PreviousNextPreviousNext

शर्मनाक: आपदा में फंसी महिला श्रद्धालुओं की आबरू पर हमला!

Fri, 21 Jun 2013 03:40 PM (IST)
शर्मनाक: आपदा में फंसी महिला श्रद्धालुओं की आबरू पर हमला!

प्रतापगढ़। केदारनाथ धाम परिसर में आई दैवी आपदा में फंसे श्रद्धालुओं पर नेपाली बदमाशों ने हमला कर दिया। वे उनके सामान और पैसे लूट ले गए और महिलाओं की आबरू पर भी हमला बोला। वहां फंसे लोग अपने परिजनों से यह बात बताते समय रो पड़े।

श्रद्धालुओं से फोन पर हुई वार्ता के अनुसार धाम के पीछे और आसपास पहाड़ी व जंगली इलाका है। यहां पर अक्सर नेपाली बदमाश आ जाते हैं। आपदा से बचने को पहाड़ी जंगलों में छिपे बदमाशों ने उनपर हमला कर दिया। नुकीले औजारों से लैस उन बदमाशों की संख्या 50 में थी। श्रद्धालुओं ने बताया कि वहां बदमाशों ने कई महिलाओं और लड़कियों के जेवरात लूट लिए। आधा दर्जन महिलाओं को बदमाश जंगल में खींच ले गए और उनकी आबरू पर हमला किया। इनमें से कुछ का तो पता ही नहीं चला। क्षेत्र में जो लोग फंसे, वे जीवित तो रहे, लेकिन भूख प्यास से बेहाल।

ऐसी त्रासदी कभी न देखी

लखनऊ, जागरण टीम। उत्ताराखंड में आई भीषण आपदा ने पूरे उत्तर प्रदेश को हिलाकर रख दिया। बाढ़ में फंसे कई लोग तो पूरे परिवार समेत लापता हैं। जबकि कुछ के रिश्तेदारों का कुछ भी पता नहीं चल पा रहा। किसी को खाना नहीं मिल रहा तो कोई पानी को तरस रहा है। जो सही सलामत घर पहुंच रहे हैं वह अपनी धरती पर पहुंचते ही रो पड़ रहे हैं।

महोबा में तैनात आबकारी इंस्पेक्टर सरोज कुमार त्रिपाठी अपनी पत्नी, तीन लड़कियों व दो लड़कों के साथ इनोवा से केदारनाथ गए थे। कहां हैं कोई पता नहीं चल रहा है। फर्रुखाबाद के लगभग एक दर्जन लोग आपदा के बाद से लापता हैं। नर्सिग होम मालिक प्रयाग नरायन गुप्ता का बृहस्पतिवार को भी पता नहीं चला। फतेहगढ़ के दिनेश कुमार दुबे और उनके पूरे परिवार का अब तक कोई पता नहीं चल सका है। कानपुर देहात के भुगनियापुर गांव के रूपराम मिश्रा, पत्‍‌नी करुणा, बेटी सलोनी और बेटा ओमजी का पता नहीं है।

कानपुर नगर राधाकृष्ण शुक्ल और उनकी पत्नी सरोजनी का भी कोई जानकारी नहीं है। हरदोई की राम चहेती, बहन प्रमोदिनी व मीनाक्षी, भाई रमारमन अपने रामाधार, उमा मिश्रा, रामनवल पांडेय, मालती देवी, रूमा पांडेय और शुभा पांडेय, राम नरायन शर्मा, आशा, अन्नू, संजय, सूरज व उनकी पत्नी और तीन बच्चे लखनऊ चार धाम यात्रा पर आठ जून को गए थे। सभी का कोई पता नहीं चल सका है। हमीरपुर से 20 लोगों का एक जत्था वहां पर आई भीषण बाढ़ में लापता हो गया है। कुरारा के सती प्रसाद मिश्र का भी पता नहीं है। सब तरफ पानी ही पानी। ऊपर आसमान पर काले बादल। देखकर ही डर लगने लगा था। ऐसी त्रासदी कभी न देखी। ये शब्द थे चार धाम की यात्रा कर लौटे इलाहाबाद अतरसुइया के गुड्डू तिवारी के।

संगम एक्सप्रेस से जैसे ही इलाहाबाद जंक्शन के प्लेटफार्म पर उन्होंने पैर रखा, उनकी आंखों से आंसू निकल पड़े। उत्ताराखंड में प्रतापगढ़ के 700 श्रद्धालु फंसे हुए हैं। विवेक नगर के शिक्षक अनिल मिश्रा, शिवपुरी के शिव प्रसाद त्रिपाठी सहित दर्जनों लोग सड़क बह जाने से अभी तक घर नहीं लौट सके। भगवान की कृपा है कि मैं उत्ताराखंड की आफत से बचकर लौट आया। वहां मैं आगे-आगे चल रहा था और पीछे-पीछे आफत। ये आपबीती है हास्य कलाकार राजीव निगम की। मूलत: यशोदा नगर निवासी राजीव मुंबई में रह रहे हैं।

गाजीपुर के तीन यात्री प्राकृतिक आपदा में जान गवां बैठे हैं जिसमें। बिरनो गोपालपुर निवासी जनार्दन पांडेय, बाबूरायपुर मानपुर के गोपाल जी मिश्र तथा सुहवल क्षेत्र के नवली इंटर कालेज के शिक्षक विजयनारायण पांडेय की मृत्यु हो गई। सोनभद्र जनपद के 40 यात्रियों का जत्था बद्रीनाथ धाम के रास्ते में फंसा है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए क्लिक करें m.jagran.com परया

कमेंट करें

Tags:Flood, Kedarnath tragedy, Kedarnath shrine, Kedarnath temple, Uttarakhand, Terrible devastation, Heavy rains and floods, Pilgrims, Terrible devastation

Web Title:Kedarnath tragedy : Attack on dignity of women

(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

सादे लिबास में बाइक चोरों पर नजर रखेगी पुलिसअमरनाथ: बिना पंजीकरण नहीं कर पाएंगे यात्रा
यह भी देखें

प्रतिक्रिया दें

English Hindi
Characters remaining


लॉग इन करें

यानिम्न जानकारी पूर्ण करें



Word Verification:* Type the characters you see in the picture below

  • rahul kumar23 Jun 2013, 10:04:01 PM

    nepali ne aisa kiya h to bahut galat kiya h kisi k majboori ka fayda uthana galat h

  • deeps 23 Jun 2013, 10:02:11 PM

    how can this be possible kedarnath is 175 km at aeronautical from Nepalese border .shame on you Indians. your capital city has been changed rapist capital city of world

  • Ram23 Jun 2013, 09:07:58 PM

    सभी तिवारी जी पान्देय जी मिश्रा जी ही उत्राखन्ड गये थे

  • S C SHUKLA23 Jun 2013, 11:01:51 AM

    कीमत तो चुकानी होगी, सभी को जो प्रकर्ति को नुक्सन पहुचय है उस्का बद्ला तो देना हो चहे वो किशी भी रुप मे हो इस्के लिये हमे तेयर रेह्ना होग क्योकि हमरा नम्बेर भी अन्ने बाला है

  • test22 Jun 2013, 09:17:37 PM

    How this type of people doing such type of work with women's. Indian govt. have to punish them .if Indian govt. not punish him then ultimately Indian peoples punish them without any notice they punish any Neplish person who live any part of India. means a type of home war may be start.

  • puran22 Jun 2013, 05:49:46 PM

    इतनी तबाही मे 50 लोग कहा मिले वे भी गुंडे, जहा खाने को 2 बिस्किट नही, मौत सर पर हो, वहा ए बदमाश आरम फरमा रहे, कही हालीकप्टेर् तो नही इनके पास, इनको पता होगा की केदार नत मे बादल फटने वाला हैं*********** लाशो के ऊपर सनसनी बनानी है तो एसी बनाओ जिसका कोई रेकार्ड हो प्रूफ हो, जिसने बंद टावर से फोन करके ए कहानी बताई उससे कहो की मीडिया, पुलिस के सामने ए सब बताये, एक बैक का बहता लाकर नेपाली मजदूरो के हाथ लग गया था, लोगो ने पुलिस को खबर कर दी और 3.5 लाख वसूल दिये, इसी में रेप की कहानी बनकर एक अखबार ने सनसनी छाप दी, पता नही क्या मकसद था

  • Mukesh Sharma22 Jun 2013, 11:44:27 AM

    नेपाली गुंडों को हम छोड़ेगे नहीं ! या तो नेपाली सरकार उनको दंड दे या फिर हम उन गुंडों को नंगा कर के पीतेगे !! जिनोने हमारी पवित्र देव भूमि पैर येसा घिनोना कदम उठाया हे. मुकेश पंडित जी आगरा बाले.

  • test22 Jun 2013, 11:21:09 AM

    नेपाल कि सरकार को साथ देना चाहिये . नहि तो हमको हि देखना हे नेपालियो को इनकि मा कि बेन्द बजा देगे

  • Mukesh Sharma22 Jun 2013, 11:08:51 AM

    ये दर्द नाक हादसा हे. हम सब को मिलकर इसका सामना करना हे.प्रभु से विनति हे कि हमे इस हादसे से उबर ने के लिये साहस प्रदान करे . मुकेश शर्मा.

  • naveen21 Jun 2013, 11:57:04 PM

    How to people these needy people ? Atleast we can with money.

  • Sanjay Nepali21 Jun 2013, 11:22:16 PM

    I don't think Nepalese can do this. They are people with big heart though we are poor and being landlocked. Thousands of Nepalese spend lots of money going to Chardam for pilgrims. Many people get looted on the way and stranded too. Nepalese like to go to India for beach, religious tours, business, work etc. Similarly, Indians come to Nepal for similar purpose. Its shame to blame to Nepalese community. Though Nepalese leaders sucks, Nepalese people have a glory history. Do this has any relevant proof?? We are completed shattered with the devastating floods in Western Nepal. Please maintain the truth in journalism. Jay Nepal!!!

  • Sushil21 Jun 2013, 09:38:07 PM

    what is the proof that nepali lutera lotted in kedarnath...just 1 week ago our police has capture ur country लुटेरा बब्लु मिथलेश यादव...u journalist make propoganda of small issue ..by the way ur country highdam causes flood always in our country too and u uses our water for irrigation free of cost...ur country is 22 times greater than nepal but ur government thinking is 22 times smaller then our people...ur government sucks every nepali since sugauli treaty.... the utarakhanda was also part of nepal before this treaty ...read the history ur country was saved several times in the name of gorkha regiment...i lky india but i hate indian government. ur govrnment perception is always narrow minded towards nepal ..remember u indians nepali 1 soldier has killed ur 40 robber..in train jst yr ago with his khukuri...

  • Ramesh Khanal21 Jun 2013, 09:24:39 PM

    Criminals are criminals. Why are you name them Nepali? Are you sure all of them are Nepalis? Does not a journalist need any responsibility to their society? If some communal vengeance or violence is broken out because of this news who will be punished? This is a Yellow Journalism. Ramesh Khanal, Kathmandu.

  • sumit21 Jun 2013, 05:22:03 PM

    भारत की निकम्मी सरकार केवल tax वसूलना जानती है . नेपाल जैसे छोटे देश की इतनी हिम्मत तो केवल मनमोहन की सरकार में ही हो सकती है . हमारे नेता आजकल जनता पे बोझ बन गए है . जो देश अपने नागरिकों की रक्षा नहीं कर सकता वो देश कहलाने के लायक नहीं। महिलाओं के लिए भारत नर्क बन चुका है।

  • choudhary satish dangi21 Jun 2013, 04:33:33 PM

    i request our military people to kill those napalies rascal.

  • himani21 Jun 2013, 03:27:57 PM

    hay bhagwan jo b log waha fase hue h unhe shi slamt unke pariwar k pas bhej do sbki rksha kro bhagwan kisi k ma bap n bichhde na kisi k bachche hi bichhde .... .......aisa b kya gunaha kiya h logo ne jo aisa bhayankr prakop bhagwan sbki raksha kro sb tumahari hi santan h ...........

  • Nirmal Kumar Chaubey21 Jun 2013, 11:21:09 AM

    mai apni pratikriya kya dun, mera to dimag hi puri tarah sunn ho gaya hai.

  • ANIL KUMAR21 Jun 2013, 09:50:34 AM

    shame

  • Dr Sanjay21 Jun 2013, 09:35:15 AM

    It is important to know and accept that God lives in ourselves. Taking bath in Kumbh, doing Char Dham Yaatra once and involving ourselves 365 days in wrong deeds does not helps anyone. I request all to stop going to Pilgrimage when there is a rush. I have been Mathura so many times and by seeing the loot and behavior by Pandas, I always realized that Apart from Krishna, everything is there ....Time to rethink. Kedarnath was suffering from encroachment by Hotels and They made it a picnic spot type, Shiva does not like disturbance and see HE cleaned the space as it was there in 1880 picture..My condolence is with the families and immense loss that have suffered. May God give them the strength to bear their loss. I humbly request all to donate generously to PM Kosh for this.

  • Raj21 Jun 2013, 09:05:01 AM

    dil me to yahi aa raha hae ki nepalio ko itna......... maru ki unki .........se.hawa nikal jay

  • Anuraag21 Jun 2013, 08:33:17 AM

    Haramkhori ki parakastha hai

  • Samir21 Jun 2013, 07:38:43 AM

    गलत सोच रखने वाले कहीं भी अपनी छाप नहीं छोडते है उन्‍हें तो बस मौका चाहिए ...

  • DR PURUSHOTTAM KUMAR 21 Jun 2013, 07:20:10 AM

    DHEERE- MALUM PADEGA KI KITNE MISSING HAIN

  • DR PURUSHOTTAM KUMAR 21 Jun 2013, 07:14:24 AM

    KYON NA HO APNI IJJAT JO BACHANI HA .

  • Nirmal vashist21 Jun 2013, 06:05:19 AM

    ेसे दर्द् नाक हलात मे नेपालि गुन्ड्डो का क्ररितेय शर्म नाक हे .सरकार को इन्हे रोक्ना चहिये .

स्थानीय

    यह भी देखें
    Close
    केदारनाथ पूजास्थल बदलने पर विचार
    हजारों लोगों की कोई खोज-खबर नहीं
    भूख-प्यास-ठंड से सांसें छोड़ रही साथ