फरीदाबाद[प्रवीन कौशिक]। Faridabad Lok Sabha Result 2019 लोकसभा चुनाव में जीत के बड़े-बड़े दावे करने वाले 22 प्रत्याशी के लिए चुनाव परिणाम सुखद नहीं रहा। इन सभी की मत संख्या नोटा की संख्या से भी कम रही। मतलब फरीदाबाद संसदीय क्षेत्र से नोटा छठे नंबर पर रहा। भाजपा के कृष्णपाल, कांग्रेस के अवतार, बसपा मनधीर सिंह मान, इनेलो के महेंद्र सिंह चौहान और आप के नवीन जयहिंद ने नोटा से कहीं अधिक वोट लिए।

नोटा (नन ऑफ दी अबोव) मतलब इनमें से कोई नहीं। 2014 के लोकसभा चुनाव में मतदाताओं के लिए यह विकल्प पहली बार शुरू किया गया था। यदि किसी मतदाताओं को प्रत्याशियों में से कोई पसंद नहीं है तो नोटा बटन को दबा सकता है। इस बार 4984 मतदाताओं ने नोटा दबाया है। बता दें 2014 में भी कुल 27 में से 22 प्रत्याशियों को नोटा से भी कम वोट प्राप्त हुए थे।

इन्हें मिले नोटा की संख्या से कम मत
आरपीआइ के बुद्धाचार्य को 463, भारतीय शक्ति चेतना पार्टी के चौ. दयाचंद को 339, आरक्षण विरोधी पार्टी के दीपक गौड़ को 471, टोला पार्टी के प्रदीप कुमार को 330, राष्ट्रीय विकास पार्टी के महेश प्रताप शर्मा को 477, लोकप्रिय समाज पार्टी के महेश कुमार सिंह को 478, आपकी अपनी पार्टी (पीपल्स) के राकेश कुमार 451, आल इंडिया फारवर्ड ब्लाक पार्टी के रामकिशन गोला को 1131, हिंद कांग्रेस पार्टी की रूबी को 1192, बहुजन मुक्ति पार्टी के लेखराम दबंग को 4773, भारतीय किसान पार्टी के विजेंद्र कसाना को 2688 वोट मिले।

राष्ट्रीय लोक स्वराज पार्टी के प्रत्याशी श्यामवीर को 3961, वोटर्स पार्टी के सहीराम रावत को 2024, पीपल्स पार्टी ऑफ इंडिया (डेमोक्रेटिक) के हरिचंद को 1368, आदिम भारतीय दल के हरिशंकर राजवंश को 718 मत प्राप्त हुए। स्वतंत्र प्रत्याशी अमित सिंह पटेल को 371, टीकाराम हुड्डा को 249, बोबी कटारिया को 393, मनोज चौधरी को 439, सीए शुक्ला को 389, संजय मोर्या को 802, डॉ.केपी ¨सह को 665 मत प्राप्त हुए हैं। बता दें 2014 के लोकसभा चुनाव में फरीदाबाद लोकसभा क्षेत्र से 3328 लोगों ने नोटा दबाया था।

 दिल्ली-NCR की ताजा खबरों को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस