नई दिल्ली, ब्लूमबर्ग। चीन अब अमेरिका को पछाड़ कर दुनिया का सबसे अमीर देश बन गया है। पिछले दो दशकों में वैश्विक संपत्ति तीन गुना होने के कारण चीन ने दुनिया के सबसे अमीर देश अमेरिका को पीछे छोड़ दिया है। मैकिन्से एंड कंपनी के रिसर्च आर्म ने यह जानकारी दी है। यह रिपोर्ट आय के 60 प्रतिशत से अधिक का प्रतिनिधित्व करने वाले 10 देशों की राष्ट्रीय बैलेंस शीट की जांच के बाद तैयार की गई है। ब्लूमबर्ग टीवी के साथ एक इंटरव्यू में ज्यूरिख में मैकिन्से ग्लोबल इंस्टीट्यूट के एक पार्टनर जान मिशके ने कहा, हम अब पहले से कहीं ज्यादा अमीर हैं।

यह भी पढ़ें: आपके Aadhaar का कहां-कहां हुआ है इस्तेमाल, घर बैठे ऐसे लगाएं पता

मैकिन्से एंड कंपनी द्वारा किए गए शोध के अनुसार 2020 में 156 ट्रिलियन डॉलर से 2020 में दुनिया भर में शुद्ध संपत्ति बढ़कर 514 ट्रिलियन डॉलर हो गई। चीन दुनिया भर में लिस्ट में सबसे ऊपर उभरा, जो लगभग एक तिहाई वृद्धि दर्शाता है। 2020 में चीन की संपत्ति बढ़कर 120 ट्रिलियन डॉलर हो गई, जो 2000 में सिर्फ 7 ट्रिलियन डॉलर थी। यह 20 वर्षों में 113 ट्रिलियन डॉलर की छलांग को दिखाता है, इसकी मदद से चीन अमेरिका को पीछे छोड़ दुनिया के सबसे अमीर देश का तमगा अपने नाम कर चुका है। इसी अवधि के दौरान, अमेरिका की कुल संपत्ति दोगुने से अधिक $90 ट्रिलियन बढ़ी। हालांकि, संपत्ति की कीमतों में कम वृद्धि के कारण अमेरिका चीन को नहीं हरा सका।

यह भी पढ़ें: आधार से आपका पैन लिंक है या नहीं, घर बैठे ऐसे करें चेक

10 प्रतिशत अमीरों के पास है सबसे ज्यादा संपत्ति

ब्लूमबर्ग द्वारा पेश किए गए मैकिन्से एंड कंपनी की रिपोर्ट के अनुसार, गौर करने वाली बात यह है कि अमेरिका और चीन दोनों में दो-तिहाई से अधिक धन सबसे अमीर 10 प्रतिशत परिवारों के पास है, और उनका हिस्सा बढ़ रहा है।

Edited By: Nitesh