Move to Jagran APP

Bihar Education: अब प्राइवेट स्कूलों पर शिक्षा विभाग की टेढ़ी नजर, इन बातों का नहीं रखा ध्यान तो रद्द हो जाएगा रजिस्ट्रेशन

Bihar News शिक्षा विभाग अब निजी विद्यालयों पर शिकंजा कसने की तैयारी में है। प्राइवेट स्कूलों में 19 बिंदुओं पर जांच होगी। कमी मिलने पर पंजीकरण रद्द हो जाएगा। बताया जा रहा है कि ज्ञानदीप पोर्टल पर स्कूलों का निबंधन अनिवार्य होगा। इसकी जांच के लिए टीम बनाई जाएगी। जहानाबाद में 166 व अरवल में 72 स्कूल निबंधित किए गए हैं।

By dheeraj kumar Edited By: Mukul Kumar Published: Tue, 11 Jun 2024 04:55 PM (IST)Updated: Tue, 11 Jun 2024 04:55 PM (IST)
प्रस्तुति के लिए इस्तेमाल की गई तस्वीर

जागरण संवाददाता, जहानाबाद। जहानाबाद व अरवल जिले में अवैध रूप से संचालित निजी स्कूलों पर अब शिक्षा विभाग सख्ती से शिकंजा कसेगा। विभाग के पदाधिकारी निजी स्कूलों के प्रबंधन और कागजात की छानबीन करेंगे। शिक्षा विभाग के पदाधिकारी निजी विद्यालयों में 19 बिंदुओं पर जांच करेंगे।

मानक और प्रविधान के मुताबिक कमी पाए जाने पर संबंधित स्कूलों का पंजीकरण रद्द कर दिया जाएगा। प्राथमिक शिक्षा निदेशक ने डीईओ को पत्र भेज कर यह निर्देश दिया है। निदेशक मिथिलेश मिश्र ने निर्देश दिया है कि जिले में निबंधित सभी स्कूलों का ज्ञानदीप पोर्टल पर निबंधन कराना अनिवार्य है।

जिन स्कूलों ने अब तक निबंधन नहीं कराया है उसे अनिवार्य रूप से निबंधन कराना होगा। अवैध तरीके से संचालित निजी स्कूलों पर कार्रवाई की जाएगी। निजी स्कूलों की जांच के लिए कर्मियों व अधिकारियों की टीम बनाई जाएगी।

पोर्टल पर निबंधन कराना अनिवार्य

निजी स्कूलों में बच्चों को मुफ्त एवं अनिवार्य शिक्षा का अधिकार अधिनियम लागू है। इसके तहत सभी निजी स्कूलों में अलाभकारी समूह व कमजोर वर्ग के 25 प्रतिशत बच्चों का प्रथम वर्ग में नामांकन लिया जाना है। इसके लिए निजी स्कूलों के ज्ञानदीप पोर्टल पर निबंधन कराना अनिवार्य है।

जिन स्कूलों के द्वारा स्वीकृति नहीं ली गई है या स्वीकृति मिलने के बावजूद ज्ञानदीप पोर्टल पर निबंधन नहीं किया है ऐसे स्कूलों को चिह्नित कर ज्ञानदीप पोर्टल पर निबंधन कराने का निर्देश दिया गया है।

जहानाबाद जिले में निजी स्कूलों की संख्या 250 से ज्यादा है, जिसमें 166 निबंधित हैं। अरवल में निजी स्कूलों की संख्या 200 के आसपास है, जिसमें 72 निबंधित हैं।

इन बिंदुओं पर होगी जांच

विद्यालय का नाम, डायस कोड, स्कूलों में प्रशिक्षित व अप्रशिक्षित शिक्षकों की संख्या, आरटीई के तहत वर्गवार नामांकित बच्चों की संख्या, स्वीकृति संख्या, स्कूल ने निबंधन नहीं कराया है तो ई संबंधन पोर्टल पर आवेदन अपलोड किया है या नहीं,आवेदन किया है तो अपलोड की तिथि, स्वीकृति अवधि, क्या स्कूल को किसी बोर्ड से सम्बद्धता प्राप्त है या नहीं, विद्यालय की चहारदीवारी की स्थिति, वर्गकक्ष की संख्या, पेयजल की व्यवस्था, बालक-बालिकाओं के लिए अलग शौचालय की व्यवस्था है या नहीं, पुस्तकालय की उपलब्धता है या नहीं।

अभी निजी विद्यालय बंद है। विद्यालय खुलने पर टीम बनाकर सभी निबंधित व अनिबंधित निजी स्कूलों की जांच कराई जाएगी। मानक के अनुसार निजी विद्यालय नहीं मिलने पर उसका पंजीकरण रद होगा।- नीरज कुमार/आनंद कुमार, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी, अरवल/जहानाबाद

यह भी पढ़ें-

Private School Admission : निजी स्कूल में मुफ्त में पढ़ेंगे गरीब बच्चे; फटाफट करें आवेदन, शिक्षा विभाग की नई पहल

Jitan Ram Manjhi : 'जब लिफाफा खोला तो...', MSME विभाग मिलने पर क्या बोले मांझी? पीएम मोदी से ये हुई थी बात


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.