चंद्रमंडी (जमुई), संवाद सूत्र: बिहार-झारखंड के सीमांत इलाके में नक्सलियों से संबंधित हस्तलिखित पर्चा छोड़े जाने का मामला सामने आया है। भेलवाघाटी थाना क्षेत्र के महेशकिशोर गांव के समीप नवनिर्मित पुलिया पर पर्चा रखा हुआ था। पर्चे में धरपहरी (गुनियाथर) से भेलवाघाटी तक बन रहे सड़क व पुल पर रोक लगाने, पुल व सड़क निर्माण में लगे कंपनी के संवेदक व एक कर्मी को नामित करते हुए लेवी की राशि पहुंचा देने को कहा गया है।

पोस्टर में लिखा है कि पुलिस कितना साथ देगी देखेंगे, पैसा पहुंचा दो जगह पर, संवेदक को 20 लाख रुपये नहीं देने पर पुल को मिट्टी में मिला देने व एक कर्मी को 10 लाख नहीं पहुंचाने पर जान से मार देने की धमकी दी गई है। पर्चा भेलवाघाटी थाना क्षेत्र के बलियारी व महेशकिशोर गांव के बीच एक पुलिया पर रखा हुआ था।

पुलिस ने मामले पर साधी चुप्पी

इधर, नक्सल से संबंधित पर्चा छोड़े जाने की सूचना पर भेलवाघाटी थानाध्यक्ष अवधेश कुमार एवं जिला बल व एसएसबी जवान व अधिकारी मौके पर पहुंचकर पुलिया पर रखे पर्चे को जब्त कर लिया। पर्चा छोड़े जाने के मामले में भेलवाघाटी पुलिस द्वारा कुछ भी जानकारी देने से इंकार कर दिया गया है। भेलवाघाटी थाना क्षेत्र के गुनियाथर से हरकुंड (भेलवाघाटी) तक सड़क निर्माण कार्य व साथ तीन पुल का निर्माण कार्य चल रहा है। इस मामले में पूर्व में पुल निर्माण में कर्मियों को पर्चा दिए जाने व पर्चा छोड़े जाने का मामला सामने आया था। फोन पर धमकी दिए जाने के मामले में भेलवाघाटी थाना की पुलिस द्वारा दो लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेजने की कार्रवाई की गई थी।

यह भी पढ़ें- Bihar Liquor Death: सिवान में जहरीली शराब कांड में मृतकों की संख्‍या बढ़कर 8 हुई, गोपालगंज में भी एक की मौत

Edited By: Prateek Jain

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट