नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही (अप्रैल-सितंबर, 2019) के दौरान यात्री वाहनों के निर्यात में चार परसेंट का इजाफा हुआ है। इस दौरान ह्युंडई मोटर इंडिया ने अकेले 1.03 लाख से ज्यादा वाहन निर्यात किए हैं। ऑटो सेक्टर से लगातार आ रही सुस्ती की खबरों के बीच ऑटो सेक्टर के लिए इसे उत्साहजनक खबर कहा जा सकता है। ऑटो निर्माता कंपनियों के संगठन सियाम की ओर से जारी रिपोर्ट में ये आंकड़े पेश किए गए हैं। आंकड़ों के मुताबिक अप्रैल से सितंबर की अवधि में कुल 3,65,282 यूनिट्स वाहनों का निर्यात हुआ, जबकि पिछले वित्त वर्ष की समीक्षाधीन अवधि में 3,49,951 यूनिट्स वाहनों का निर्यात किया गया था।

इस अवधि में कारों के निर्यात में 5.61 परसेंट की वृद्धि हुई और कुल 2,86,495 कारें निर्यात की गईं। हालांकि समीक्षाधीन अवधि में वैन के निर्यात में 27.57 परसेंट की गिरावट दर्ज की गई।

निर्यातकों की सूची में सबसे ऊपर ह्युंडई मोटर इंडिया लिमिटेड का नाम रहा, जबकि दूसरे स्थान पर फोर्ड इंडिया और तीसरे स्थान पर मारुति सुजुकी इंडिया रही। इस दौरान ह्युंडई ने 19.26 परसेंट की वृद्धि के साथ 1,03,300 यूनिट्स दुनियाभर में निर्यात कीं। कंपनी ने कुल निर्यात का 90 परसेंट अफ्रीका, पश्चिम एशिया, लैटिन अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और एशिया प्रशांत देशों में किया। कंपनी के ग्रैंड आइ-10 और आइ-20 मॉडल अफ्रीका और लैटिन अमेरिका में काफी लोकप्रिय रहे।

ये भी पढ़ें:

मर्सिडीज और रोल्स रॉयस में चलते हैं रमेश बाबू, दुकान पर काटते हैं 100 रुपये में बाल

नई Skoda Octavia Onyx भारत में हुई लॉन्च, कीमत 19.99 लाख रुपये से शुरू

Posted By: Ankit Dubey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस