जागरण संवाददाता, पश्चिमी दिल्ली। शुक्रवार से शुरू हुए घर-घर जाकर सर्वे में पश्चिमी जिले में शनिवार तक 44 हजार 39 घरों का सर्वे हो चुका है। जिसमें 349 लोगों में लक्षण पाए गए है। इन संक्रमितों की आरटी-पीसीआर कोरोना जांच कराई गई है।

उपायुक्त नेहा बंसल ने बताया कि सर्वे के लिए 1200 कर्मचारियों की टीम गठित की गई है। जिसमें अध्यापक, बूथ लेवल ऑफिसर, एएनएम व आशा वर्कर शामिल है। 90 कर्मचारियों को टीम का इंचार्ज बनाया गया है, जो संबंधित सब-डिवीजन के एसडीएम के नेतृत्व में जिले के हॉटस्पॉट में जाकर सर्वे कर रहे है। पांच दिन के इस सर्वे में टीम को एक लाख 75 हजार घरों में करीब सात लाख लोगों का सर्वे सुनिश्चित करना है।

नेहा बंसल ने बताया कि कोरोना संक्रमण के प्रसार पर रोकथाम के लिए चालान की संख्या को बढ़ा दिया गया है। प्रशासनिक टीम नियमित रूप से 600 चालान जारी कर रही है। इसके अलावा पुलिस, स्वास्थ्य विभाग व निगम की टीमें भी अपने-अपने स्तर पर लापरवाही को लेकर चालान जारी कर रही है। पिछले सप्ताह के आंकड़ों की बात करें तो मास्क नहीं लगाने व ठीक से नहीं लगाने को लेकर 5,892, शारीरिक दूरी को लेकर 162 आैर सार्वजनिक स्थान पर थूकने को लेकर 58 चालान जारी किए गए है। जिससे 28 लाख 80 हजार 500 रुपये का रेवन्यू अर्जित किया गया है।

वहीं शनिवार तक जिले में 690 कंटेनमेंट जोन बनाए जा चुके है। जिले में कोरोना जांच की संख्या को भी बढ़ा दिया गया है। विशेषकर बाजारों में दुकानदारों व उनके यहां कार्यरत कर्मचारियों की आरटी-पीसीआर जांच सुनिश्चित की जा रही है। शनिवार को राजौरी गार्डन बाजार में 116, नांगलोई बाजार में 63, पीरागढ़ी बाजार में 61, ज्वालाहेड़ी बाजार में 61, निहाल विहार स्थित चंद्र विहार बाजार में 61 और सुभाष नगर बाजार में 50 लोगों के आरटी-पीसीआर जांच के लिए सैंपल लिए गए थे।

बाजारों में स्वास्थ्य विभाग के नियम का पालन हो इसके लिए मार्केट एसोसिएशन को इंफोर्समेंट टीम के साथ संबद्ध कर दिया गया है, ताकि जरूरत पड़ने पर कार्रवाई हो सके। हालांकि मार्केट एसोसिएशन ने बाजार में नियम का पालन कराने का प्रशासन को आश्वासन दिया है।  

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस