लंदन, प्रेट्र। ब्रिटिश सरकार ने पहले विश्व युद्ध में भाग लेने वाले 30 लाख से ज्यादा राष्ट्रमंडल के सैनिकों, नाविकों, वायु सैनिकों और श्रमिकों के सम्मान में विदेशी एवं राष्ट्रमंडल कार्यालय (एफसीओ) पर स्मारक बनवाने की घोषणा की है। इन सैनिकों में भारतीय भी शामिल थे।

पहले विश्व युद्ध में करीब 20 लाख भारतीय सैनिक शामिल हुए थे। भारतीय हरदुत्त सिंह मलिक शुरू में कार्प के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाए थे, लेकिन युद्ध में वह अकेले जीवित बचे विमान चालक के रूप में उभरे थे। उस युद्ध में 90 लाख से ज्यादा सैनिक मारे गए थे। इनमें 10 लाख सैनिक राष्ट्रमंडल देशों के थे। इन सैनिकों ने ब्रिटेन, फ्रांस, रूस, इटली और अमेरिका की गठबंधन सेना को जीत दिलाने में मदद की थी।

Posted By: Arti Yadav