कटिहार, जेएनएन। कटिहार के बलरामपुर में रविवार की देर रात एक साथ 12 अर्थियां उठीं तो पूरे गांव का कलेजा फट पड़ा। पूरा बलरामपुर गांव रो रहा था। महाराष्ट्र के पुणे स्थित कोंडवा इलाके में शुक्रवार की रात दीवार ढहने से बलरामपुर प्रखंड के 12 लोगों की मौत हो गई थी। सभी शव रविवार को देर शाम गांव लाए गए। शवों के पहुंचते ही कटिहार का बलरामपुर गांव चीत्कार उठा। 

रविवार की देर रात साथ एक साथ ही सभी अर्थियां उठीं और गांव स्थित श्मशान घाट पर सभी का दाह-संस्कार किया गया। मृतकों में बघार गांव के दो परिवारों के आठ, उससे सटे बाइसबीघा गांव के तीन व डटियन गांव का एक व्यक्ति शामिल है। इनमें तीन बालक, एक बच्ची व दो महिलाएं भी शामिल हैं। घटना की सूचना के बाद से ही आंसुओं में डूबे इन गांवों में शवों के पहुंचते ही कोहराम मच गया।

 इसे भी पढ़ें- पुणे में हादसा: बिहार के 15 मजदूरों की मौत, राज्‍यपाल-मुख्‍यमंत्री ने जताया दुख

बलरामपुर बाजार से गांव तक लगभग सात किलोमीटर की दूरी तक सड़कों के किनारे लोग खड़े थे। लगभग सात बजे शाम में शवों को लेकर एंबुलेंस के गांव प्रवेश करते ही काफी तादाद में भीड़ टूट पड़ी। मृतक के बदहवास परिजन को संभालना मुश्किल हो रहा था। लोग अपने बेटे, पति व पोते के शव की एक झलक देखने को व्यग्र हो उठे। शव उतारे जाने के बाद तो करुण विलाप से माहौल गमगीन हो गया। भीड़ की आंखें भी नम हो गईं।

इस घटना में बघार गांव निवासी चेतनारायण शर्मा के पुत्र दीपनारायण शर्मा, बहू नीभा देवी, पोता इंद्रजीत शर्मा व राजीव शर्मा की मौत हो गई थी। इसी गांव के श्यामलाल दास के पुत्र भीमा दास, बहू संगीता देवी, पोती सोनाली दास व पोता अभिजीत दास की भी मौत हो गई है। इसके अलावा बगल के बाइसबीघा गांव के मोहन शर्मा, आलोक शर्मा व रवि शर्मा के साथ-साथ डटियन गांव के अमन शर्मा उर्फ पिछेल की मौत हुई है। जिलाधिकारी के निर्देश पर शव लाने बलरामपुर सीओ के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग, श्रम विभाग व आपदा विभाग के अधिकारी रविवार की दोपहर 12 बजे ही बागडोगरा एयरपोर्ट पहुंच गए थे। दोपहर तीन बजकर दस मिनट पर एयर एंबुलेंस वहां पहुंची।

इस दौरान बिहार सरकार के मंत्री बिनोद कुमार सिंह, सांसद दुलाल चंद गोस्वामी, बलरामपुर विधायक महबूब आलम, सदर विधायक तारकिशोर प्रसाद व विधान पार्षद अशोक अग्रवाल के साथ एसडीओ, एसडीपीओ, बीडीओ आदि गांव पहुंचे तथा उन्‍होंने मृतक के परिजनों को सांत्वना दी। हरसंभव सहायता दिलाने का भरोसा दिया गया। सभी का दाह-संस्कार प्रशासनिक देख-रेख में किया गया।

Posted By: Rajesh Thakur

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप