नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। ऑटोमोबाइल सेक्टर कई महीने से सेमीकंडक्टर चिप की कमी की मार झेल रहा है, जिसका असर कारों के प्रोडक्शन में देरी और डिलीवरी में ज्यादा वेटिंग पीरियड के रूप में देखा जा सकता है। ऐसे में त्योहारी सीजन कार निमताओं के लिए बिक्री में बढ़ोतरी की उम्मीद लेकर आया है। रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर सर्विस ने गुरुवार को कहा कि त्योहारी सीजन के दौरान चिप की कमी के बीच कारों की मजबूत बिक्री से भारतीय ऑटोमोबाइल उद्योग को इस साल उभरने में मदद मिलेगी। साथ ही कार बिक्री के मामले में भारत टॉप पर बना हुआ है। 

मूडीज के मुताबिक, देश में इस साल कारों की बिक्री की में 12.5 प्रतिशत और 2023 में 4 प्रतिशत की वृद्धि होने की उम्मीद है।

कारों के लिए टॉप सेलर होगा भारत- मूडीज

मूडीज इन्वेस्टर अपने एक एक नोट में कहा है, "भारत इस साल कारों की बिक्री के लिए टॉप स्थान पर बना हुआ है। 2022 में अब तक हुई बिक्री स्थिर बनी हुई है और हम सितंबर के अंत में त्योहारी सीजन की शुरुआत के साथ एक मजबूत चौथी तिमाही की उम्मीद करते हैं।"

इन देशों ने की सबसे ज्यादा कारों की बिक्री  

मूडीज इन्वेस्टर सर्विस के मुताबिक, साल 2022 में एशिया-पेसिफिक क्षेत्रों में ग्लोबल लेवल पर सबसे ज्यादा कारों की बिक्री हुई है, जिसमें चीन और भारत का प्रमुख योगदान है। दोनों देशों के विकास से कुल 3.5 प्रतिशत की वृद्धि होगी।

मूडीज ने यह भी अनुमान लगाया है कि 2022 ऑटो की बिक्री चीन में 4 प्रतिशत बढ़ेगी, जो दुनिया का सबसे बड़ा ऑटो बाजार है । वहीं, 2023 में 3.5 प्रतिशत की वृद्धि होगी। इस बढ़ोतरी से 2023 तक, चीन और भारत में ऑटोमोटिव बिक्री 2018 के स्तर पर वापस आ सकती है। गौरतलब है कि 2018 में ऑटोमोबाइल सेक्टर में सबसे अच्छी ग्रोथ देखी गई थी, जिस स्तर को अगले साल हासिल किया जा सकता है। 

ये भी पढ़ें-

दिवाली में सबसे लंबी रेंज वाले Electric Vehicle खरीदने का बना रहे हैं प्लान? देखें कारों की पूरी लिस्ट

Best Cars Under 5 Lakh: इस दिवाली 5 लाख के अंदर खरीदनी है कार? एक नजर में देखें सारे धांसू मॉडल्स की लिस्ट

Edited By: Sonali Singh

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट