मुजफ्फरपुर, आनलाइन डेस्क। बिहार विधानसभा उपचुनाव 2021 के लिए मतदान की तिथि जैसे-जैसे करीब आती जा रही है, वैसे-वैसे एक के बाद एक राज से पर्दा भी उठ रहा है। खासकर राजद खेमे के। दरअसल, राष्ट्रीय जनता दल ने इस उपचुनाव को युद्ध की तरह लेने का फैसला किया है। इसके लिए पूरी आक्रामकता से काम किया जा रहा है। पार्टी यह मानकर चल रही है कि यदि ये दोनों सीटें वह अपने पाले में कर लेती हैंं तो न केवल विधायकों की संख्या बढ़ जाएगी वरन एनडीए के असंतुष्ट दलों को अपने साथ करके सत्ता भी हासिल कर सकती है।

यह भी पढ़ें: Bihar assembly by-election 2021: चिराग ने सीएम नीतीश की पार्टी ने लिए कही बड़ी बात, कुशेश्वरस्थान में भरी हुंकार

महागठबंधन की सरकार के दौरान मंत्री रहे वरीय राजद नेता शिवचंद्र राम ने इस आशय की जानकारी कुशेश्वरस्थान में चुनाव प्रचार करते हुए दी। राजद प्रत्याशी गणेश भारती के लिए वोट मांगते हुए उन्होंने कहा कि बिहार में उपचुनाव के बाद सत्ता परिवर्तन होगा। यूं तो उन्होंने खुलकर पूरी योजना नहीं बताई, लेकिन इशारों ही इशारों में राजद के गेम प्लान को समझा दिया। वैसे भी बिहार विधानसभा में सत्ता का नाजुक संतुलन है। चुनाव के समय सत्तारूढ़ गठबंधन को 125 सीटें मिली थीं जबकि विपक्ष को 110। हालांकि बाद में एक बीएसपी व तत्कालीन लेजेपी के एक विधायक के सरकार के साथ आ जाने से स्थिति थोड़ी मजबूत हो गई थी। 

दरभंगा के कुशेश्वरस्थान में राजद के जनसंपर्क अभियान के दौरान शिवचंद्र राम ने वर्तमान सीएम नीतीश कुमार की सरकार को पूरी तरह से विफल करार देते हुए आरोप लगाया कि विकास के लिए किए गए सभी वादे झूठे साबित हो रहे हैं। कानून व्यवस्था की स्थिति तेजी से खराब होती चली जा रही है। उन्होंने उपस्थित कार्यकर्ताओं को इस चुनाव को वार लेवल पर लेने को कहा है। जिससे चुनाव में जीत के साथ ही साथ सत्ता सुख को हासिल किया जा सके।

ऐसा नहीं है कि यह केवल बयान के लेवल पर ही है। इसके लिए चुनाव की घोषणा होने के बाद से ही पार्टी के सभी विधायकों को एक-एक पंचायत की जिम्मेदारी सौंपी गई है। इतना ही नहीं मुजफ्फरपुर समेत सभी जिलों से पार्टी के चुनिंदा कार्यकर्ताओं को कुशेश्वरस्थान व तारापुर के मैदान में जनसंपर्क के लिए उतार दिया गया है। ये सभी एक-एक मतदाता से मिल रहे हैं। वहीं विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव अभी तारापुर और उसके बाद कुशेश्वरस्थान में कैंप करेंगे। बात यहीं खत्म हो गई हो, ऐसा भी नहीं है। जो स्टार प्रचारक बनाए गए हैं वे भी चुनाव के करीब आते ही मैदान में आकर पार्टी प्रत्याशी के पक्ष में माहौल बनाएंगे। इस तरह उपचुनाव की बाजी को राजद अपने पक्ष में करना चाह रहा है। इसके बाद वीआइपी, हम और एआइएमआइएम के सहयोग से सत्ता हासिल करना चाहेगी। आधिकारिक रूप से इसके बारे में कुछ भी नहीं कहा गया है।  

Edited By: Ajit Kumar