अहमदाबाद, जेएनएन। गुजरात कांग्रेस ने इस बार लोकसभा चुनाव के लिए चार प्रत्याशियों के नाम समय से पहले घोषित कर अपना वादा पूरा कर दिया है। पूर्व केंद्रीय मंत्री भरत सिंह सोलंकी व वरिष्ठ नेता राजूभाई परमार के अलावा दो युवा चेहरों को कांग्रेस ने मौका दिया है। 12 मार्च को अहमदाबाद में होने वाली कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक से पूर्व पार्टी ने यह फैसला किया है।

पूर्व मुख्यमंत्री माधव सिंह सोलंकी के पुत्र भरत सिंह सोलंकी केंद्रीय मंत्री के अलावा गुजरात कांग्रेस की कमान भी संभाल चुके हैं। सोलंकी आणंद से ही लोकसभा का चुनाव जीत चुके हैं। वर्ष 2009 में चुनाव जीतने के बाद भरतसिंह को डॉ मनमोहन सिंह की सरकार में रेल राज्यमंत्री बनाया गया था। इसके अलावा अहमदाबाद पश्चिम से कांग्रेस के दलित नेता व तीन बार राज्य सभा के सदस्य रह चुके राजूभाई परमार को उम्मीदवार बनाया है। आरक्षित सीट पर हाल भाजपा के डॉ किरीट सोलंकी सांसद हैं। पार्टी में उनके खिलाफ विद्रोह के सुर सुनाई दे रहे हैं। नाराज कार्यकर्ता भाजपा से प्रत्याशी को बदलने की मांग को लेकर अहमदाबाद शहर में कई जगह पोस्टर व वॉल पेंटिंग के जरिए संदेश दे चुके हैं।

वडोदरा शहर अध्यक्ष प्रशांत पटेल महाराज सयाजीराव युनिवसिर्टी के छात्र नेता रह चुके हैं। उनका यह पहला चुनाव है। मध्य गुजरात में कांग्रेस का पाटीदार चेहरा हैं। उधर, पूर्व नेता विपक्ष एवं कद्दावर आदिवासी नेता मोहन सिंह राठवा के पुत्र रणजीत सिंह राठवा को छोटा उदेपुर सुरक्षित सीट से उम्मीदवार बनाया है। रणजीत कांग्रेस के युवा आदिवासी नेता हैं तथा जिला पंचायत अध्यक्ष एवं शहर कांग्रेस अध्यक्ष की जिम्मेदारी निभा चुके हैं।

कांग्रेस प्रवक्ता मनीष दोशी का कहना है कि पार्टी ने दो वरिष्ठ व दो युवकों को मैदान में उतारा है, जिससे एक संतुलित दावेदारी नजर आती है। गुजरात की सभी 26 लोकसभा सीटों पर भाजपा का कब्जा है। गत विधानसभा चुनाव में 76 सीटें जीतने के बाद कांग्रेस को उम्मीद है कि लोकसभा चुनाव में सात से आठ सीट वे आसानी से जीत सकते हैं। हालांकि राष्ट्रीय प्रवक्ता शक्ति सिंह गोहिल व प्रदेश अध्यक्ष अमित चावड़ा का कहना है कि कांग्रेस सभी 26 सीटों पर पूरी ताकत के साथ मैदान में उतरेगी।

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस