लखनऊ, जेएनएन। देश भर की निगाहें उत्तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों पर गुरुवार को शुरू होने जा रही मतगणना पर टिकी हैं, क्योंकि दिल्ली की कुर्सी का रास्ता इसी राज्य से गुजरता रहा है। एक बड़ी वजह यह भी है कि वाराणसी संसदीय क्षेत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, रायबरेली में यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, अमेठी में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, मैनपुरी में सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव, आजमगढ़ में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और लखनऊ में गृह मंत्री राजनाथ सिंह की किस्मत का ताला खुलेगा।

सत्रहवीं लोकसभा के चुनाव में उत्तर प्रदेश में कई बड़े किरदार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। भाजपा ने इस बार भी 2014 की ही तरह दो सीटें सहयोगी अपना दल (एस) के लिए छोड़ी। बाकी 78 सीटों पर भाजपा के उम्मीदवार मैदान में हैं। कांग्रेस ने 67 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे और बाकी सहयोगी दलों के लिए छोड़ा है। गठबंधन में बसपा के 38, सपा के 37 और रालोद के तीन उम्मीदवार मैदान में हैं। गठबंधन ने अमेठी और रायबरेली में अपने उम्मीदवार नहीं उतारे हैं।

गठबंधन की वजह से विपक्ष की बड़ी गोलबंदी इस राज्य में हुई है तो उनके उम्मीदवारों के इंद्रधनुषी सपने भी परवान चढ़े हैं। आजमगढ़ में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के अलावा बसपा के प्रदेश अध्यक्ष आरएस कुशवाहा-सलेमपुर, रालोद अध्यक्ष चौधरी अजित सिंह-मुजफ्फरनगर, उपाध्यक्ष जयंत चौधरी-बागपत में चुनाव मैदान में हैं। कन्नौज में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव और मीरजापुर में अपना दल एस की संरक्षक अनुप्रिया पटेल, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर की फतेहपुर सीकरी और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव की फीरोजाबाद में किस्मत दांव पर लगी है। इस चुनाव दलबदलू सांसदों का भी मूल्यांकन होना है।

मोदी और योगी के मंत्रियों का तय होगा भविष्य

मोदी सरकार में शामिल मनोज सिन्हा-गाजीपुर, मेनका गांधी-सुलतानपुर, साध्वी निरंजन ज्योति-फतेहपुर, डॉ. सत्यपाल सिंह-बागपत, अनुप्रिया पटेल-मीरजापुर, संतोष गंगवार-बरेली, महेश शर्मा-गौतमबुद्धनगर की किस्मत का फैसला होगा जबकि योगी सरकार की मंत्री रीता बहुगुणा जोशी-इलाहाबाद, सत्यदेव पचौरी-कानपुर, प्रोफेसर एसपी सिंह बघेल-आगरा और मुकुट बिहारी वर्मा का भविष्य अंबेडकरनगर की जनता तय करेगी।

कसौटी पर स्मृति और हेमा भी

हर बार की तरह इस बार भी मतदाताओं की कसौटी पर सिने जगत का ग्लैमर है। अमेठी में छोटे परदे की बहू और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने इस बार राहुल गांधी को कड़ी टक्कर दी है और सबकी निगाह अमेठी पर लगी है। रामपुर में सपा के कद्दावर नेता आजम खां के खिलाफ मशहूर अभिनेत्री जयाप्रदा मुकाबिल हैं तो मथुरा में ड्रीम गर्ल हेमामालिनी की फिर परीक्षा होगी। आजमगढ़ में भोजपुरी फिल्मों के स्टार, भाजपा उम्मीदवार दिनेश लाल यादव निरहुआ, गोरखपुर में सिने स्टार भाजपा के रवि किशन की लोकप्रियता का पैमाना तय होगा।

 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Umesh Tiwari