नई दिल्ली [संतोष कुमार सिंह]। दिल्ली की जहरीली हो रही हवा के बीच प्रदूषण को लेकर सियासत शुरु हो गई है। भाजपा ने इसे लेकर आंदोलन की तैयारी शुरू कर दी है। इसी कड़ी में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से नेताओं के साथ संवाद किया। उन्होंने कहा कि प्रदूषण की समस्या हल करने के लिए दिल्ली सरकार गंभीर नहीं है। जरूरी कदम नहीं उठाए जा रहे हैं। पराली जलाने की समस्या पुरानी है, लेकिन सरकार इसे हल नहीं कर रही है। पहले कोरोना मरीजों को और अब प्रदूषण से बेहाल लोगों को उनके हाल पर छोड़ दिया गया है।

उन्होंने कहा कि अरविंद केजरीवाल सरकार अमेरिका के विश्वविद्यालय के साथ मिलकर मार्च 2020 तक रिपोर्ट तैयार करके जून तक दो घंटे में प्रदूषण के कारणों का पता लगाने का दावा कर रही थी। सरकार को बताना चाहिए कि उस घोषणा का क्या हुआ? इसी तरह से केजरीवाल सरकार के ग्रीन बजट में 26 प्रमुख घोषणाएं की गई लेकिन कुछ एक को छोड़कर एक भी घोषणा जमीन पर नहीं दिखी। सुप्रीम कोर्ट से फटकार मिलने के बाद भी स्मॉग टावर नहीं लगाए गए। मेट्रो फेज 4 के काम को भी लटकाए रखा गया। एक हजार इलेक्ट्रिक बसों का वादा किया था लेकिन केंद्र सरकार से मंजूरी मिलने के बाद भी एक भी बस नहीं आ सकी है। उन्होंने नेताओं व कार्यकर्ताओं से दिल्ली सरकार की नाकामी को लोगों को बताने और समस्या के समाधान में योगदान देने का आह्वान किया। उन्होंने इस दिशा में केंद्र सरकार द्वारा उठाए गए कदमों की भी जानकारी दी।

वर्चुअल संवाद में दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी, प्रदेश भाजपा संगठन महामंत्री सिद्धार्थन, प्रदेश महामंत्री कुलजीत सिंह चहल, हर्ष मल्होत्रा व दिनेश प्रताप सिंह, मीडिया प्रमुख नवीन कुमार, सोशल मीडिया प्रमुख पुनीत अग्रवाल सहित अन्य पदाधिकारी, जिला अध्यक्ष, मंडल अध्यक्ष एवं कार्यकर्ता शामिल हुए।

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021