा संभाग) की दो सीटें शामिल हैं। शेष 12 सीटों के लिए पांचवें चरण में छह मई को मतदान होगा।

मोदी सरकार के दो मंत्रियों, एक मौजूदा और एक पूर्व मुख्यमंत्री के पुत्रों के साथ ही दोनों ही पार्टियों के दिग्गज प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला मतदाता 29 को करेंगे। इनमें जोधपुर से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ रहे मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के बेटे वैभव गहलोत और उनके सामने भाजपा उम्मीदवार के रूप में मैदान में उतरे केंद्रीय कृषि मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, झालावाड़-बारां सीट से चौथी बार चुनाव लड़ रहे पूर्व मुख्यमंत्री एवं भाजपा की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष वसुंधरा राजे के पुत्र दुष्यंत सिंह शामिल हैं। दुष्यंत सिंह के सामने कांग्रेस ने प्रमोद शर्मा को उतारा है। मोदी सरकार में विधि मंत्री पीपी चौधरी के भाग्य का फैसला भी सोमवार को ही होगा, उनका मुकाबला बद्री जाखड़ से है।

प्रदेश की हॉट सीटों में से एक बाड़मेर-जैसलमेर में कांग्रेस के मानवेंद्र सिंह का मुकाबला भाजपा के कैलाश चौधरी से है। भाजपा ने यहां के वर्तमान सांसद कर्नल सोनाराम का टिकट काटकर पूर्व विधायक चौधरी को प्रत्याशी बनाया है। भाजपा के संस्थापकों में शामिल रहे जसवंत सिंह के पुत्र मानवेंद्र सिंह विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस में शामिल हुए थे। राजसमंद सीट से जयपुर राजपरिवार की पूर्व सदस्य दीया कुमारी चुनाव लड़ रही हैं।

उनका मुकाबला कांग्रेस के देवकीनंदन गुर्जर से है। मेवाड़ की हॉट सीटों में यह सबसे प्रमुख है। कांग्रेस कार्यसमिति के सदस्य रघुवीर मीणा उदयपुर सीट से मैदान में हैं, उनका मुकाबला भाजपा के अर्जुन मीणा से है। टोंक-सवाई माधोपुर में कांग्रेस प्रत्याशी पूर्व केंद्रीय मंत्री नमोनारायण मीणा का मुकाबला भाजपा के

सुखबीर सिंह जौनपुरिया से है।

वहीं, अजमेर में कांग्रेस के रिजु झुनझुनवाला और भाजपा के भागीरथ चौधरी, जालौर में भाजपा के देवजी पटेल एवं कांग्रेस के रतन देवासी, बांसवाड़ा-डूंगरपुर में भाजपा के कनकमल कटारा और कांग्रेस के ताराचंद भगोरा के बीच टक्कर है। भीलवाड़ा में कांग्रेस के रामलाल शर्मा का मुकाबला भाजपा के सुभाष बहेडिया, कोटा सीट पर भाजपा के ओम बिड़ला का मुकाबला कांग्रेस के रामनारायण मीणा से है। बांसवाड़ा-डूंगरपुर और उदयपुर में

भारतीय ट्रायबल पार्टी दोनों प्रमुख दलों के लिए चुनौती बनी हुई है।

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस