बाजारटांड़ (सिमडेगा), [प्रदीप सिंह]। Rahul Gandhi in Jharkhand - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर झूठे आरोप के सिलसिले में तीन दफा खेद जता चुके कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अब अपने भाषणों में अपेक्षाकृत संयम बरत रहे हैं। वे नरेंद्र मोदी पर निशाना तो साधते हैं लेकिन अपने पुराने और पसंदीदा नारे का प्रयोग करने से बचते हैं। सिमडेगा के बाजारटांड़ में कांग्रेस की झारखंड में पहली जनसभा में उनके भाषण के दौरान जब उत्साहित कांग्रेसियों ने पुराना नारा दोहराने की कोशिश की तो उन्होंने कोई रिस्पांस नहीं दिया।

आधे घंटे के भाषण में उन्होंने कांग्रेस की न्याय योजना पर ही ज्यादा फोकस किया। यह भी दावा किया कि वे कभी झूठ नहीं बोलते और किसी से डरते नहीं है। उन्होंने वादा किया कि सरकार बनने के बाद देशभर में 25 करोड़ लोगों के बैंक खाते में सीधे हर साल 72 हजार रुपये डालेंगे। जो लोग यह पूछते हैं कि इसके लिए पैसे कहां से आएंगे, उनको बताना चाहते हैं कि वे चोरों के जेब से पैसे निकालकर गरीबों को देंगे।

 

राहुल गांधी ने यह भी दावा किया कि नरेंद्र मोदी ने देशभर में सिर्फ 15-20 लोगों को फायदा पहुंचाया। अंबानी, अडाणी, नीरव मोदी, मेहुल चौकसी को पैसे बांटे। नरेंद्र मोदी ने पिछले चुनाव में वादा किया था कि हरेक आदमी के बैंक खाते में 15 लाख रुपये देंगे। लेकिन उन्होंने आमलोगों को पैसे नहीं देकर चुनिंदा अमीर भ्रष्ट लोगों को पैसे दिए। किसानों का कर्ज माफ नहीं किया लेकिन पांच लाख 55 हजार करोड़ कारपोरेट घरानों को बांटे।

मनरेगा के 35 हजार करोड़ नीरव मोदी को दे दिए। इन्हें दिया गया पैसा गरीबों के मनरेगा, भोजन अधिकार का था। यही पैसे काटकर अमीरों को दे दिए। जबकि वे 25 करोड़ लोगों को पैसे देना चाहते हैं। भीड़ से पूछा, क्या आप लोगों के खाते में 15 लाख रुपये आए। जवाब आया नहीं। राहुल गांधी ने कहा कि जब-जब नरेंद्र मोदी झूठ बोलेंगे, कांग्रेस सच बोलेगी। नरेंद्र मोदी की सरकार ने अनिल अंबानी के बैंक अकाउंट में 45 हजार करोड़ डाले, मेहुल चौकसी के बैंक खाते में 35 हजार करोड़ डाले। वे गरीबों के खाते में पैसे डालना चाहते हैं तो क्या गलत कर रहे हैं।

कोई नहीं छीन सकता आदिवासियों की जमीन

राहुल गांधी ने संवेदनशील मुद्दों को अपने भाषण के दौरान प्रमुखता दी। कहा आदिवासियों की जल, जंगल, जमीन नरेंद्र मोदी कॉरपोरेट घरानों को बांटना चाहते हैं। झारखंड में सीएनटी-एसपीटी एक्ट में संशोधन कर जमीन झपटने की कोशिश की गई। कांग्रेस समेत सभी विपक्षी दलों के विरोध के कारण यह संभव नहीं हो पाया। नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी कर गरीबों का पैसा छीना। गब्बर सिंह टैक्स लगाकर पैसे लिए। 

वे भगवान बिरसा की जमीन से यह वादा करते हैं कि न्याय के लिए लड़ेंगे। आदिवासियों से जल, जंगल, जमीन कोई छीन नहीं सकता। वे इनकी जमीन लेकर अंबानी, अडाणी को देना चाहते हैं। वे चाहते हैं कि आदिवासी सिर्फ मजदूरी करें। अपने बच्चों को नहीं पढाएं। जमीन की रक्षा का कानून कांग्रेस लागू करेगी।

बिना पूछे किसी की जमीन नहीं ले सकते। पूछकर भी जमीन लिया तो मार्केट रेट से चार गुना पैसा देना होगा। पांच साल में जमीन का इस्तेमाल नहीं किया तो जमीन वापस करना होगा। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ के बस्तर में टाटा से जमीन लेकर आदिवासियों को दी गई। चुनाव के दौरान किसानों से किए गए वादे पूरे किए गए हैं। उन्हें धान की फसल के लिए 2500 रुपये बैंक अकाउंट में दिए गए। 

गठबंधन जनता की आवाज, जनता की सरकार बनेगी

राहुल गांधी ने हर जिले में अस्पताल, मुफ्त इलाज और दवाई, टेक्निकल कालेज, विश्वविद्यालय के वादे किए। दावा किया कि गठबंधन हारेगा नहीं। यह जनता की आवाज है। मोदी मन की बात करते हैं और हम मन की बात सुनते हैं। यही फर्क है मुझमें और मोदी में। लोगों से रूबरू होते हुए बोले-हमेशा ध्यान रखना, मालिक नरेंद्र मोदी नहीं है, कोई नेता नहीं है। जनता मालिक है। आप आदेश करो, हम आपके अकाउंट में पैसे डालेंगे। वादा करता हूं कि यहां जो सरकार बनेगी, आपकी सरकार बनेगी। शक्ति और ज्ञान गरीबों में है। नरेंद्र मोदी हिन्दुस्तान की शक्ति के खिलाफ हैं।

बता दें कि भाजपा की ओर से पीएम मोदी, अमित शाह और दूसरे स्‍टार प्रचारकों के ताबड़तोड़ चुनावी अभियान के बाद कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी गुरुवार को लोकसभा चुनावों में पहली बार झारखंड पहुंचे। उन्‍होंने खूंटी लोकसभा क्षेत्र के सिमडेगा बाजार टांड़ में कांग्रेस प्रत्‍याशी कालीचरण मुंडा के समर्थन में वोट मांगा। राहुल गांधी के साथ मंच पर कांग्रेस प्रदेश अध्‍यक्ष डॉ अजय कुमार, जेएमएम के  कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन, झाविमो सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी, राजद प्रदेश अध्यक्ष गौतम सागर राणा और छत्तीसगढ़ के मुख्‍यमंत्री भूपेश बघेल मौजूद रहे।

राहुल गांधी की सभा की सुरक्षा चाक -चौबंद
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की सुरक्षा को लेकर कड़े इंतेजाम किये गए । इसके लिए 13 डीएसपी, 8 इंस्पेक्टर, 65 सब इंस्पेक्टर, 53 एएसआई समेत करीब 1000 पुलिस कर्मियों को प्रतिनियुक्त किया गया । इस दौरान पूरे मैदान को एसपीजी, जिला पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया था।

Posted By: Alok Shahi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप