कानपुर, जेएनएन। कभी कांग्रेस का पुराना गढ़ रहे फतेहपुर में शनिवार को कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव और पूर्वी उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका वाड्रा पहली बार शनिवार को पहुंचीं। यहां पांच घंटे रहकर रोड शो से लेकर कई नुक्कड़ सभाओं और महिला संवाद कर पार्टी की उम्मीदों को खाद-पानी देने की कोशिश की। मोदी सरकार पर कड़े प्रहार कर कांग्रेस के वादों से लुभाने का प्रयास किया। प्रियंका ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर आरोप लगाया कि सरकार संवैधानिक संस्थाओं व लोकतंत्र को दुर्बल बना संविधान को तोडऩा चाहती है। लोगों से कहा कि अच्छे बुरे का फर्क समझिए, जाति-पात में मत पडि़ए। कांग्रेस महासचिव औंग कस्बे में महिलाओं के साथ संवाद किया, इसके बाद जहानाबाद, ङ्क्षबदकी और सहिली में नुक्कड़ सभाओं को संबोधित किया। कानपुर अहिरवां एयरपोर्ट पर विशेष विमान से उतरने के बाद वह करीब सवा एक बजे फतेहपुर के औंग पहुंची और महिला संवादी के बाद रोड शो की शुरुआत की।
औंग में आयोजित महिला संवादी में प्रियंका ने कहा कि हम झूठा प्रचार नहीं करते, राहुल भइया ने घोषणा पत्र तैयार करने में एक साल का समय लगाया। उन्होंने शिक्षकों पर लाठी चार्ज का जिक्र करते हुए कहा शिक्षकों को मांगों के लिए प्रदर्शन करने पर पिटवाया जाता है। न्याय की योजना पर कहा, गरीब परिवार को 7000 रुपये सालाना मिलेंगे। विपक्षी इस पर आवाज उठाते हैं, पर जिन्होंने 317 हजार करोड़ रुपये पूंजीपतियों का माफ किया है तो किसानों का कर्ज क्यों माफ नहीं हो सकता है। 

नोटबंदी, जीएसटी से लेकर वाराणसी तक को बनाया मुद्दा
प्रियंका ने तमाम मामले उठाकर सरकार पर हमला बोला। कहा, नोटबंदी से शहर के छोटे-छोटे उद्योग खत्म हो गए। अर्थ व्यवस्था दुर्बल हो गई। व्यापारी जीएसटी से परेशान हो गए। आलू किसानों का मुद्दा उठाते हुए कहा कि आज आलू के बीज का दाम उपज से अधिक हो गया है। वाराणसी का जिक्र किया कि वहांं एयरपोर्ट तक सड़क निर्माण के दौरान मंदिर और मकानों को तोड़ा गया। जिनके मकान तोड़े गए, उनको मुआवजा नहीं दिया। लखनऊ में शिक्षामित्रों पर लाठीचार्ज का मामला उठा प्रदेश की योगी सरकार को भी घेरा। दिल्ली में समस्या लेकर पहुंचे किसानों का जिक्र करते हुए कहा कि अपने को देशभक्त कहने वालों ने उनको वापस कर दिया। रोजगार और गरीबी पर भी प्रियंका ने केंद्र सरकार की खिंचाई की। बोलीं, न हर साल दो करोड़ रोजगार मिले, न 15 लाख रुपये गरीबों के खाते में गए। 
पांच साल में वाराणसी में जनसभा कर चले आए पीएम
कांग्रेस महासचिव ने पीएम मोदी पर सवाल उठाते हुए कहा कि पांच साल में वाराणसी गए जनसभा कर चले आये। एक भी परिवार के पास पांच मिनट के लिए भी नहीं गए, किसी एक गरीब से उसका हाल पूछ लेते। उन्होंने कहा कि मनरेगा को और मजबूत किया जाएगा, सौ दिन के रोजगार को 150 दिन किया जाएगा। मौजूदा सरकार गांव के रोजगार को बंद करना चाह रही है, उनकी मंशा समझें। जनता को गुमराह कर नेता मजबूत हो रहे हैं। उन्होंने कहा सरकार ने एक भी वादा नहीं निभाया है। 

