कोलकाता, एएनआइ। पश्चिम बंगाल में वाम मोर्चा ने लोकसभा चुनाव के लिए शुक्रवार को 25 उम्मीदवारों की सूची जारी की है।

तृणमूल कांग्रेस की सूची में सितारों की चमक

लोकसभा चुनाव की तारीखों के एलान के तीसरे ही दिन मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस प्रमुख व मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सितारों की चमक के साथ 42 प्रत्याशियों के नामों की घोषणा कर दी थी। इस बार भी दो नई अभिनेत्रियों के साथ-साथ सुब्रत मुखर्जी व मानस भुइयां जैसे पुराने नेताओं समेत 15 नए चेहरे को टिकट देकर नई चमक पैदा कर दी है। वहीं 2014 में जीते सांसदों में से आठ इस बार मैदान में नहीं होंगे। दो पहले ही भाजपा का दामन थाम चुके हैं जिन्हें तृणमूल ने निलंबित कर दिया था। हालांकि, नेताजी सुभाष चंद्र बोस के परिजन प्रोफेसर सुगतो बोस इस बार चुनाव नहीं लड़ेंगे।

ममता ने अपने आवास पर पार्टी की स्टे¨रग कमेटी की बैठक के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा कि हमारी पार्टी ने इस बार 40.5 फीसद महिला उम्मीदवारों को टिकट दिया है। यह हमारे लिए एक गर्व का क्षण है। कुल 17 महिलाओं को टिकट दिया गया है। वहीं सात मुस्लिम प्रत्याशियों को भी उतारा है। ममता ने कहा कि बांकुड़ा से सांसद पुराने जमाने की अभिनेत्री मुनमुन सेन इस बार आसनसोल से उम्मीदवार होंगी। बीरभूम से शताब्दी रॉय को कैंडिडेट घोषित किया गया है।

बांग्ला फिल्म की अभिनेत्री नुसरत जहां, मिमी चक्रवर्ती भी चुनाव में मैदान में होंगी। अभिनेता और घाटल से सांसद देव (दीपक अधिकारी) फिर से अपनी पुरानी सीट से ही चुनाव लड़ेंगे। ममता ने घोषणा की कि पार्टी के साथ लंबे वक्त से जुड़े राज्य के मंत्री व कद्दावर नेता सुब्रत मुखर्जी बांकुड़ा से चुनाव लड़ेंगे। वहीं कांग्रेस छोड़कर तृणमूल में शामिल होने के बाद राज्यसभा सदस्य बने मानस रंजन भुइयां इस बार लोकसभा चुनाव मेदिनीपुर सीट से लड़ेंगे।

आठ सांसदों का कटा पत्ता

उम्मीदवारों के नामों की घोषणा से पहले ममता ने पांच मौजूदा सांसदों के नाम बताए, जो कई कारणों से चुनावी मैदान में नहीं उतरेंगे। ममता ने कहा, जादवपुर के सांसद सुगतो बोस को हार्वर्ड विश्र्वविद्यालय से चुनाव लड़ने की इजाजत न मिलने की वजह से वह चुनावी मैदान में नहीं उतरेंगे। वहीं निजी कारणों की वजह से अत्रिनेत्री संध्या रॉय भी चुनाव नहीं लड़ेंगी। वरिष्ठ नेता सुब्रत बक्शी और उमा सोरेन पार्टी से संबंधित कार्य करेंगे। बसीरहाट के सांसद इदरिश अली को विधानसभा उपचुनाव में उलबेडि़या से टिकट दिया गया है। वहीं कृष्णानगर के सांसद तापस पाल, राणाघाट के सांसद तापस मंडल, पार्थ प्रतिम राय और भाजपा में शामिल हो चुके सौमित्र खां व अनुपम हाजरा का नाम भी नहीं लिया और उन सीटों पर नए नामों की घोषणा कर दी गई।

सात विधायकों को दिया टिकट

दार्जिलिंग से गोरखा जनमुक्ति मोर्चा के विधायक अमर सिंह राई तृणमूल के टिकट पर मैदान में होंगे। इसके अलावे कन्हैयालाल अग्रवाल, अबू ताहेर खान, महुआ मोइत्रा, अपूर्व सरकार, श्यामल सांतरा और विपल्व मित्रा को लोकसभा का टिकट दिया गया है।

दिवंगत विधायक की 25 वर्षीय पत्नी राणाघाट से मैदान में

नदिया के कृष्णगंज के विधायक सत्यजीत विश्वास की पिछले माह सरस्वती पूजा के दिन हत्या कर दी गई थी। उनकी 25 वर्षीय पत्नी को ममता ने राणाघाट से टिकट दिया है।

कृष्णगंज व उलबेडि़या पूर्व विस सीट के लिए प्रत्याशी घोषित

कृष्णगंज विधानसभा सीट से अमिता बोस और उलबेडि़या पूर्व विस सीट के उपचुनाव में बशीरहाट के सांसद इदरिश अली को प्रत्याशी बनाया गया है।

झारखंड. बिहार, असम और ओडिशा में प्रत्याशी उतारेगा तृणमूल

ममता ने कहा कि झारखंड में तीन, बिहार में दो, असम में छह और अंडमान में एकलोकसभा सीट तथा ओडिशा के दस विधानसभा सीट पर चुनाव लड़ने की घोषणा की।

 

Posted By: Sachin Mishra