पटना/ कटिहार, जेएनएन। महाराष्‍ट्र के पुणे के कोंढवा इलाके में बड़ा हादसा हुआ है। यहां एक सोसाइटी की दीवार झुग्गी-झोपड़ियों पर गिरने से बिहार के 15 मजदूरों की दर्दनाक मौत हो गई है। इनमें कटिहार के 13 तथा सारण के दो मजदूर शामिल थे। इस घटना की सूचना मिलते ही कटिहार जिले के बलरामपुर थाना क्षेत्र के बघार गांव में  कोहराम मचा है। बताया जा रहा है कि पुणे में बारिश और भूस्खलन से सभी मजदूरों की मौत हो गयी। बिहार के सभी मृतकों के शवों को महाराष्ट्र से कटिहार व सारण लाने की तैयारी की जा रही है। 

कटिहार में मचा कोहराम
महाराष्ट्र के पुणे में शुक्रवार शाम को कटिहार जिले के 13 लोगों की मौत एक दर्दनाक हादसे में हो गई। यह दुर्घटना एक सोसाइटी की 60 फीट ऊंची दीवार गिरने से हुई। इस कारण बगल की झुग्गियों में रह रहे लोग हताहत हुए। मृतकों में एक ही गांव के आठ लोग शामिल हैं। इनमें चार बच्चे और तीन महिलाएं भी हैं। सभी मृतक बलरामपुर प्रखंड के बघार, बाइसबिघी व डटियन गांव के रहने वाले थे। इनमें बघार गांव के दो दंपती व उनके चार बच्चे हैं। घटना की सूचना मिलते ही संबंधित गांवों में कोहराम मच गया। शनिवार को पौ फटते ही इन गांवों में करुण क्रंदन से माहौल गमगीन हो गया। सूचना मिलते ही बलरामपुर के सीओ, बीडीओ के साथ-साथ बारसोई एसडीओ भी मौके पर पहुंच परिजन को सांत्वना देने में जुट गए। क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों का भी गांव में जमघट लगा रहा।

सारण के दो मजदूरों की भी मौत
भारी बारिश के कारण शुक्रवार की रात पुणे में दीवार गिरने से मारे गए बिहार के 15 लोगोंं में कटिहार के अलावा सारण के भी दो मजदूर थे। मृतकों में परसा थाना क्षेत्र के लजतरहिया दीघरा निवासी लक्ष्मीकांत सहनी (33) और दरियापुर थाना क्षेत्र के दरिहारा भुआल गांव निवासी सुनील सिंह (35) थे। सूचना आने पर परिजनों ने सुबह सांसद प्रतिनिधि से मुलाकात कर मदद की गुहार लगाई। सांसद प्रतिनिधि राकेश कुमार ने सांसद राजीव प्रताप रूडी को घटना से अवगत कराया। सांसद ने पुणे के सांसद की सहायता से वहां के डीएम से आपदा के तहत मृतक के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की सहायता राशि देने व हवाई जहाज से शव भेजने की व्यवस्था करने को कहा। हवाई जहाज से शाम को दोनों का शव पटना पहुंचा। वहां से गांव लाया गया।

मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने जताया शोक

पुणे में दीवार गिरने से बिहार के 15 मजदूरों की मौत पर सीएम नीतीश कुमार ने शोक व्यक्त किया है और मृतकों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है। साथ ही सीएम नीतीश ने मृतक के परिजनों को 2-2 लाख रुपये की अनुदान राशि देने का एलान किया है। वहीं घायलों को 50 हजार की राशि का अनुदान देने की भी बात कही है।

जानकारी के अनुसार मृतकों में चार बच्‍चे भी शामिल हैं। एनडीआरएफ और फायर ब्रिगेड की टीम ने मौके पर पहुंचकर राहत और बचाव का काम शुरू कर दिया है। यह घटना शुक्रवार की रात 1 बजकर 40 मिनट पर हुई। 

राज्‍यपाल ने भी संवेदना प्रकट की
राज्यपाल लाल जी टंडन ने पुणे (महाराष्ट्र) में हुए एक हादसे में कटिहार के मजदूरों की हुई मौत पर अपनी गहरी शोक संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने हादसे में मरे लोगों की आत्मा को चिर शांति तथा उनके शोक संतप्त परिजनों को धैर्य धारण की क्षमता प्रदान करने के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है। राज्यपाल ने दुर्घटना में घायल लोगों के शीघ्र स्वस्थ होने की भी कामना की है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया है कि दुर्घटना की समुचित जांच होगी तथा पीडि़त परिवारों को महाराष्ट्र एवं बिहार सरकार प्रावधानों के अनुरूप सहायता प्रदान करेगी।

