Move to Jagran APP

Nagpuri Narangi : अब नागपुरी नारंगी से चमकेगी सहरसा के किसानों की किस्मत, राज्यभर के लोग चखेंगे स्वाद

अब नागपुरी नारंगी से सहरसा के किसान भी मालामाल हो जाएंगे। सहरसा में नगपुरी नारंगी का उत्पादन होगा। पूरे राज्य में लोग नागपुरी नारंगी का स्वाद चखेंगे। मिथिलायम एफपीओ बनगांव ने इसकी प्रारंभिक खेती कर इसमें सफलता हासिल किया। कृषि विभाग द्वारा इस एफपीओ से जुड़े लोगों को दूसरे जगहों पर ले जाकर प्रशिक्षित कराने की भी तैयारी की जा रही है।

By Kundan Kumar Edited By: Mukul Kumar Published: Tue, 11 Jun 2024 06:16 PM (IST)Updated: Tue, 11 Jun 2024 06:16 PM (IST)
अब सहरसा में उपजेगा नागपुरी नारंगी। फोटो- जागरण

कुंदन कुमार, सहरसा। सहरसा के प्रगतिशील किसान कृषि के क्षेत्र में नित्य अभिनय प्रयोग कर रहे हैं। अब इस इलाके में नागपुरी नारंगी की खेती प्रारंभ की गई है। आनेवाले दिनों में राज्य भर के बाजार में यह नारंगी भेजा जा सकेगा। मिथिलायम एफपीओ बनगांव ने इसकी प्रारंभिक खेती कर इसमें सफलता हासिल की।

कृषि विभाग द्वारा इस एफपीओ से जुड़े लोगों को दूसरे जगहों पर ले जाकर प्रशिक्षित कराने की भी तैयारी की जा रही है। नारंगी उत्पादक किसान सिद्धार्थ झा कहते हैं कि आनेवाले दिनों में नारंगी की यह खेती कोसी क्षेत्र की खुशहाली की गाथा लिखेगा।

कृषि विभाग के अधिकारियों का भी मानना है कि नारंगी की खेती इलाके की आर्थिक हालात में बहुत हद तक सुधार कर सकता है।

कोसी की मिट्टी के लिए उपयुक्त साबित हुआ चार प्रजाति की नारंगी

लगातार दो तीन वर्ष की कड़ी मेहनत रंग लाई और कोसी क्षेत्र के मौसम और मिट्टी के अनुरूप नागपुरी संतरा, खासी संतरा, कुर्ग संतरा और पूसा संतरा मिठास और औसतन आकार के आधार पर उपयुक्त साबित हुआ।

मिथिलायम एफपीओ के सहयोग के किसान सिद्धार्थ मिश्र को कृषि विभाग द्वारा नारंगी की खेती का प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए नागपुर भेजा गया था। उनके वापस आने और संतरा की खेती का सफल प्रयोग देख अब दूसरे किसान भी इस ओर

आकर्षित होने लगे हैं। मिथिलायम एफपीओ के अध्यक्ष ई. प्रसेनजीत झा कहते हैं कि आनेवाले दिनों में बड़े पैमाने पर नारंगी की खेती की योजना है। इससे न सिर्फ स्थानीय जरूरतें पूरी होगी, बल्कि राज्य के अन्य भाग में इसे भेजा जा सकेगा। इससे इलाके के किसान काफी लाभांवित हो सकते हैं।

कोसी की मिट्टी में उत्पादित हो रहा नागपुर की क्वालिटी का संतरा

कोसी की मिट्टी पर न सिर्फ संतरा की खेती का प्रयोग सफल हुआ, बल्कि इसकी क्वालिटी नागपुर के संतरे की तरह है। इसमें उसी प्रकार का मिठास व अनोखा स्वाद पाया जाता है। इससे इलाके के कृषक काफी उत्साहित है। आनेवाले दिनों में सहरसा के लोगों को सस्ते दर पर ताजा नारंगी प्राप्त होगा। और राज्य के अन्य बाजार में कोसी से नागपुरी संतरा भेजा जाएगा।

कोसी क्षेत्र में विभिन्न तरह के फल- सब्जी के उत्पादन की बड़ी संभावना है। मिथिलायम एफपीओ द्वारा लगातार इस दिशा में अभिनव प्रयोग किया जा रहा है।इस इलाके में नारंगी की खेती काफी सुखद है। इससे इलाके के किसान काफी समृद्ध हो सकते हैं।-ज्ञानचंद शर्मा, जिला कृषि पदाधिकारी, सहरसा।

यह भी पढ़ें-

Private School Admission : निजी स्कूल में मुफ्त में पढ़ेंगे गरीब बच्चे; फटाफट करें आवेदन, शिक्षा विभाग की नई पहल

Jitan Ram Manjhi : 'जब लिफाफा खोला तो...', MSME विभाग मिलने पर क्या बोले मांझी? पीएम मोदी से ये हुई थी बात


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.