नीरज कुमार, पटना। राजधानी के राजवंशीनगर अस्पताल में जल्द ही मरीजों को सीटी स्कैन की सुविधा मुफ्त में मिलने लगेगी। इसके लिए अस्पताल प्रशासन की ओर से तैयारी शुरू कर दी गई है। साथ ही अस्पताल में 20 सीटों पर डीएनबी कोर्स प्रारंभ करने की तैयारी की गई है। इस संबंध में अस्पताल प्रशासन ने बिहार राज्य चिकित्सा सेवा एवं आधारभूत संरचना निगम को प्रस्ताव भेज दिया है।

राजवंशीनगर हड्डी एवं नस रोग अस्पताल के निदेशक डॉ. सुभाष चंद्रा के अनुसार यहां पर दिनोंदिन मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। इसके मद्देनजर मरीजों के लिए सुविधाएं बढ़ारी जरूरी हो गई थीं। उसी के तहत अस्पताल में सीटी स्कैन की सुविधा बढ़ाई जा रही है। यहां पर अब तक मरीजों को डिजिटल एक्स-रे की सुविधा उपलब्ध है। इससे मरीजों को काफी लाभ हो रहा है। डिजिटल एक्स-रे की सुविधा केवल राजवंशीनगर अस्पताल में मुफ्त में मरीजों को दी जा रही है।

राज्य का पहला ट्रॉमा सेंटर

राज्य का पहला ट्रॉमा सेंटर राजवंशीनगर अस्पताल में तैयार किया जा रहा है। मुख्यमंत्री के शिलान्यास के बाद यहां पर काम काफी जोर-शोर से शुरू हो गया है। इस वर्ष के अंत तक सेंटर का निर्माण पूरा करना है। उसके बाद मरीजों को सुविधा मिलनी शुरू हो जाएगी।

500 बेड का अस्पताल बनाने की तैयारी

राजवंशीनगर अस्पताल को 500 बेड का बनाया जाएगा। इसके लिए तैयारी काफी जोर-शोर से की जा रही है। यह अस्पताल वर्तमान में 100 बेड का है। मरीजों की भीड़ के कारण बेड के लिए हमेशा मारामारी मची रहती है। अस्पताल में न केवल राजधानी बल्कि राज्य के कोने-कोने से मरीज आते हैं। सभी मरीजों को बेहतर तरीके से इलाज हो इसके लिए सरकार की ओर से हर संभव प्रयास किये जा रहे हैं।

अस्पताल में प्रारंभ हुई आयुष्मान योजना

राजवंशीनगर अस्पताल में आयुष्मान योजना के तहत मरीजों को सुविधा मिलनी शुरू हो गई है। इसके लिए अस्पताल प्रशासन की ओर से विशेष टीम बनाई गई है। यहां पर न्यूरो एवं हड्डी रोग के मरीजों को आयुष्मान योजना के तहत मुफ्त में सुविधाएं प्रदान की जा रही हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस