पूर्णिया, राजीव कुमार: पूर्णिया में मरंगा थाना पुलिस ने बंगाल के तीन पशु तस्करों को 124 मवेशियों के साथ गिरफ्तार किया है। तीनों तस्‍कर बंगाल के मालदा जिले के कालियाचक के रहने वाले हैं। पशु तस्कर बनमनखी हाट से पशुओं की खरीदारी कर बंगाल लेकर जा रहे थे। बंगाल में रजिस्‍टर्ड लदे दो ट्रकों को भी पुलिस ने जब्‍त किया है।

सीमांचल के जिलों में पशु तस्करों का जाल किस कदर फैला हुआ है, मंगलवार को इसका खुलासा हुआ है। पूर्णिया के मरंगा थाना की पुलिस ने दो ट्रकों पर लदे 124 पशुओं के साथ तीन पशु तस्करों को गिरफ्तार किया है। ये पशु तस्कर पूर्णिया के बनमनखी हाट से पशुओं को बंगाल नंबर के दो ट्रकों पर लेकर बंगाल के मालदा जिले के कलिया चक जा रहे थे। 

पुलिस ने पोस्‍टमार्टम के लिए भेजे 2 मवेशियों के शव

इन पशुओं में दो पशुओं की पशुओं से ही कुचलकर मौत हो गई थी। पुलिस इन पशुओं की मौत कैसे हुई, इसकी जानकारी के लिए दोनों पशुओं का पोस्टमार्टम करा रही है। पुलिस ने बंगाल नंबर के जिन दो ट्रकों को जब्त किया है उनमें डब्लू बी 83- 0600 एवं डब्लू बी 65ए- 2122 शामिल हैं। इस पर पशुओं को ले जाने वाले तस्करों में मो. इब्राहिम,मो. लुकमान, मो शमसुल शामिल है। ये पशु तस्कर बनमनखी हाट से खरीदकर बंगाल के मालदा जिले के कलियाचक मौथाबाड़ी स्थित बाबला गांव लेकर जा रहे थे, जहां से इन पशुओं को फिर बांगलादेश भेजने की तैयारी थी।

पशु तस्करी का मुख्य सरगना निकला सदिक उल हक

पूर्णिया पुलिस ने जिन पशु तस्करों की खेप को पकड़ा है उसकी तस्करी गिरोह का मुख्य सरगना बंगाल के मालदा जिले के कलियाचक बौथाबाड़ी के बाबला गांव का मो. सदिक उल हक है। पकड़ में आए तीन पशु तस्करों ने पूछताछ में इस बात का खुलासा किया है कि‍ वही इस तस्करी गिरोह का सरगना है। उसने ही बनमनखी हाट में पशुओं की खरीददारी की थी। वाहनों पर पशुओं को लोड कराने के बाद वह दूसरे हाट में पशुओं की खरीददारी के लिए निकल गया। इन तस्करों ने पुलिस को यह भी बताया कि‍ पशुओं की यह खेप बाबला से फिर बांग्‍लादेश भेजी जाती है। पशुओं की खेप के साथ जो तीन तस्कर पकड़ें गए हैं, वह भी तस्कर गिरोह के सरगना के गांव के ही रहने वाले हैं।

पशु तस्करों ने बदला रास्ता

पुलिस की सक्रियता को देखते हुए पशु तस्करों ने हाल के दिनों में तस्करी के लिए नए सुरक्षित रास्ता तलाश किया है। बनमनखी हाट से पशुओं की खरीददारी के बाद तस्कर पशु लदे वाहनों को सरसी थाना होते हुए मीरगंज, फिर कटिहार जिले के फलका थाने, गेड़ाबाड़ी थाने से होते हुए पूर्णिया के मरंगा थाने से होते हुए बायसी थाना पार कर बंगाल की सीमा में दाखिल होते हैं।

मरंगा पुलिस ने पशु तस्कर के जिन दोनों वाहनों को पकड़ा है, उस ट्रक ने भी उसी रास्ते का मंरगा टोल प्लाजा के पास आने के लिए उपयोग किया। सबसे हैरत की बात यह है कि‍ यहां तक आने के लिए पशु तस्करों द्वारा आधे दर्जन से अधिक थाना क्षेत्र को पार किया, जिसमें पूर्णिया एवं कटिहार थाने के क्षेत्र शामिल हैं, लेकिन किसी भी थाने की पुलिस ने इन्‍हें रोकने की जहमत नहीं उठाई।

बनमनखी जहां हर लगने वाली हाट में पशुओं को बड़ी संख्या में वाहनों को लोड कर पशु तस्कर ले जाते हैं, वहां पुलिस को बंधी-बंधाई रकम मिलती है। इस कारण से पुलिस भी कभी पूछने नहीं जाती कि‍ ट्रकों पर लोड कर इतनी बड़ी संख्या में पशुओं की खेप कहां ले जाई जा रही है।

मरंगा थाना क्षेत्र में दो बंगाल नंबर पर लदे 124 पशुओं के साथ पुलिस ने तीन पशु तस्करों को गिरफ्तार किया है, जब्त पशुओं में दो पशुओं की मौत हो गयी है जिनका पुलिस द्वारा पोस्टमार्टम कराया गया है, इसके अलावा इस मामले में प्राथमिकी दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। - आमिर जावेद, एसपी, पूर्णिया

यह भी पढ़ें- हथियारबंद पशु तस्करों ने विहिप-बजरंग दल कार्यकर्ताओं को किया घायल, पूर्णिया में धराए 3 आरोपी; 2 ट्रक जब्‍त

Edited By: Prateek Jain

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट