राज्य ब्यूरो, पटना: राजद द्वारा वैश्य चेतना समिति की आड़ में तारापुर विधानसभा उप चुनाव में भाजपा कोटे के वैश्य मंत्रियों व विधायकों को भूनाने का मामला तूल पकड़ लिया है। भाजपा चुनाव आयोग सेल के प्रदेश संयोजक राधिका रमण के नेतृत्व में गुरुवार को पार्टी प्रतिनिधि मंडल ने पूरे मामले में चुनाव आयोग से कार्रवाई करने की मांग की। सीईओ (मुख्य निर्वाचन अधिकारी), बिहार एचआर श्रीनिवास का ज्ञापन दिया। भाजपा प्रतिनिधि मंडल में पार्टी प्रदेश उपाध्यक्ष सिद्धार्थ शंभू के अलावा मीडिया प्रभारी राकेश सिंह व राजू झा शामिल थे। दरअसल, वैश्य चेतना समिति के बैनर तले भाजपा विधायकों-मंत्रियों की तस्वीर लगाकर राजद नेता अपने कैंडिडेट अरुण साह के पक्ष में वैश्य मतदाताओं से वोट करने की अपील कर रहे हैं।  

राजद उम्मीदवार पर दर्ज हो मुकदमा

सीईओ से भाजपा नेताओं ने तारापुर विधानसभा के राजद प्रत्याशी अरुण  साह का नामांकन रद्द करने और मुकदमा दर्ज करने की मांग की है। ज्ञापन में कहा है कि भाजपा के विधायक एवं मंत्रियों का फोटो लगाकर पंपलेट तारापुर विधानसभा क्षेत्र में वैश्य मतदाताओं के बीच बांटा जा रहा है। पंपलेट अरुण साह को मतदान करने की अपील की गई है। 27 अक्टूबर को विधानसभा का प्रचार समाप्त हो गया है। पंपलेट में उप मुख्यमंत्री तार किशोर प्रसाद, मंत्री प्रमोद कुमार और नारायण प्रसाद के अलावा भाजपा के कई विधायकों की तस्वीर और नाम हैं। भाजपा का आरोप है कि वैश्य चेतना समिति के पंपलेट के माध्यम से मतदाताओं के बीच राजद भ्रम पैदा करना चाहती है। इस पर पार्टी घोर आपत्ति दर्ज कराती है। साथ ही राजद कैंडिडेट पर मुकदमा दर्ज करने की मांग करती है।

यह भी पढ़ें

तेजस्वी ने प्रेस कान्फ्रेंस में डीएसपी का नाम ले लगाया आरोप, राजद की शिकायत पर तत्काल कार्रवाई

जिताने की अपील पर आपत्ति

भाजपा ने पार्टी के विधायकों की फोटो राजद प्रत्याशी अरुण साह को जिताने संबंधित अपील करने पर सख्त आपत्ति जताई है। भाजपा चुनाव आयोग सेल के प्रदेश संयोजक राधिका रमण ने बिहार के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एचआर श्रीनिवास को गुरुवार को सौंपे ज्ञापन में कई बिदुओं की ओर ध्यान आकृष्ट किया है। 

राजद ने किया  पलटवार

राजद के समस्तीपुर जिले के मोरवा से विधायक और राजद व्यावसायिक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष रणविजय साहू ने शिकायत को लेकर भाजपा पर पलटवार किया है। रणविजय साहू ने कहा है कि उप मुख्यमंत्री तार किशोर प्रसाद, विधि व गन्ना उद्योग मंत्री प्रमोद कुमार और पर्यटन मंत्री नारायण प्रसाद को स्पष्ट करना चाहिए कि वह वैश्य समाज में है या नहीं। तीनों वैश्य चेताना समिति में हैं या नहीं। अगर नहीं है तो फिर वैश्य चेताना समिति की ओर से आयोजित कार्यक्रम में क्यों शामिल होते हैं। समाज को एकजुट करने अपील क्यों करते हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा के ढाका से विधायक पवन जायसवाल, दरभंगा जिले के हायाघाट के विधायक रामचंद्र प्रसाद, सीतामढ़ी जिले रीगा से विधायक मोतीलाल प्रसाद, छपरा के विधायक डा. सीएन गुप्ता और बांका विधायक राम नारायण मंडल वैश्य चेताना समिति में हैं या नहीं।

Edited By: Akshay Pandey