पटना [वेब डेस्क ]। बिहार से कोचिंग में राजस्थान के कोटा पढ़ने गई छात्राओं की आत्महत्या का सिलसिला रुक नहीं रहा है। गोपालगंज की एक लड़की के वहां आत्महत्या करने के आठ दिन के भीतर एेसी ही एक अन्य घटना में खगड़िया की छात्रा ने खुदकुशी कर ली है। बताया गया है कि यह लड़की पिछले दिनों कोचिंग में कम नंबर आने से वह डिप्रेशन में थी। इस साल अबतक 12 छात्राएं कोटा में आत्महत्या कर चुकी हैं।

मृतक लड़की की पहचान खगड़िया के स्नेहा सुमन के रूप में हुई है। वह साेलह साल की थी। करीब डेढ़ साल से कोटा के महावीर नगर इलाके में एक गर्ल्स हॉस्टल में रहकर मेडिकल की तैयारी कर रही थी। शाम को खाना खाने हॉस्टल के मेस में नहीं जाने पर उसे बुलाने गई छात्राओं को कमरा अंदर से बंद मिला। पड़ताल करने पर उसके आत्महत्या कर लेने की बात सामने आई।

पढ़ेंः काटजू ने फोड़ा ट्वीट बम, कहा-भारत को पाकिस्तान से नहीं, बिहार से खतरा

ताया गया है कि कमरा नहीं खुलने पर चिंतित छात्राओं ने वार्डेन को सूचना दी। वार्डेन ने पुलिस को बुलवाया। कमरे का दरवाजा खोलकर भीतर जाने पर वह पंखे से लटकती मिली। साथी छात्राओं के मुताबिक वह पढ़ने में होशियार थी। लेकिन टेस्ट में नंबर कम आने के बाद से चिंताग्रस्त थी।

उल्लेखनीय है कि हाल के दिनों में कोटा से डिप्रेशन के शिकार बच्चों द्वारा आत्महत्या की बात लगातार सामने आ रही है। पिछले सप्ताह गोपालगंज की रहने वाली एक छात्रा ने खुदकुशी कर ली थी। उस छात्रा की पहचान बायोटेक में अध्ययनरत लवली गुप्ता के रूप में हुई थी। जुलाई में भागलपुर के एक छा्त्र नयन ने भी वहां गले में फंदा लगाकर जान दे दी थी।

इसे भी पढ़ेंः बिहार के लिए रेलवे ने जारी किया पूजा स्पेशल ट्रेनोें का शिड्यूल

Posted By: Pramod Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस