जम्मू, जागरण संवाददाता। अनंतनाग संसदीय सीट के दूसरे चरण के चुनाव में विभिन्न माईग्रांट पोलिंग स्टेशन पर वोट डालने गए कश्मीरी पंडितों को फिर परेशानियों का सामना करना पड़ा। मतसूचितयों में अनेकों कश्मीरी पंडित के नाम नही मिल पाए। इसको लेकर कश्मीरी पंडितों ने रोष जताया है। सोमवार को कुलगाम जिले से संबंधित कश्मीरी पंडितों ने मतदान किया। मगर जगटी, पुरखू माईग्रांट कैंप व मुट्ठी में बनाए गए मतदान केंद्रों पर वोट डालने गए कुछ कश्मीरी पंडितों के नाम मतसूची में नही पाए गए। ऐसी ही शिकायत कुछ अन्य पोलिंग स्टेशन पर भी आई है।

1990 में कश्मीर घाटी से पलायन कर यहां आए कश्मीरी पंडितों के लिए जिले में 21 माईग्रांट पोलिंग स्टेशन कायम किए हैं। अनतंनाग ससंदीय सीट के पहले चरण का चुनाव 23 मार्च को हुआ था और इस दौरान भी अनेकों कश्मीरी पंडितों के नाम मतसूची में नही होने पर लोगों को प्रदर्शन भी करना पड़ा था।

यूथ आल इंडिया कश्मीरी समाज के सीनियर नेता अजय सफाया ने बताया कि एम फार्म भरने के बाद भी कश्मीरी पंडितों का मतसूची में नाम शामिल नही होना किसी साजिश की ओर इशारा कर रहा है। पुरखू, जगटी व मुट्ठी में अनेकों कश्मीरी वोट नही डाल पाए। यह कश्मीरी पंडितों के संवैधानिक अधिकारों पर प्रहार है। पूरे मामले की शिकायत चुनाव आयोग से की जाएगी। वहीं उन्होंने मांग की कि मतसूचियों को ठीक किया जाए ताकि विधानसभा चुनावों के समय कश्मीरी पंडितों को परेशानी न हो।

Posted By: Rahul Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप