लीग आन सी, एपी। ब्रिटेन में चाकू प्रहार से हुई सांसद डेविड एमेस की हत्या के मामले में पुलिस ने साफ कर दिया है कि यह आतंकी वारदात थी जिसमें हमलावर ही अकेला साजिशकर्ता था। सांसद एमेस की हत्या शुक्रवार को तब हुई थी जब वह अपने चुनाव क्षेत्र के एक चर्च में आमजनों से मुलाकात के लिए आए थे। प्रधानमंत्री बोरिस जानसन ने शनिवार को इस चर्च का दौरा किया और दिवंगत सांसद को श्रद्धांजलि दी। पुलिस ने सांसदों को जनसंपर्क के दौरान सतर्कता बरतने की सलाह दी है।

महानगर पुलिस ने शनिवार को बयान जारी कर कहा कि शुरुआती जांच में संकेत मिले हैं कि कंजरवेटिव पार्टी के सांसद एमेस की हत्या इस्लामिक आतंकवाद से जुड़ी वारदात थी। इसमें फिलहाल हमलावर के ही साजिश रचने और उसे अंजाम देने का पता चला है। वारदात से जुड़े बिंदुओं पर जांच जारी है। पुलिस ने हमलावर को मौके पर ही हत्या में प्रयुक्त बड़े आकार के चाकू के साथ गिरफ्तार कर लिया था।

ताबड़तोड़ चाकू प्रहार से 69 वर्षीय एमेस के शरीर पर गहरे घाव हो गए थे जिनसे अंदरूनी भागों को हुए नुकसान और रक्तस्त्राव से उनकी कुछ ही देर में मौत हो गई थी। हमलावर 25 वर्षीय ब्रिटिश नागरिक है। पुलिस ने उसके विषय में इससे ज्यादा जानकारी नहीं दी है।

रायटर के अनुसार शनिवार को प्रधानमंत्री जानसन के अतिरिक्त गृह मंत्री प्रीति पटेल और विपक्षी लेबर पार्टी के नेता कीर स्टार्मर ने भी घटनास्थल पर जाकर दिवंगत सांसद को श्रद्धांजलि दी। जानसन और अन्य नेताओं ने डेविड एमेस को सच्चा जनसेवक बताया है। एमेस 1983 से सांसद थे। 

डेविड एमेस 1983 से सांसद थे। वह अक्‍सर अपने निर्वाचन क्षेत्र में लोगों की समस्‍याएं सुनने आते थे। वह शुक्रवार को भी क्षेत्र के लोगों की समस्याएं सुनने के लिए ही आए थे। उन्हें पशु कल्याण और जीवन उपयोगी कार्यो के लिए भी जाना जाता था। महारानी एलिजाबेथ ने 2015 में डेविड के जनसेवा वाले कार्यों से प्रभावित होकर उन्‍हें नाइट की उपाधि से सम्मानित किया था। बताया जाता है कि एमेस जब लोगों को संबोधित कर रहे थे तभी हमलावर उनके करीब आया और बड़े से चाकू से उन पर ताबड़तोड़ हमले किए।

Edited By: Krishna Bihari Singh