राबड़ी-तेजस्‍वी ने भी जताया दुख
राजद ने महाराष्ट्र सरकार से पुणे में हादसे के दौरान मरे बिहारी मजदूरों के आश्रितों को समुचित सहायता देने की मांग की है। पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी ने कहा है कि घायलों का भी बेहतर इलाज की व्यवस्था होनी चाहिए। पुणे में दीवार गिरने से कटिहार जिले के बलरामपुर गांव के 15 मजदूरों की मौत हो गई है। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, विधायक तेजप्रताप यादव एवं सांसद मीसा भारती ने मृतकों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए उनके परिजनों को सांत्वना दी है। राजद के प्रदेश अध्यक्ष रामचंद्र पूर्वे, आलोक मेहता एवं चितरंजन गगन ने कहा कि बिहार में रोजगार नहीं मिलने के कारण पलायन करने वालों की संख्या लगातार बढ़ रही है। 

सांसद ने जताया शोक, कहा-मर्माहत हूं, हरसंभव मदद करूंगा

इस घटना की जानकारी मिलने के बाद कटिहार के सांसद दुलालचंद्र गोस्वामी ने शोक व्यक्त किया है और अपने फेसबुक पेस पर पोस्ट कर मृतकों के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त की है। सांसद दुलालचंद गोस्वामी का गृह क्षेत्र है बलरामपुर। सांसद ने शोक जताते हुए कहा कि मर्माहत हूं। हर संभव मदद करने को तैयार हूं।

पुणे के कोंढवा इलाके में तालाब मस्जिद के पास एक सोसाइटी की 60 फीट की दीवार पास की झुग्गी-झोपड़ियों पर गिर गई, जिसके नीचे झुग्गी में सो रहे लोगों के दब जाने से ये बड़ा हादसा हुआ है। हादसे में जान गंवाने वाले कई लोगों की पहचान हो गई है। जानकारी के अनुसार अधिकतर मृतक कंस्ट्रक्शन का काम करने वाले बिहार और बंगाल के मजदूर हैं।

     कटिहार के मृतक

  1. मोहन शर्मा, उम्र- 30 वर्ष, पिता-उमा शर्मा, गांव-बाईसबिघी
  2. आलोक शर्मा, उम्र-26 वर्ष , पिता-भुवनेश्वर शर्मा, गांव-बाईसबिघी
  3. रवि शर्मा, उम्र-15 वर्ष, पिता सतपाल यादव, गांव-बाईसबिघी
  4. पिछोरा शर्मा, उम्र-18 वर्ष, पिता-परशुराम शर्मा, गांव-डलियन
  5. दीपरंजन शर्मा, उम्र-35 वर्ष, पिता-चेतनारायण शर्मा
  6. निभा शर्मा, उम्र-30 वर्ष, पति-दीपनारायण शर्मा
  7. इंद्रजीत शर्मा- उम्र-10 वर्ष, पिता-दीपनारायण शर्मा
  8. राजीव शर्मा, उम्र-7 वर्ष, पिता-दीपनारायण शर्मा
  9. भीमा दास, उम्र-28 वर्ष, पिता-श्यामलाल दास
  10. संगीता देवी, उम्र- 27 वर्ष, पति-भीमा दास
  11. सोनाली दास- उम्र-8 वर्ष, पिता-भीमा दास
  12. अभिजीत दास-उम्र- 3 वर्ष, पिता-भीमा दास 
  13. एक अन्‍य 
    सारण के मृतक
  14. लक्ष्मीकांत सहनी (33)
  15. सुनील सिंह (35) 

जिलाधिकारी ने कहा-बारिश की वजह से गिरी दीवार

पुणे के जिला कलेक्टर, नवल किशोर राम ने हादसे के बाद प्रतिक्रिया देते हुए कहा, 'भारी बारिश की वजह से दीवार ढह गई। इस घटना में कंस्ट्रक्शन कंपनी की लापरवाही सामने आ रही है। 15 लोगों की मौत कोई छोटा मामला नहीं है। मारे गए अधिकतर मजदूर बिहार और बंगाल के थे। सरकार प्रभावितों की मदद कर रही है।'

 

Posted By: Kajal Kumari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप