नई दिल्ली। क्रिकेट जगत को झकझोर कर रख देने वाले आइपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले में लिप्त राजस्थान रॉयल्स के तेज गेंदबाज एस श्रीसंत और स्पिनर अंकित चव्हाण पर बीसीसीआइ की अनुशासन समिति ने शुक्रवार को आजीवन प्रतिबंध का फैसला सुनाया।

पढ़ें: किस तरह करते थे खिलाड़ी मैच फिक्स

बोर्ड ने हालांकि इस मामले में अन्य आरोपियों के साथ थोड़ी नरमी बरतते हुए उन्हें कम सजा सुनाई। राजस्थान रॉयल्स के पूर्व खिलाड़ी अमित सिंह पर पांच साल का प्रतिबंध लगाया गया, जबकि रॉयल्स के ही एक अन्य क्रिकेटर सिद्धार्थ त्रिवेदी को एक साल के प्रतिबंध की सजा सुनाई गई। बीसीसीआइ की अनुशासन समिति ने भ्रष्टाचार रोधी प्रमुख रवि सवानी की रिपोर्ट पर चर्चा के लिए बैठक करने के बाद यह सजा सुनाई। इस समिति की अध्यक्षता एन श्रीनिवासन ने की। समिति के सदस्यों में अरुण जेटली और निरंजन शाह शामिल हैं।

पढ़ें: आइपीएल फिक्सिंग के बारे में था क्यूं था आइसीसी बेबस?

बीसीसीआइ सचिव संजय पटेल ने फैसले की जानकारी देते हुए कहा, 'रिकॉर्ड में मौजूद साक्ष्यों पर विचार करने और प्रत्येक खिलाड़ी को निजी तौर पर सुनने के बाद, अनुशासन समिति ने यह आदेश दिया है।' ये खिलाड़ी अब सजा के समय तक किसी भी तरह के क्रिकेट खेलने या किसी भी तरह से बीसीसीआइ या उससे मान्यता प्राप्त इकाइयों की गतिविधियों से जुड़ नहीं सकेंगे। पटेल ने बताया कि युवा स्पिनर हरमीत सिंह को उनके खिलाफ ठोस सबूतों की कमी के कारण छोड़ दिया गया।

बैठक के दौरान मामले में एक अन्य मुख्य अभियुक्त रहे अजित चंदीला का जिक्र नहीं हुआ, क्योंकि चंदीला की अभी तक रवि सवानी की समिति के सामने पेशी नहीं हुई है। चूंकि चंदीला को जमानत पर रिहा कर दिया गया है लिहाजा बीसीसीआइ उसे समिति के सामने पेश होने का एक मौका देगी जिसके बाद ही उसकी सजा पर फैसला लिया जाएगा।

श्रीसंत और चव्हाण पर आजीवन प्रतिबंध लगना तय था क्योंकि सवानी ने उन्हें स्पॉट फिक्सिंग का दोषी बताकर खुद इस सजा की सिफारिश की थी। सवानी ने श्रीसंत, चंदीला और चव्हाण को रिश्वत के बदले प्रति ओवर निर्धारित रन देने के लिए दोषी पाया। त्रिवेदी और 21 बरस के हरमीत को स्पॉट फिक्सिंग का दोषी नहीं पाया गया, लेकिन उन्हें सटोरियों द्वारा किए गए संपर्क की जानकारी नहीं देने का कसूरवार पाया गया।

किसे मिली कितनी सजा एस श्रीसंत : आजीवन प्रतिबंध

अंकित चव्हाण : आजीवन प्रतिबंध

अमित सिंह : पांच साल

सिद्धार्थ त्रिवेदी : एक साल

अजित चंदीला : फैसला सुरक्षित

हरमीत सिंह : माफी

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

Aus-vs-Ind

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस