ग्लासगो, एएनआइ। जम्मू-कश्मीर के दो क्षेत्र बेशक एक ही राज्य का हिस्सा हैं, लेकिन दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति है कि एक तरफ लोकतंत्र है तो दूसरी तरफ ऐसा शासन जो सिर्फ बेईमानी, धांधली और अत्याचार के लिये जाना जाता है। गुलाम कश्मीर के नेता अमजद अयूब मिर्जा ने जम्मू-कश्मीर में हाल ही में हुए जिला विकास परिषद (डीडीसी) और गिलगिट-बाल्टिस्तान के प्रांतीय चुनावों की तुलना कर पाकिस्तान सरकार पर निशाना साधा है। 

गुलाम कश्मीर के नेता ने गिलगिट-बाल्टिस्तान के चुनाव को फर्जी करार दिया

उन्होंने कहा कि यह गुलाम कश्मीर का दुर्भाग्य है कि वह पाक शासन के कब्जे में है। भारत के जम्मू-कश्मीर में शांतिपूर्ण तरीके से व्यवस्था के तहत डीडीसी सदस्यों का चुनाव किया गया, इन सदस्यों की अब विकास के कार्य मे सीधी भागीदारी होगी। चुनाव पूरी तरह निष्पक्ष हुआ। कहीं भी हिंसा जैसी कोई बात नहीं थी।

दूसरी ओर गुलाम कश्मीर गिलगिट-बाल्टिस्तान में सत्ता का खुला तांडव हुआ। जनता पर अत्याचार करते हुए जमकर धांधली हुई, बैलट बाक्स चोरी किए गए। वोटर लिस्ट में मनमानी की गई। अगस्त में होने वाले चुनावों को महज इसलिए आगे बढ़ा दिया गया, क्योंकि कई इलाकों में बर्फ पड़ने के बाद वहां अपनी मनमानी की जा सके। ये दो शासन का फर्क है। दुभाग्यपूर्ण है कि पाकिस्तान ने उसी राज्य के हिस्से पर अवैध कब्जा कर रखा है। जहां पूरी तरह लोकतांत्रिक व्यवस्था है। उसके अवैध कब्जे का खामियाजा जनता को भुगतना पड़ रहा है।

Edited By: Arun Kumar Singh