मेरे लिए अगर नहीं कर रहे हो तो रास्ता नापो
महिला संवादी में प्रियंका ने कहा कि आप फर्क देखिए दोनों पार्टियों का और अंतर समझिये। ये समझिये कि आपको अपनी भलाई किसमें दिखती है और धर्म की बातों में जात पाति की बातों में न आइये, इसमें सबका बिगाड़ होता है। सबका हक सभी को मिलना चाहिए तभी सब आगे बढ़ेंगे। उन्होंने कहा कि कोई नेता आए तो कोई मेरे हित में मेरे अधिकार है मेरे लिए क्या कर रहे हो अगर नहीं कर रहे हो तो रास्ता नापो। कहा, तो अभी मजबूती से सूझबूझ से आप अपना वोट डालने जाएं। सचान जी आपके यहां से खड़े हैं, वो जमीनी है आपके बीच हैं और मजबूत हैं। आप उन्हें जिताएं ताकि हम आपके लिए काम कर पाएं। 
देखने के लिए उमड़ी भीड़
जिले की सीमा छिवली नदी से प्रियंका के स्वागत का सिलसिला शुरू हुआ तो औंग, देवमई, डारी, जहानाबाद, ङ्क्षबदकी, जोनिहां समेत एक दर्जन से अधिक स्थानों पर चलता रहा। शहर के जोनिहां बस स्टाप, राधानगर चौराहा, खुशवक्तराय नगर, वर्मा तिराहे, चौक चौराहा, आर्य समाज से ज्वालागंज पर नुक्कड़ सभा के साथ रोड शो समाप्त हुआ। सड़क किनारे प्रियंका को देखने के लिए भारी भीड़ खड़ी रही। सबका अभिवादन करते उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी राकेश सचान को जिताने की अपील की।
कानपुर में प्रत्याशियों से की मुलाकत
तय कार्यक्रम के तहत कांग्रेस की महासचिव प्रियंका वाड्रा का विशेष विमान दोपहर 12:25 पर कानपुर के अहिरवां एयरपोर्ट पर पहुंचा। एसपीजी की अनुमति के तहत कानपुर सीट से कांग्रेस प्रत्याशी पूर्व केंद्रीय मंत्री श्रीप्रकाश जायसवाल, अकबरपुर सीट से प्रत्याशी राजाराम पाल, कांग्रेस जिलाध्यक्ष हरप्रकाश अग्निहोत्री, नगर ग्रामीण अध्यक्ष संजीव दरियाबादी, देहात अध्यक्ष नीतम सचान ने मुलाकात की। प्रियंका ने क्षेत्र के बारे में पूछा तो प्रत्याशियों ने सीट पर जीत सुनिश्चित होने की बात कही। प्रत्याशियों ने जनसभा करने का प्रस्ताव रखा तो उन्होंने हामी भर दी। 

 22 से 26 अप्रैल के बीच तय कर लें कार्यक्रम
कानपुर शहर अध्यक्ष हरप्रकाश अग्निहोत्री ने शहर में दोनों सीटों के लिए एक जनसभा की बात कही तो उन्होंने दो अलग अलग लोकसभा क्षेत्र होने पर अलग अलग सभा करने को कहा। इसपर उन्हें बताया कि दोनों सीटों से जुड़ी विधानसभा क्षेत्र नगर के ही हैं। इसलिए एक जनसभा से दोनों लोकसभा क्षेत्र कवर किये जा सकते हैं। इसपर प्रियंका ने 22 से 26 अप्रैल के बीच कार्यक्रम तय करने को कहा। 

सुर्खियां पाने के लिए नेता हुआ बेहोश
कानपुर में एयरपोर्ट के बाहर एसपीजी ने आगे बढ़ रहे कांग्रेस कार्यकर्ताओं को रोक दिया तो वे नारेबाजी करने लगे। उन्हें देखकर प्रियंका आगे बढ़ आईं और कार्यकर्ताओं से मिलने लगी। उनकी इस छोटी मुलाकात ने कार्यकर्ताओं का दिल जीत लिया और स्वागत में सभी नारेबाजी करने लगे। इस बीच एक इंटक नेता अचानक जमीन पर गिर गए। गर्मी के चलते उसे बेहोश देखकर प्रियंका ने गंभीरता दिखाई और तत्काल एंबुलेंस से अस्पताल भिजवाने को कहा। इसके बाद उनका काफिला सड़क मार्ग से फतेहपुर औंग के लिए रवाना हो गया। बाद में कार्यकर्ताओं के बीच चर्चा शुरू हो गई प्रियंका के सामने जमीन पर गिरने वाले इंटक नेता ने ऐसा सुर्खियां बटोरने के लिए किया था। ऐसा भी लोग कहते रहे वह अक्सर अलग अलग ढंग से सुर्खियां बटोरने का प्रयास करते रहते हैं। बाद में वह खुद ही फोन और आपसी बातचीत में घटना की जानकारी देते रहे। 

Posted By: Abhishek

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस