औसा (लातूर), ओमप्रकाश तिवारी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के बंटवारे के लिए कांग्रेस को दोषी ठहराते हुए पहली बार मतदान करने जा रहे युवाओं से अपील की है कि वे अपना पहला मत देश और सिर्फ देश को ध्यान में रखकर दें।

17वीं लोकसभा के लिए प्रथम चरण का मतदान 11 अप्रैल को होने जा रहा है। ऐसे अवसर पर पहली बार मतदान करने जा रहे युवाओं को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने मंगलवार को कहा कि पहली बार किया गया कोई महत्वपूर्ण काम व्यक्ति सदैव याद रखता है। इसी प्रकार पहली बार किया गया मतदान भी

सदा याद रहेगा। उन्होंने युवाओं से प्रश्न किया कि क्या वे अपना पहला मतदान पाकिस्तान के बालाकोट पर एयर स्ट्राइक करने वाले जवानों को समर्पित नहीं करना चाहेंगे? उनका पहला वोट पुलवामा के वीर शहीदों को समर्पित हो सकता है क्या? क्या गरीब को पक्का घर मिले, इसके लिए आपका पहला वोट समर्पित हो

सकता है क्या? क्या उनका पहला वोट किसान के खेत में पानी पहुंचे इसके लिए जाना चाहिए कि नहीं जाना चाहिए? गरीब से गरीब को स्वास्थ्य सुविधाएं मिलें और आयुष्मान भारत योजना सफल हो, इसके लिए आपका वोट जाना चाहिए या नहीं? फिर मोदी ने कहा कि मैं छत्रपति शिवाजी महाराज की धरती से अपील

करना चाहता हूं कि 21वीं सदी में पैदा हुए युवा अपना कीमती वोट सिर्फ और सिर्फ देश को ध्यान में रखकर दें। 

कांग्रेस के घोषणापत्र और पाकिस्तान की भाषा एक बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि अपने घोषणापत्र में कांग्रेस ने कहा है कि हम जीते जी अनुच्छेद 370 नहीं हटाएंगे। मोदी ने कहा कि यदि 1947 में कांग्रेस इस हिम्मत के साथ खड़ी होती कि हम देश का बंटवारा नहीं होने देंगे तो पाकिस्तान पैदा ही नहीं होता। इसलिए कांग्रेस ही पाकिस्तान बनाने के लिए जिम्मेदार है।

हिंदू आतंकवाद नाम का झूठ गढ़ा

प्रधानमंत्री मोदी ने मैसूर में एक जनसभा में कहा कि कांग्रेस के शासन में देश में जितनी भी आतंकी घटनाएं हुईं, उनके तार पाकिस्तान से जुड़े, लेकिन इनके नेताओं ने हर बार हिंदू आतंकवाद नाम का एक झूठ गढ़ने का काम किया। जब हमारे सपूतों ने पहली बार पाकिस्तान में घुसकर आतंकियों को ठिकाने लगाया, तब ये सुबूत मांगने लगे। जम्मू-कश्मीर पर इनके विचार पाकिस्तान के विचारों से मिल रहे हैं।

कांग्रेस ने छिनवाया था मताधिकार

लातूर की औसा तहसील की रैली में मोदी शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के हाथ में हाथ डाले मंच पर पहुंचे। इस दौरान मोदी ने कहा कि सत्तालोलुप कांग्रेस के विपरीत महाराष्ट्र का ठाकरे परिवार है, जिसमें न कभी बालासाहेब ठाकरे ने मुख्यमंत्री बनने की इच्छा जताई, न ही उनके पुत्र वर्तमान शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने। मानवाधिकार पर भी कांग्रेस को घेरते हुए मोदी ने कहा कि ये वही कांग्रेस है जिसने बालासाहेब ठाकरे से उनका मताधिकार तक छिनवा लिया था।

चिल्ला रहे थे चौकीदार चोर है, पर नोट कहां से निकले?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के करीबियों पर आयकर छापों में करोड़ों रुपये

मिलने पर कांग्रेस को घेरा। उन्होंने कहा, ‘आपने देखा होगा कल-परसों कांग्रेस के दरबारियों के घरों से बक्सों में नोट निकले हैं। नोट से वोट खरीदने का यह पाप इनकी राजनीतिक संस्कृति रही है। यह पिछले छह महीने से बोल रहे हैं ‘चौकीदार चोर है’, लेकिन नोट कहां से निकले? असली चोेर कौन है?’

उद्धव को बताया छोटा भाई

मंच पर प्रधानमंत्री मोदी ने उद्धव ठाकरे को अपना छोटा भाई कहा। वहीं, उद्धव ठाकरे ने मोदी से कहा कि पाकिस्तान से ऐसे निपटें की वह दोबारा भारत से उलझने लायक ना बचे। ठाकरे ने भाजपा के घोषणापत्र का भी स्वागत करते हुए कहा कि उसके वादे ही लोकसभा चुनाव में दो प्रमुख पार्टियों के एक साथ आने की वजह हैं। वहीं, महाराष्ट्र में कांग्रेस की सहयोगी राकांपा के अध्यक्ष शरद पवार की खिंचाई करते हुए मोदी ने कहा कि कांग्रेस और राकांपा जैसे दल अब जम्मू-कश्मीर के लिए अलग प्रधानमंत्री की मांग करने वालों के साथ जा खड़े हुए हैं।

 

Posted By: Babita

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप