Move to Jagran APP

Ara Double Murder: आरा में एक साथ प्रोफेसर दंपती की उठी अर्थी, बेटियों ने माता-पिता को दिया कंधा

Ara भोजपुर जिले के आरा नवादा थाना क्षेत्र के कतीरा मोहल्ला में मारे गए सेवानिवृत्त प्रोफेसर डॉ. महेन्द्र प्रसाद सिंह और उनकी पत्नी पुष्पा सिंह का बुधवार को तीसरे दिन दाहसंस्कार हुआ। बड़हरा प्रखंड के मौजपुर-महुली गंगा घाट पर अंतिम संस्कार किया गया।

By Jagran NewsEdited By: Prateek JainPublished: Wed, 01 Feb 2023 06:15 PM (IST)Updated: Wed, 01 Feb 2023 06:33 PM (IST)
आरा में माता पिता की अर्थी को कांधा देती बेटियां

आरा, जागरण संवाददाता: भोजपुर जिले के आरा नवादा थाना क्षेत्र के कतीरा मोहल्ला में मारे गए सेवानिवृत्त प्रोफेसर डॉ. महेन्द्र प्रसाद सिंह और उनकी पत्नी पुष्पा सिंह का बुधवार को तीसरे दिन दाहसंस्कार हुआ। बड़हरा प्रखंड के मौजपुर-महुली गंगा घाट पर अंतिम संस्कार किया गया, जहां एक साथ दंपती की चिता उठी, जिसे भतीजे ने मुखाग्नि दी। इस दौरान सबकी आंखें नम थी।

loksabha election banner

मृतक दंपती की तीन बेटियों ने उनकी अर्थियों को कंधा दिया, मृतक प्रोफेसर महेंद्र सिंह बीजेपी नेता भी थे। हत्याकांड को अंजाम देने वाले बदमाश अभी भी फरार बताए जा रहे हैं। समाज की रूढ़ीवादी परंपराओं से आगे बढ़कर तीन बेटियों ने अपने माता-पिता की अर्थी को कंधा दिया। इस मार्मिक दृश्य को देखकर वहां उपस्थित सभी लोग मर्माहत नजर आए। लोगों के मुंंह से बस एक ही बात निकल रही थी, अब बेटा-बेटी में कोई फर्क नहीं रह गया है। बेटियां भी मां-बाप की सेवा धर्म के लिए काफी हैं।

दूसरे शहरों में रहती है दंपती की तीनों बेटियां

दोनों पति‍-पत्नी घर में अकेले रहते थे। दंपती की तीन बेटियां रक्षिता सिंह, अर्शिता सिंह, अंकिता सिंह है। तीनों की शादी हो गई है। इनमें से दो बेटि‍यां महाराष्ट्र के पुणे और एक बेटी उत्तर प्रदेश के लखनऊ में रहती है। सोमवार बेटी समेत परिवार के अन्य सदस्य दंपती को फोन लगा रहे थे, तो मोबाइल बंद बता रहा था। इसके बाद सोमवार रात करीब दस बजे उन्होंने इसकी सूचना पड़ोसियों को दी, जब पड़ोसी घर पर पहुंचे तो अंदर दंपती के शव अलग-अलग जगहों पर पड़े थे। वहीं, फर्श पर खून बिखरा था, जिसकी सूचना नवादा थाना समेत अन्य अफसरों को दी गई। सूचना मिलते ही सभी पदाधिकारी पहुंच गए थे।

29 जनवरी को हुई थी हत्या

29 जनवरी की रात बीजेपी नेता और रिटायर्ड प्रोफेसर दंपती महेन्द्र प्रसाद सिंह और उनकी पत्नी पुष्पा सिंह की अपराधियों ने घर में घुसकर धारदार हथियार से निर्मम हत्या कर दी थी। पत्नी का गला रेता गया था, जबकि पति के शरीर पर करीब दस जगह जख्म के निशान पाए गए थे। दोनों के शवों का पोस्टमार्टम होने के बाद बुधवार को अंतिम संस्कार किया गया। बेटियों के इंतजार में शवों का दाह संस्‍कार रुका हुआ था।

मृत प्रोफेसर और उनकी पत्नी का बड़हरा प्रखंड के महुली गंगा घाट पर हिंदू रीति-रिवाज के अनुसार अंतिम संस्कार किया गया। मृत प्रोफेसर की तीनों विवाहित बेटी रक्षिता सिंह, हर्षिता सिंह और अंकिता सिंह ने बेटे का फर्ज निभाते हुए उनकी अर्थी को कंधा दिया। इस दौरान तीनों के पति यानी दामादों ने भी माता-पिता समान सास-ससुर की अर्थी को कंधा दिया‌।

घर से एक साथ निकली दंपती की अर्थी

कतीरा स्थित घर से एक साथ निकली पति-पत्नी की अर्थी को देखकर पूरा माहौल गमगीन था। मौके पर पहुंचे बीजेपी नेताओं ने पार्टी के सदस्य रहे रिटायर्ड प्रोफेसर महेंद्र सिंह के पार्थिव शरीर पर बीजेपी का झंडा ओढ़कर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि दी। सैकड़ों लोगों ने इस शव यात्रा में शामिल होकर रिटायर्ड प्रोफेसर दंपति को श्रद्धा-सुमन अर्पित किए।

इधर, भाजपा नेता विजय सिंह ने कहा कि आज समाज में बेटा और बेटियों में अब कोई फर्क नहीं रह गया है। बेटियां मां-बाप की सेवा करती हैं, उन्हें भी यह हक और अधिकार मिलना चाहिए कि माता-पिता के निधन के बाद अंतिम संस्कार में भी उन्हें उनका धर्म निभाने की आजादी मिली है। प्रोफेसर महेंद्र सिंह खुद शिक्षित व्यक्ति थे और वो लोगों को शिक्षा देने वाले थे। अगर उनकी बेटियों ने अपने मां-बाप की अर्थी को कंधा दिया है, तो यह समाज के लिए प्रेरणा है।

यह भी पढ़ें- Bihar: आरा में 10 हजार की घूस लेते रंगेहाथ धराया न्याय सचिव, पटना से आई निगरानी टीम ने की कार्रवाई


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.