नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। इंडिया पोस्ट या डिपार्टमेंट ऑफ पोस्ट, जो कि देश का पोस्टल सिस्टम है काफी सारी बचत योजनाओं की पेशकश करता है जिन पर अलग-अलग ब्याज दर उपलब्ध करवाई जाती है। सुकन्या समृद्धि एक ऐसी ही योजना है जिसका संचालन इंडिया पोस्ट करता है। देश के प्रमुख बैंकों और पोस्ट ऑफिसेज में गर्ल चाइल्ड के नाम पर यह खाता खुलवाया जा सकता है।

सुकन्या समृद्ध स्कीम को जनवरी 2015 में लॉन्च किया गया था, जिस पर वर्तमान में 8.5 फीसद (सालाना) की दर से ब्याज दर मुहैया करवाई जा रही है। यह जानकारी इंडिया पोस्ट की आधिकारिक वेबसाइट indiapost.gov.in पर दर्ज है।

सुकन्या समृद्धि स्कीम के बारे में जरूरी बातें जो आपको जाननी चाहिए:

  • खोले जा सकते हैं कितने अकाउंट: बच्ची के लीगल गार्जियन की ओर से खाता खुलवाया जा सकता है। एक व्यक्ति सिर्फ एक ही अकाउंट खुलवा और उसका संचालन कर सकता है। वहीं दो अलग-अलग बेटियों के नाम पर अधिकतम दो अकाउंट ही खुलवाए जा सकते हैं।
  • उम्र: यह खाता बच्ची के जन्म लेने से लेकर उसके 10 वर्ष तक का होने तक खुलवाया जा सकता है।
  • कितनी जमा कर सकते हैं धनराशि: इस खाते में एक वित्त वर्ष के दौरान न्यूनतम 250 रुपये और अधिकतम 1,50,000 रुपये जमा कराए जा सकते हैं। इसमें जमा कराई जाने वाली राशि 100 के गुणकों में होनी चाहिए।
  • कितना मिलता है ब्याज: सुकन्या समृद्धि योजना खाते में जमा की जाने वाली राशि पर 8.5 फीसद की दर से सालाना ब्याज दिया जाता है, जिसकी गणना सालाना आधार पर की जाती है।
  • कितनी बार जमा करा सकते है पैसा: इसमें जमा की जाने वाली राशि को एकमुश्त भी जमा कराया जा सकता है। वहीं इसमें जमा की कोई सीमा तय नहीं है।
  • पेनाल्टी: अगर आप एक वित्त वर्ष के दौरान 250 रुपये जमा कराने से चूक जाते हैं तो सुकन्या समृद्धि अकाउंट को रोक दिया जाता है और इसे मिनिमम अमाउंट के साथ 50 रुपये प्रति वर्ष की पेनाल्टी जमा कराने के साथ ही फिर से शुरू करवाया जा सकता है।
  • टैक्स का फायदा: सुकन्या समृद्धि अकाउंट में जमा की गई राशि और मैच्योरिटी के वक्त मिलने वाली राशि आयकर की धारा 80C के अंतर्गत करमुक्त होती है। यानी यह टैक्स बचत के लिहाज से भी बेहतर योजना है।
  • मैच्योरिटी पूर्व निकासी: इस खाते में मैच्योरिटी पूर्व निकासी की भी सुविधा मिलती है। लड़की के 18 वर्ष पूरे होने के बाद उसी की ओर से इसे निकाला जा सकता है। उच्च शिक्षा या शादी जैसे कामों के लिए खाते में पड़ी 50 फीसद राशि को इस सूरत में निकाला जा सकता है। वैसे इस खाते में जमा पैसे को लड़की के 21 साल पूरे होने पर ही निकाले जाने का प्रावधान है।
  • मैच्योरिटी पूर्व खाते को बंद करवाना: इंडिया पोस्ट की वेबसाइट के मुताबिक अगर लड़की की उम्र 18 वर्ष की हो गई है और उसकी शादी भी हो गई है तो यह सुविधा मिलती है।
  • खाता बंद करवाना: खाताधारक यानी लड़की के 21 वर्ष होने पर इसे बंद करवाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: बंद हो चुके पीपीएफ अकाउंट को कैसे कराएं फिर से एक्टिव, जानिए अपने काम की हर बात

Posted By: Praveen Dwivedi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप