जागरण संवाददाता नई दिल्ली : पैगंबर मोहम्मद पर नुपुर शर्मा की विवादास्पद टिप्पणी के बाद फैक्ट चे¨कग के नाम पर हिंसा को भड़काने वाले आल्ट न्यूज के सह-संस्थापक मुहम्मद जुबैर को दिल्ली पुलिस ने सोमवार रात को गिरफ्तार कर लिया। आरोप है कि जुबैर इंटरनेट मीडिया पर पोस्ट कर समाज में घृणा फैलाने, धार्मिक भावनाओं को आहत करने और देश की छवि खराब करने में जुटा था। जुबैर को रात को ही पटियाला हाउस कोर्ट के ड्यूटी मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश कर एक दिन के पुलिस रिमांड पर लिया गया है। इस बीच जुबैर के वकील की तरफ से जमानत अर्जी दाखिल की गई, जिसे खारिज कर दिया गया

हालांकि, वकील को दिन में 30 मिनट मिलने की अनुमति दी गई है। पुलिस की तरफ से अदालत को बताया गया कि आरोपित ने जांच में सहयोग नहीं किया है। मुहम्मद जुबैर को सोमवार को पाक्सो के एक मामले में पूछताछ के लिए बुलाया गया था, जिसमें हाई कोर्ट से गिरफ्तारी पर रोक लगी है। उक्त मामले में पूछताछ के बहाने साइबर सेल ने इंटरनेट मीडिया पर घृणा फैलाने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया।

डीसीपी साइबर सेल केपीएस मल्होत्रा के मुताबिक, बीते एक महीने में कई आपत्तिजनक ट्वीट भी लोगों ने किए हैं। इसको लेकर काफी विवाद हुआ था। इंटरनेट मीडिया को खंगालने के बाद साइबर सेल ने 19 एफआइआर दर्ज की थीं। एफआइआर में नेता और पत्रकार सहित कई लोगों को नामजद किया गया था। एक एफआइआर में साइबर सेल ने 32 लोगों को आरोपित बनाया था।

सोमवार को साइबर सेल ने पाक्सो के एक पुराने मामले में पूछताछ के लिए आल्ट न्यूज के सह-संस्थापक पत्रकार जुबैर को बुलाया था। पूछताछ के बाद सेल ने उसे गिरफ्तार कर लिया।

डीसीपी का कहना है कि जुबैर के खिलाफ पर्याप्त साक्ष्य मिले हैं। उसे मंगलवार को अदालत के समक्ष पेश कर रिमांड पर लिया जाएगा। उसपर फैक्ट चेकिंग के नाम पर लोगों की धार्मिक भावनाओं को आहत करने का आरोप है।

बीते दिनों भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नुपुर शर्मा और निष्कासित नेता नवीन कुमार जिंदल की पैगंबर मुहम्मद के खिलाफ विवादास्पद टिप्पणी को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शन हुआ था। कुछ जगहों पर हिंसा भड़क गई थी। माना जाता है कि इन प्रदर्शनों को मुहम्मद जुबैर ने हवा दी थी।

क्या कहा पुलिस ने?

दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि मोहम्मद जुबैर ने एक विवादित फोटो ट्विटर पर शेयर किया था। जिस पर एक एक ट्विटर यूजर ने अपना गुस्सा जाहिर करते हुए दिल्ली पुलिस से शिकायत करते हुए मोहम्मद जुबैर पर कार्रवाई की मांग की थी।

पुलिस ने बताया कि मोहम्मद जुबैर ने द्वारा शेयर की गईं ये तस्वीरें और शब्द काफी भड़काऊ वाले हैं। जिन्हें जान बूझकर शेयर किया गया था। जो लोगों के बीच नफरत को भड़काने के लिए पर्याप्त हैं और सार्वजनिक शांति बनाए रखने के लिए नुकसानदायक हो सकते हैं।

जुबैर के सहयोगी ने किया ट्वीट

आल्ट न्यूज के सह संस्थापक प्रतीक सिन्हा ने बताया कि उनके सहयोगी मोहम्मद जुबैर को सोमवार को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने 2020 के एक मामले में जांच के लिए बुलाया था, जिसके लिए उन्हें पहले से ही हाइ कोर्ट से गिरफ्तारी पर रोक थी।

ये भी पढ़ें- Delhi News: जानिए कौन है आल्ट न्यूज के फाउंडर व पत्रकार मोहम्मद जुबैर, किस आरोप में पुलिस ने किया गिरफ्तार

हालांकि, शाम करीब 07 बजे बताया गया कि उन्हें किसी अन्य मामले में गिरफ्तार किया गया है। जिसके लिए कोई नोटिस नहीं दिया गया था। जिन धाराओं के तहत उन्हें गिरफ्तार किया गया है, कानून के तहत हमें अभी तक एफआइआर की कापी नहीं दी गई है।

Edited By: Geetarjun Gautam