नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। प्राइवेट नौकरी आपको पैसा तो मनमर्जी का दे सकती है, लेकिन अक्सर ऐसी नौकरियों में कर्मचारियों को सुकून नहीं मिलता। आमतौर पर देखा जाता है कि काफी सारे कर्मचारी बहुत ही जल्द नौकरी छोड़कर सुकून से काम करने और पैसा कमाने का कोई दूसरा जरिया ढूंढने लग जाते हैं। ऐसा करना उतना भी आसान नहीं होता है जितना कि मालूम पड़ता है।

हालांकि, अगर आप अपनी नौकरी के सेवा वर्षों के दौरान सूझबूझ से काम लें तो नौकरी छोड़ने से पहले इतना इंतजाम जरूर कर सकते हैं कि आपकी नौकरी न रहने पर भी आपके मंथली इनकम का इंतजाम हो सकता है। अगर आप भी इन तरीकों के बारे में जानना चाहते हैं तो हमारी यह खबर आपके काम की है।

ऐसी कंपनियों के शेयर्स खरीद लें जो डिविडेंट देते हों: केडिया कमोडिटीज के प्रमुख अजय केडिया ने बताया कि अगर आपको शेयर बाजार में निवेश करना पसंद है और आपको यह जोखिम भरा नहीं लगता है तो आपको ऐसी कंपनियों के शेयर्स खरीदने चाहिए जो कि डिविडेंट देते हैं। ऐसे में अगर कंपनी बढ़िया प्रदर्शन कर रही है तो आपके शेयर का भाव तो बढ़ेंगे ही, साथ ही आप डिविडेंट के मिले पैसों को किसी अन्य निवेश विकल्प में खपाकर कमाई के अन्य स्रोत पैदा कर सकते हैं। काफी सारी कंपनियां 6 से 9 फीसद तक का डिविडेंट दे देती हैं। यह एक अच्छा-खासा अमाउंट होता है जो कि आपको सालाना आधार पर मिलता रहेगा, जिसका इस्तेमाल आप कहीं पर भी कर सकते हैं।

पोस्ट ऑफिस मंथली इनकम स्कीम: अगर आप नौकरीपेशा हैं और चाहते हैं कि नौकरी के अलावा भी आपको हर महीने 5 से 6 हजार रुपये तक की इनकम होने लगे तो पोस्ट ऑफिस की एक खास स्कीम आपकी इस इच्छा को पूरा कर सकती है। हालांकि, आपको इस स्कीम में एकमुश्त निवेश करना होगा और इस स्कीम के तहत आपको अधिकतम 5500 रुपये हर महीने इनकम की गारंटी मिल जाएगी। अगर आप इस खाते में 9 लाख रुपये का एकमुश्त निवेश कर देते हैं तो आपकी इस जमा राशि पर मिलने वाला सालाना ब्याज करीब 65,700 रुपये के आस-पास होगा। इस लिहाज से आपको हर महीने लगभग 5500 रुपये (5475 रुपये) की आय होने लग जाएगी। इतना ही नहीं आपका 9 लाख रुपये मैच्योरिटी पीरियड के बाद कुछ और बोनस जोड़कर आपको वापस दे दिया जाएगा।

उदाहरण के तौर पर अगर आप फिलहाल 30 वर्ष के हैं और मात्र 15-20 वर्ष और नौकरी करना चाहते हैं तो आप इन तीन शानदार विकल्पों को आजमा सकते हैं। ये आपको आर्थिक मजबूती देने का काम कर सकते हैं।

म्युचुअल फंड के सिप विकल्प को आजमाएं: प्राइवेट नौकरी हो या फिर सरकारी आज के समय में कोई भी लंबे समय तक काम करना पसंद नहीं करता। हर कोई चाहता है कि 40 और 50 की उम्र के आस-पास ही उसको आराम की नौकरी मिल जाए, जिसमें बिना किसी टेंशन के उसका गुजारा चलता रहे। या फिर अगर आप जवानी में ही रिटायर होकर अपनी बाकी की जिंदगी आराम से काटना चाहते हैं तो इसके लिए आपको एक खास तरह के निवेश विकल्प को अपनाना होगा। इस विकल्प का नाम है- सिप।

अगर आप 30 वर्ष के हैं और 50 वर्ष की उम्र में रिटायर होना चाहते हैं तो आपको 50 वर्षों तक यानी अगले 20 वर्षों तक मासिक आधार पर 15,000 रुपये का निवेश जारी रखना होगा। अगर आपकी सैलरी 60,000 रुपये से 80,000 रुपये के आसपास है तो यह एक बेहतर स्थिति होती है। आप इस सैलरी में से 15,000 रुपये की मासिक बचत आराम से कर सकते हैं। इसी बचत का निवेश करना शुरू करें। मासिक आधार पर 15,000 रुपये का सालाना निवेश अगर आप अगले 20 वर्षों तक जारी रखते हैं तो आप 15 फीसद के अनुमानित सालाना रिटर्न के आधार पर 1 करोड़ रुपये का फंड जुटा चुके होंगे।

मासिक आमदनी का ऐसे करें इंतजाम: अब आपको मासिक आमदनी के लिए इस पैसे को सिस्टमैटिक विदड्रॉअल प्लान में डालना होगा। सिस्टमैटिक विदड्रॉअल प्लान (SWP) सिप से ठीक उलट स्थिति है। यानी इसमें आपके खाते में हर महीने पैसे आते रहते हैं। सिस्टमैटिक विदड्रॉअल प्लान के लिए आपको म्युचुअल फंड कंपनी को जानकारी देनी होती है और एक फॉर्म भरना होता है। अगर आप पूरे 1 करोड़ को एसडब्ल्यूपी में ट्रांसफर करते हैं तो आपको औसतन 6 फीसद के सालाना विदड्रॉअल रेट के हिसाब से एक साल में 6 लाख यानी हर महीने 50,000 रुपये मिलना शुरू हो जाएंगे।

यह भी पढ़ें: Happy New Year 2019: नए साल में निवेश पर कौन-सी सरकारी स्कीम देगी बेहतर रिटर्न, किसमें होगा फायदा

पोस्ट ऑफिस के इन सेविंग स्कीम में मिलता है टैक्स का लाभ, जानिए इसकी खासियत

Posted By: Praveen Dwivedi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप