नई दिल्ली, [बिजेंद्र बंसल]। यदि चौटाला परिवार में फिर एकजुटता होती है और अभय चौटाला व दुष्‍यंत चौटाला एक साथ आते हैं तो हरियाणा की राजनीति में बड़े बदलाव होंगे। चौटाला परिवार की एकजुटता में हरियाणा में महागठबंधन के समीकरण भी छिपे हुए हैं। परिवार को एकजुट करने की खाप पंचायत प्रतिनिधियों की पहल पर सकारात्मक रुख दिखाकर इनेलो नेता अभय चौटाला ने बड़ा दांव खेला है। उन्‍होंने गेंद बड़े भाई अजय व भतीजे दुष्यंत चौटाला के पाले में डाल दी है। पूरे मामले में अजय चौटाला का रुख भी सकारात्‍मक बताया जा रहा है।

दुष्यंत और अजय चौटाला के पाले में गेंद डालकर अभय ने खेला बड़ा दांव

सबसे खास बात है कि दोनों भाइयों में अब तक रही तल्‍खी के भी कम हाेने संकेत मिले हैं। अभय चौटाला ने कहा है कि बड़े भाई अजय सिंह चौटाला जो फैसला करेंगे वह उन्‍हें मंजूर होगा। बताया जाता है कि दोनों भाइयों में संवाद मां स्‍नेहलता चौटाला के निधन के बाद उनकी अंतिम क्रिया के दौरान कायम हुआ। श्रद्धां‍जलि कार्यक्रम और अन्‍य क्रिया के दौरान दोनों की तल्‍खी में कमी आई।

इन सबके बीच माना जा रहा है कि खाप पंचायत प्रतिनिधियों की यह पहल कामयाब हुई तो हरियाणा की राजनीति में विपक्ष के महागठबंधन के नए समीकरण भी बन सकते हैं। अभय के सामने पंचायत का फरमान लेकर पहुंचे दलाल खाप के रमेश दलाल ने इस ओर इशारा भी किया। उन्होंने कहा कि पहले पंचायत प्रतिनिधि चौटाला परिवार को एकजुट करेंगे, इसके बाद खाप पंचायत हरियाणा में भाजपा को रोकने के लिए विपक्ष का महागठबंधन तैयार करने में भी भूमिका अदा करेगी। दलाल ने माना कि चौटाला परिवार एकजुट हो जाता है तो फिर भाजपा के सामने इनेलो,जजपा-बसपा सहित भूपेंद्र सिंह हुड्डा के नेतृत्व वाली पार्टी का एक महागठबंधन बन जाएगा।

-------------

भूपेंद्र सिंह हुड्डा की परेशानी से भी वाकिफ हैं पंचायत प्रतिनिधि

किसान नेता रमेश दलाल का कहना है कि देवीलाल परिवार ने किसानों के हितों में काफी कुछ कार्य किया है। इसलिए किसान चाहते हैं कि देवीलाल परिवार का दखल राजनीति में बना रहे। चौटाला परिवार की एकजुटता के प्रस्ताव की जरूरत संबंधी सवाल पर उन्होंने कहा कि पहले किसान के साथ एक भी घटना होती थी तो हरियाणा में सरकार बदल जाती थी मगर अब मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने समाज को बांट दिया है।

उन्‍होंने कहा कि किसान प्रदेश में जगह-जगह धरने पर बैठे हैं मगर सरकार सुन नहीं रही है। किसान वर्ग को अलग-थलग रखने की साजिश रची जा रही है। इसीलिए 36 बिरादरी की पंचायत ने यह बीड़ा उठाया है। दलाल कहते हैं कि पंचायत प्रतिनिधि पूर्व सीएम भूपेंद्र हुड्डा की राजनीतिक परेशानी से भी वाकिफ है मगर अभी पंचायत का ध्येय चौटाला परिवार को एकजुट करना है।

-------------

अभय ने अजय के समक्ष रखा था एकजुटता का प्रस्ताव

सूत्र बताते हैं कि अभय सिंह चौटाला ने अपनी दिवंगत मां स्नेहलता को श्रद्धांजलि कार्यक्रम के बाद 26 अगस्त को अपने बड़े भाई अजय सिंह चौटाला के समक्ष परिवार की एकजुटता का प्रस्ताव रखा था। इससे पहले पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल ने 21 अगस्त को दिवंगत स्नेहलता की श्रद्धांजलि कार्यक्रम के दौरान मंच से ही परिवार के बिखराव पर चिंता जाहिर की थी। अभय चौटाला बताते हैं कि उनके बड़े भाई अजय सिंह का रुख सकारात्मक है लेकिन अब उनका फैसला क्या होता है, यह उनसे जुड़े लोगों पर निर्भर है।

यह भी पढ़ें: 20 रुपये दिहाड़ी पर खेतों में कपास चुगती थी सतनाम कौर, अब बनेगी वेटरनरी डॉक्टर

 

-------

'' मैंने यह प्रस्ताव पंचायत से पहले खुद अपने बड़े भाई अजय सिंह चौटाला के समक्ष भी रखा था। अब पंचायत को भी मैंने यही कहा है कि मेरी तरफ से पंचायत का हर फैसले पर फूल चढ़ाए जाएंगे। परिवार की एकजुटता से लेकर महागठबंधन की पहल के लिए भी मेरी तरफ से हां है।

                                                                                                    - अभय सिंह चौटाला, नेता, इनेलो।

​​​​​-----------

सर्वखाप पंचायत की पहल पर यह बोले अभय चौटाला -

- खाप पंचायत के निर्णय को आप किस रूप में ले रहे हैं?

-पंचों में ईश्वर का रूप होता है। मैं मानता हूं कि वे समाज के भले में कर रहे हैं।

- क्या आप पंचायत का निर्णय मानेंगे?

-मैंने हमेशा समाज का सम्मान किया है। मैं और मेरी पार्टी पंचायत का हर निर्णय मानने के लिए तैयार हैं।

- क्‍या आप पंचायत के महागठबंधन के प्रारूप को भी मानेंगे?

- हां, क्यों नहीं, यदि महागठबंधन का प्रारूप पंचायत ने तैयार किया होगा तो हम जरूर मानेंगे।

-आपको लगता है कि अजय सिंह या दुष्यंत चौटाला पंचायत का निर्णय मानेंगे?

-यह निर्णय उन्हें करना है, मैं उनके मन की बात कैसे बता सकता हूं।

- एकजुटता पर आपकी अजय सिंह चौटाला क्या बात हुई?

यह भी पढ़ें: तो फिर एक हाेगा चौटाला परिवार, सर्वखाप ने उठाया बीड़ा, अभय बोले- अजय जो कहेंगे मानूंगा

-मैंने अजय सिंह जी से कहा है कि आप सार्वजनिक रूप से जो आदेश मुझे करेंगे, मैं उसे मानूंगा।

यह भी पढ़ें: तो फिर एक हाेगा चौटाला परिवार, सर्वखाप ने उठाया बीड़ा, अभय बोले- अजय जो कहेंगे मानूंगा

- पंचायत अब आपको कब बुलाएगी?

- पंचायत को मैंने कह दिया है कि मुझे बुलाने की जरूरत नहीं, उनका जो निर्णय होगा मैं उनके हर निर्णय को मानूंगा।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 




Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस