नई दिल्ली/सोनीपत, जागरण संवाददाता। तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ कुंडली बॉर्डर पर पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों के आंदोलनकारियों का धरना जारी है। कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते खतरे और प्रभाव के बीच भी संयुक्त किसान मोर्चा (Sanyukt Kisan Morcha) लगातार साढ़े चार महीने से चल रहे धरना प्रदर्शन से पीछे हटने के लिए तैयार नहीं है।

आलम यह है कि दिल्ली-एनसीआर समेत पूरे देश में कोरोना वायरस संक्रमण बेकाबू है, लेकिन किसान नेता आंदोलन जारी रखने के रुख पर अड़े हैं। लॉकडाउन जैसी स्थिति में भी किसान आंदोलन को जारी रखने का एलान कर चुके किसान नेता लगातार ऐसे बयान दे रहे हैं, जिससे लगता नहीं है कि धरना प्रदर्शन अगले कुछ महीनों में खत्म होने वाला है।

इस बीच बुधवार को कुंडली बॉर्डर पर पहुंचे भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait, National Spokesperson of Bharatiya Kisan Union) ने कहा कि सरकार आंदोलन को जबरन खत्म नहीं करवा सकती। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि केंद्र सरकार यह न सोचे कि दबाव डालकर धरने से लोगों को घर भेज दिया जाएगा। अगर केंद्र सरकार ने जबरदस्ती की तो गांवों में किसी भी भाजपा नेता को घुसने नहीं दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन लगने के बावजूद आंदोलन नहीं थमेगा। राकेश टिकैत बुधवार को राई स्थित एक ढाबे पर प्रेसवार्ता कर रहे थे।

ये भी पढ़ेंः Kisan Andolan: देखें वीडियो, एक तरफ कोरोना का कहर दूसरी ओर आंदोलन में रोजा इफ्तार का आयोजन, बन रहे सुपर स्प्रेडर

कोरोना टेस्ट करवाने से घबरा रहे प्रदर्शनकारी, संयुक्त किसान मोर्चा के सदस्य मंजीत राय को सरकार पर शक

यूपी व हरियाणा से दिल्ली में नहीं आने दी जा रही ऑक्सीजन, प्लांट पर तैनात की पुलिस; दखल दे केंद्र: मनीष सिसोदिया

उधर, भाकियू के नेता गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने ढाबा मालिक रामसिंह राणा द्वारा धरने पर आरओ का पानी और आटा मुहैया करवाने के लिए आभार जताया। गुरनाम सिंह चढ़ूनी ने कहा कि जो भी व्यक्ति आंदोलन की मदद करता है, उसको केंद्र सरकार ईडी के जरिये नोटिस भिजवा देती है।

ये भी पढ़ेंः नोएडा व ग्रेटर नोएडा के कोविड अस्पतालों में आक्सीजन की भारी किल्लत, कुछ घंटे का बचा स्टाक

Delhi Oxygen Supply: दिल्ली में एक इलाका ऐसा भी, जहां मुफ्त मिल रही है ऑक्सीजन

यहां पर बता दें कि दिल्ली-एनसीआर के चारों बॉर्डर (टीकरी, सिंघु, शाहजहांपुरऔ गाजीपुर) पर किसानों का धरना पिछले साल 28 नवंबर से ही जारी है। किसान प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व कर रहे संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं का कहना है कि जब तक तीनों केंद्रीय कृषि कानून पूरी तरह से वापस नहीं ले लिए जाते, तब तक आंदोलन खत्म करने का तो सवाल ही नहीं उठता है।

ये भी पढ़ेंः गौतम गंभीर कोरोना मरीजों के लिए मुफ्त में बांट रहे ये दवा, बाजार में बड़ी मुश्किल से है उपलब्ध

ये भी पढ़ेंः दिल्ली को रोजाना 700 टन आक्सीजन चाहिए, संकट की घड़ी में करें मददः केजरीवाल

Oxygen Emergency: हरियाणा, राजस्थान और उत्तर प्रदेश के हाथों में है दिल्ली के लोगों की जीवन की डोर

Kisan Andolan: इंटरनेट मीडिया पर वायरल इफ्तार पार्टी के वीडियो पर राकेश टिकैत ने दी सफाई

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप