जामताड़ा, जेएनएन। संताल परगना में अंतिम चरण में 19 मई को होने वाले मतदान में झामुमो के गढ़ को ध्वस्त कर अपनी चुनावी स्थिति मजबूत करने की रणनीति भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने बना ली है। इस क्षेत्र के तीनों संसदीय सीटों पर चुनाव प्रचार को भाजपा के स्टार प्रचारक के तौर पर पीएम नरेंद्र मोदी, राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित साह व मुख्यमंत्री रघुवर दास, पश्चिम बंगाल के बाबुल सुप्रियो चुनावी सभा व रोड शो करेंगे।

पीएम मोदी की सभा के लिए ऐसे स्थल का चयन किया जा रहा है। जहां दुमका, राजमहल व गोड्डा के मतदाता व पार्टी कार्यकर्ता आसानी से पहुंच सकें। चार तारीख के बाद से यह तस्वीर पूरी तरह से स्पष्ट हो जाएगी की कौन-कौन स्टार प्रचारक किस-किस तिथि को संथालनरगना में कहां-कहां आएंगे। यह खुलासा मंगलवार को दोपहर यहां भाजपा प्रवक्ता प्रवीण प्रभाकर व संतालपरगना के सह प्रभारी रमेश हांसदा ने पत्रकारों के बीच किया।

इसलिए मजबूत : प्रवक्ता प्रभाकर ने कहा कि दुमका की जनता यह समझ चुकी है कि दुमका में बगैर सांसद के बावजूद भी इस क्षेत्र के विकास के लिए भाजपा ने कोई कसर नहीं छोड़ी है। जामताड़ा जिला में भाजपा का कोई विधायक नहीं है फिर भी भाजपा ने कोई भेद-भाव नहीं किया। सबका साथ सबका विकास नारे के साथ हम आगे बढ़े और गांव-गांव में पीएम आवास, उज्ज्वला योजना, जनधन योजना, गांव-गांव बिजली पहुंचाने, बिचौलियावाद खत्म करने का काम जामताड़ा से नाला तक किया। भाजपा ने पूरे क्षेत्र में सबके साथ न्याय करने का काम किया है। जनता यह जान रही है कि यहां भाजपा का सांसद, विधायक बनाएंगे तो इस क्षेत्र की तकदीर-तस्वीर दोनों बदलेगी। झारखंड के प्रथम चरण में हुए तीन सीटों के चुनाव में मतदाताओं ने कमल के प्रति ही विश्वास जताया है। आरोप लगाया कि झामुमो ने सत्ता के साथ चिपककर अब तक केवल सौदेबाजी करना व लाभ लेना ही सीखा है। दुमका व संथालपरगना के विकास में सबसे बड़ी बाधा झामुमो व कांग्रेस है।

एंटी इनकंवेंसी को भुनाने की जुगत में भाजपा : सह प्रभारी रमेश हांसदा ने कहा कि  सांगठनिक तौर पर पूरे झारखंड में  चुनावी तैयारी में संथालपरगना काफी आगे चल रहा है। बूथ स्तर पर दो-तीन बार समीक्षा भी हो चुकी है। पीएम मोदी का काम जमीन पर दिखाई दे रहा है। भाजपाई के पास जनता को बताने लायक  बहुत से काम हैं। इसे जनता के सामने रखने के पहले ही वह स्वीकार करने लगती है। आवास, शौचालय, गैस आदि के मामले में जनता स्वयं बोलती है की पीएम मोदी जो घोषणा दिल्ली में करते हैं वह यहां धरातल पर दिखने लगती है। कहा कि इस बार दुमका में झामुमो प्रत्याशी के खिलाफ एनटी इनकंवेंसी चल रही है। दस साल से गुरुजी का स्वास्थ्य जिस तरह से गिरता जा रहा है इससे जनता भी समझ गई है कि इस हालात में गुरुजी को चुनाव नहीं लडऩा चाहिए। किसी युवा को टिकट देकर जेएमएम को लड़ाना चाहिए। ऐसे कार्यकर्ता को लड़ाना चाहिए था जो दुमका की समस्याओं को सदन में रख सकें। पर हेमंत सोरेन इस बात को भली भांति जानते हैं की गुरुजी को छोड़ कर यहां जेएमएम में कोई चुनाव जीत नहीं सकता है। इसलिए उन्हें जबरन चुनाव लड़ाया जा रहा है। पिछले दो वर्षों में बहुत से आदिवासी युवा की मानसिकता बदली है और वह भाजपा से जुड़ रहे हैं।

पहले आदिवासी कार्यकर्ता ढूंढने से नहीं मिलता था अब हजारों के तादाद में इस प्रमंडल में आदिवासी कार्यकर्ता जुड़े हैं। यह चमत्कारी परिवर्तन है की उडि़सा में जिला परिषद की चुनाव में भारी में आदिवासी कार्यकर्ताओं ने भाजपा का दामन थामा।  कहा कि जेएमएम ने अपने 19 साल के कार्यकाल में एक भी ट्राइवल पोलिटीकल एजेंडा को सामने नहीं रखा इससे आदिवासी को समझ में आ रहा है कि यह पार्टी उनके मुद्दों पर काम नहीं करेगी। इसलिए आदिवासियों का ध्रुवीकरण जेएमएम के खिलाफ भाजपा में होने लगा है। मौके पर उनके साथ संयोजक सोमनाथ ङ्क्षसह, धनेश्वर मंडल, सुभाष, मनोज ङ्क्षसह आदि थे।

Posted By: mritunjay

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस