जम्मू, जेएनएन। लद्दाख को यूनियन टेरेटरी बनाना देश हित में है। भारतीय जनता पार्टी भी यही चाहती है। केंद्र में भाजपा की सरकार आई तो लद्दाख के लोगों की सुनवाई हुई। पहले केवल किताबों में पढ़ाया जाता था कि जम्मू-कश्मीर के तीन संभाग है, जम्मू, कश्मीर और लद्दाख। लेकिन जमीनी हकीकत यह है कि कांग्रेस ने कानूनी तौर पर लद्दाख को उसका हक कभी नहीं दिया। उन्हें कभी डिवीजन का दर्जा नहीं मिला।

यह बात भाजपा प्रदेश प्रधान रविन्द्र रैना ने वीरवार को लद्दाख में संवाददाता सम्मेलन के दौरान कही। उन्होंने कहा कि यहां के लोगों को अपने सरकारी कामों के लिए जम्मू या फिर कश्मीर जाना पड़ता था। यहीं नहीं बच्चों को उच्च शिक्षा हासिल करने के लिए भी जम्मू, कश्मीर या फिर दूसरे राज्यों का रूख करना पड़ता था परंतु राज्यपाल शासन के दौरान मोदी सरकार ने इसे कैबिनेट मंजूरी दी और लद्दाख को डिवीजन का दर्जा दिया गया।

उन्होंने कहा कि लद्दाख के लोग जो यूनियन टेरेटरी का दर्जा देने की मांग कर रहे हैं, वह भी भाजपा ही पूरी करेगी। लद्दाख को जो डिवीजन का दर्जा दिया गया है वह इसी राह में उठाया गया पहला कदम है। केंद्र सरकार भी यह बात समझती है कि देश के हित में यह बहुत जरूरी है। रैना ने कहा कि विधानसभा में पूर्ण बहुमत न होने के कारण इसमें दिक्कतें आ रही हैं।

केंद्र की तरह जब भाजपा यहां भी पूर्ण बहुमत के साथ सरकार बनाकर बिल में संशोधन कर ऐसे कई अहम फैसले करेगी जिनका लाभ लोगों को होगा। चाहे वह अनुच्छेद 370 हो या फिर 35-ए। भारतीय जनता पार्टी अपने वायदों को पूरा करेगी। यह बात केवल राजनीतिक के लिए नहीं की जा रही है। संवाददाता सम्मेलन में एमएलसी विक्रम रंधावा, नरेंद्र सिंह सहित भाजपा के अन्य वरिष्ठ नेता मौजूद थे। 

Posted By: Rahul Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप