नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। भारतीय स्टेट बैंक (SBI) ने ग्राहकों को ऑनलाइन धोखाधड़ी के बढ़ते मामलों के प्रति सचेत रहने को कहा है, क्योंकि देश भर में केवाईसी धोखाधड़ी के कई मामले सामने आए हैं। गुरुवार 17 जून को SBI ने ट्विटर पर एक अलर्ट जारी किया, जिसमें ग्राहकों को ऐसे उदाहरणों की चेतावनी दी गई है जहां जालसाजों ने अपने ग्राहक को जानिए (केवाईसी) सत्यापन के साथ लोगों को धोखा दिया है। एसबीआई ने कहा कि केवाईसी धोखाधड़ी के मामलों में जालसाज ग्राहक के व्यक्तिगत जानकारी लेने के लिए बैंक या कंपनी के प्रतिनिधि होने का नाटक करते हुए एक टेक्स्ट संदेश भेजते हैं।

यह भी पढ़ें: आपके Aadhaar का कहां-कहां हुआ है इस्तेमाल, घर बैठे ऐसे लगाएं पता

हाल ही में SBI ने देश में COVID-19 महामारी की दूसरी लहर के बीच लॉकडाउन प्रतिबंधों के कारण ईमेल या पोस्ट के माध्यम से केवाईसी अपडेट के लिए दस्तावेजों की स्वीकृति की अनुमति देने का निर्णय लिया। बैंक ने ग्राहकों को ऑनलाइन धोखाधड़ी के ऐसे सभी मामलों की रिपोर्ट https://www.cybercrime.gov.in/ पर करने को कहा है।

केवाईसी धोखाधड़ी के बढ़ते मामलों के बीच भारतीय स्टेट बैंक ने तीन सुरक्षा उपाय साझा किए हैं, जिनसे ग्राहक अपने खातों को सुरक्षित रख सकते हैं:

यह भी पढ़ें: आधार असली है या नकली, आसानी से लगा सकते हैं पता

 

  • किसी भी लिंक पर क्लिक करने से पहले सोचें
  • बैंक कभी भी केवाईसी अपडेट करने के लिए लिंक नहीं भेजता है
  • अपना मोबाइल नंबर और गोपनीय डेटा किसी के साथ साझा न करें 

यह भी पढ़ें: कोरोना महामारी की दूसरी लहर से एक करोड़ लोग हुए बेरोजगार, 97 प्रतिशत परिवारों की आय घटी: रिपोर्ट

 

 

Edited By: Nitesh