रांची, राज्य ब्यूरो। लोकसभा चुनाव के तीसरे चरण (देश के छठे) में राज्य की चार सीटों गिरिडीह, धनबाद, जमशेदपुर तथा सिंहभूम में छिटपुट घटनाओं के बीच रविवार को लगभग शांतिपूर्ण ढंग से मतदान संपन्न हो गया। दो जगहों पर नक्सलियों ने थोड़ा दहशत फैलाने की कोशिश की, लेकिन उनका मंसूबा फेल हो गया। चक्रधरपुर अनुमंडल के गोइलकेरा में नक्सलियों ने तीन राउंड फायरिंग की, वहीं सिंहभूम के बंदगांव में बमबारी भी की। मतदाताओं ने भी उन्हें मुंहतोड़ जवाब देते हुए भयमुक्त होकर जमकर वोट किए।

इसी तरह, जमशेदपुर के जुगसलाई स्थित एक बूथ पर झामुमो और भाजपा समर्थकों के बीच पत्थरबाजी हुई। लिहाजा पुलिसकर्मियों को जहां लाठियां भांजनी पड़ी, वहीं आंसू गैस के गोले छोडऩे पड़े। इससे इतर डुमरिया में बंदूक तानने से नाराज वोटरों ने दो जवानों की पिटाई कर दी। अति नक्सल प्रभावित इन सीटों पर भी मतदाताओं ने जमकर मताधिकार का प्रयोग किया।

  • सिंहभूम में नक्सलियों की फायरिंग, बमबारी, दहशत फैलाने की कोशिश
  • जुगसलाई में भाजपा और झामुमो कार्यकर्ता भिड़े, पुलिस का लाठीचार्ज
  • सबसे अधिक 82.7 फीसद दिव्यांग मतदाताओं ने किया मतदान
  • सभी जगहों पर छिटपुट घटनाओं के बीच शांतिपूर्ण वोटिंग 
  • कई दिग्गजों समेत 67 उम्मीदवारों के भाग्य ईवीएम में कैद

सारंडा व पारसनाथ जैसे अति नक्सली क्षेत्र होने के बावजूद चारों सीटों पर कुल 64.46 फीसद वोटिंग हुई। गिरिडीह में 65.93, धनबाद में 59.60, जमशेदपुर में 66.44 तथा सिंहभूम में 67.79 फीसद मतदान हुआ। कुल दिव्यांग मतदाताओं में 82.7 फीसद ने मतदान किया। इससे पहले, भारी सुरक्षा के बीच 8,300 बूथों पर निर्धारित समय सुबह सात बजे मतदान शुरू हुआ जो शाम चार बजे तक चला। शुरुआत में कुछ बूथों पर ईवीएम व वीवीपैट मशीनों की खराबी की शिकायत आई, लेकिन समय पर उन्हें दुरुस्त कर मतदान शुरू कराया गया। मतदान के बाद कुल 67 उम्मीदवारों के भाग्य ईवीएम में कैद हो गए।  

सिंहभूम में हिंसा, चार नागरिक व चार पुलिसकर्मी घायल 
पश्चिमी सिंहभूम जिले के गोईलकेरा इलाकेमें नक्सलियों ने फायरिंग कर दहशत फैलाने की कोशिश की। यहां एक मतदान केंद्र के समीप चौकीबुरू पहाड़ से तीन राउंड फायरिंग की गई। हालांकि, इससे मतदान पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा। पुलिस ने सूचना मिलते ही मोर्चा संभाला और जवाबी फायरिंग की। वहीं सिंहभूम के बंदगांव में नक्सलियों ने बमबारी कर दहशत फैलाने की असफल कोशिश की। आइजी ऑपरेशन आशीष बत्रा के अनुसार, वहां आइडी ब्लास्ट व फायरिंग की सूचना है जिसकी जांच कराई जा रही है। उन्होंने किसी तरह के मुठभेड़ से इन्कार किया।

दूसरी तरफ, जमशेदपुर के जुगसलाई में संत जॉन स्कूल स्थित मतदान केंद्र पर भाजपा और झामुमो कार्यकर्ताओं में मारपीट के बीच पुलिस ने लाठीचार्ज किया। आंसू के गोले भी छोड़े गए। इसमें एक कांग्रेस कार्यकर्ता के हाथ टूट जाने की खबर है। आइजी ऑपरेशन के अनुसार, कार्यकर्ताओं की भिडंत के बाद उन्हें हटा दिया गया था, लेकिन मतदान केंद्र के पीछे बस्ती में पुलिस पर पथराव किया गया, जिसके बाद पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा। इसमें चार नागरिक तथा इतने ही पुलिस कर्मी घायल हुए हैं। चार लोगों को प्रारंभिक जांच के लिए हिरासत में लिया गया है। 

ये घटनाएं भी हुईं
- धनबाद में निर्दलीय प्रत्याशी सिद्धार्थ गौतम के प्रचार वाहन में करीब डेढ़ लाख रुपये नकद के साथ चार लोगों के पकड़े जाने की सूचना है।
-  जमशेदपुर के झामुमो उम्मीदवार चंपई सोरेन के बेटे बाबूलाल सोरेन को पुलिस ने आदर्श आचार संहिता उल्लंघन के मामले में धालभूमगढ़ से गिरफ्तार किया है। 

कब कितना हुआ मतदान
संसदीय क्षेत्र  2009  2014  2019 
गिरिडीह  45.98  64.25   65.93
धनबाद   45.07  60.53   59.60
जमशेदपुर 51.12  66.33  66.44
सिंहभूम   60.77  69.00  67.79 

इनका भाग्‍य ईवीएम में कैद
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा, मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी, वर्तमान सांसद सह पूर्व मंत्री पीएन सिंह, सांसद विद्युत वरण महतो, पूर्व मंत्री चंपाई सोरेन, विधायक जगरनाथ महतो, प्रसिद्ध क्रिकेट खिलाड़ी कीर्ति आजाद आदि। 

मतदान फीसद बढ़ना तय
मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एल खियांग्ते के अनुसार, शुरुआती आंकड़ों में धनबाद संसदीय सीट पर मतदान में 0.93 तथा सिंहभूम में 1.21 फीसद की आंशिक कमी आई है। वहीं, गिरिडीह में मतदान में 1.68 फीसद तथा जमशेदपुर में 0.11 फीसद की वृद्धि हुई है। इस तरह, शुरुआती आंकड़ों में सभी चारों सीटों पर कुल 0.07 फीसद की कमी आई है। लेकिन उन्होंने पूरी उम्मीद जताई है कि पीठासीन पदाधिकारियों से प्राप्त रजिस्टर की समीक्षा के बाद इन सीटों पर भी मतदान फीसद में बढ़ोत्तरी दर्ज होगी।

बता दें कि पूर्व के दो चरणों में सात सीटों पर संपन्न चुनाव में भी मतदान में बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है। मतदान बढऩे की बड़ी वजह 'दैनिक जागरण' की मानव शृंखला भी रही। मतदान के प्रति जागरूकता बढ़ाने के लिए 'दैनिक जागरण' ने राज्य के सभी जिलों में चुनाव आयोग और जिला प्रशासन के सहयोग से 22 अप्रैल को मानव शृंखला का आयोजन किया था। पूरे राज्य में 250 किमी की मानव शृंखला बनी थी।   

मतदान शांतिपूर्ण हुआ। मॉक पोल के दौरान गड़बड़ी पाए जाने पर 89 बैलेट यूनिट, 91 कंट्रोल यूनिट तथा 166 वीवीपैट बदले गए। इसी तरह मतदान के दौरान 66 बैलेट यूनिट, 32 कंट्रोल यूनिट और 222 वीवीपैट मशीनें बदली गईं। पीठासीन पदाधिकारियों के पास उपलब्ध रजिस्टरों की समीक्षा के बाद मतदान के फीसद में बढोतरी संभावित है। एल खियांग्ते, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी, झारखंड।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Alok Shahi