Move to Jagran APP

Russia Ukraine War : रूस ने पश्चिम देशों को दी सख्त चेतावनी, कहा- हमारे धैर्य की न लें परीक्षा

रूसी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जखारोवा ने कहा कि यूक्रेन और पश्चिम की राजधानियों को रक्षा मंत्रालय के बयान को गंभीरता से लेना चाहिए कि यूक्रेन को रूसी क्षेत्र पर हमला करने के लिए उकसाने से निश्चित रूप से रूस की ओर से कड़ी प्रतिक्रिया दी जाएगी।

By Dhyanendra Singh ChauhanEdited By: Published: Thu, 28 Apr 2022 05:38 PM (IST)Updated: Fri, 29 Apr 2022 01:35 AM (IST)
रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की फाइल फोटो

लंदन, रायटर। यूक्रेन पर जारी हमलों के बीच रूस ने पश्चिम देशों को सख्त चेतावनी दी है। रूस ने गुरुवार को पश्चिम को चेतावनी दी कि मास्को क्षेत्र पर किसी भी हमले के लिए एक कठिन सैन्य प्रतिक्रिया का जवाब दिया जाएगा। साथ ही रूस ने अमेरिका और उसके प्रमुख यूरोपीय सहयोगियों पर यूक्रेन को मास्को पर हमला करने के लिए खुले तौर पर उकसाने का आरोप लगाया है।

loksabha election banner

रूस द्वारा यूक्रेन पर आक्रमण करने के दो महीने बाद मास्को ने हाल के दिनों में रिपोर्ट किया कि वह जो कह रहा है वह यूक्रेन की सीमा से लगे रूसी क्षेत्रों पर यूक्रेनी बलों द्वारा हमलों की एक श्रृंखला है। साथ ही चेतावनी दी कि इस तरह के हमले एक खतरे को उत्पन्न करते हैं।

रूसी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारिया जखारोवा ने कहा कि पश्चिम देश खुले तौर पर कीव से रूस पर हमला करने का आह्वान कर रहे हैं, जिसमें नाटो देशों से प्राप्त हथियारों का इस्तेमाल भी शामिल है। साथ ही कहा कि मैं आपको हमारे धैर्य की और परीक्षा नहीं लेने की सलाह देती हूं।

निश्चित रूप से रूस की ओर से दी जाएगी कड़ी प्रतिक्रिया: रूसी रक्षा मंत्रालय

रूस के रक्षा मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि अगर इस तरह के हमले जारी रहे तो मास्को यूक्रेन में निर्णय लेने वाले केंद्रों को निशाना बनाएगा, जिनमें वे भी शामिल हैं जहां उसने कहा था कि पश्चिमी देशों के सलाहकार कीव की मदद कर रहे थे। जखारोवा ने कहा कि यूक्रेन और पश्चिम की राजधानियों को रक्षा मंत्रालय के बयान को गंभीरता से लेना चाहिए कि यूक्रेन को रूसी क्षेत्र पर हमला करने के लिए उकसाने से निश्चित रूप से रूस की ओर से कड़ी प्रतिक्रिया दी जाएगी। इसके साथ ही जखारोवा ने यूक्रेनी राष्ट्रपति व्लोदिमीर जेलेंस्की को पश्चिम की कठपुतली के रूप में बताया है, जिसका इस्तेमाल अमेरिका द्वारा रूस को धमकी देने के लिए किया जा रहा है।

बता दें कि 24 फरवरी को रूस द्वारा यूक्रेन पर किए गए हमले में अब तक हजारों लोगों मारे जा चुके हैं। लाखों लोग यूक्रेन से पलायन को मजबूर हुए हैं। वहीं, 1962 के क्यूबा मिसाइल संकट के बाद से एक बार फिर रूस और अमेरिका के बीच सबसे गंभीर टकराव की स्थिति बन गई है।


Jagran.com अब whatsapp चैनल पर भी उपलब्ध है। आज ही फॉलो करें और पाएं महत्वपूर्ण खबरेंWhatsApp चैनल से जुड़ें
This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.