नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। क्रेडिट कार्ड की मदद से एटीएम से पैसों की निकासी सुविधाजनक मालूम पड़ती है। इंस्टेंट कैश फीचर के अलावा, यह एक्सेसिबिलिटी है जो मायने रखती है, आप किसी भी वक्त एटीएम का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके अलावा एटीएम से पैसों की निकासी के लिए न ही बैंक की मंजूरी की जरूरत होती है और न किसी डॉक्यूमेंट की। लेकिन यह सहूलियत बड़ी लागत लेती है।

क्रेडिट कार्ड की मदद से एटीएम से पैसे निकालने पर जो ब्याज और शुल्क लगता है वो काफी ज्यादा होता है। एक और बात जो हमेशा ध्यान में रखनी चाहिए वो यह है कि अगर कार्ड होल्डर मिनिमम ड्यू अमाउंट का भुगतान करने से चूक जाता है तो उसका क्रेडिट स्कोर बुरी तरह से प्रभावित होता है। जानिए एटीएम से कैश निकासी के लिए क्यों नहीं करना चाहिए क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल।

कैश एडवांस फीस: यह शुल्क हर बार क्रेडिट कार्ड की मदद से नकद निकासी पर लगाया जाता है। यह शुल्क 2.5 फीसद से 3 फीसद तक हो सकता है जो कि निकासी का राशि पर निर्भर करता है। यह न्यूनतम राशि 300 स 500 रुपये के आस पास हो सकती है। यह शुल्क आपके अगले महीने के बिल में दिखाई देता है, जिसकी किश्त आपको चुकानी होती है।

फाइनेंस चार्ज: इसका भुगतान विदड्रॉअल अमाउंट पर किया जाता है, इसकी दर भी एडवांस फीस की ही तरह होती है। यह चार्ज विदड्रॉअल की तारीख से लेकर तब तक चलता है जब तक कि पूरा भुगतान नहीं हो जाता है।

ब्याज दर: क्रेडिट कार्ड की मदद से एटीएम से कैश निकासी पर आपको अधिकतम 4 फीसद तक का मासिक ब्याज (48 फीसद सालाना) देना पड़ सकता है। यह बैंक के हिसाब से अलग अलग भी हो सकता है। यह ट्रांजेक्शन की तारीख से लेकर इसके भुगतान तक की अवधि के लिए लगता है। इसलिए यह काफी खर्चीला है।

कोई रिवार्ड प्वाइंट नहीं: यह मायने नहीं रखता है कि ट्रांजेक्शन की राशि कितनी बड़ी है। क्रेडिट कार्ड से की गई कैश निकासी पर कोई भी रिवार्ड प्वाइंट नहीं दिया जाता है।

क्रेडिट स्कोर पर असर: क्रेडिट कार्ड की मदद से नकदी निकासी आपके क्रेडिट स्कोर पर नकारात्मक असर डाल सकती है, क्योंकि यह कार्ड होल्डर की बुरी वित्तीय स्थिति को बताता है।

यह भी पढ़ें: SBI अपनी सेवाओं के लिए वसूलता है कितना सर्विस चार्ज, आप भी जान लीजिए

Posted By: Praveen Dwivedi