कीव, एजेंसी: यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की ने यूक्रेन स्थित यूरोप के सबसे बड़े जपोरीजिया परमाणु संयंत्र को रूसी सैनिकों द्वारा नुकसान पहुंचाने का आरोप लगाया है। उन्होंने इसके लिए पश्चिमी देशों से रूस के परमाणु उद्योग पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है। समाचार एजेंसी राॅयटर्स के मुताबिक, यूक्रेनी राष्ट्रपति ने कहा कि रूसी सैनिक या तो जपोरीजिया परमाणु संयंत्र पर गोलाबारी कर रहे हैं या तो इसे यूक्रेन पर हमले के लिए बेस के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं। हालांकि, जेलेंस्की ने विस्तार से कुछ नहीं बताया। परमाणु संयंत्र के नुकसान पहुंचने को लेकर यूएन महासचिव भी चिंता जता चुके हैं।

रूसी बलों ने दक्षिणी यूक्रेन के माइकोलीव क्षेत्र में राकेट दागे

इस बीच, यूक्रेन से एक और मालवाहक जहाज अनाज लेकर अफ्रीका जाने को तैयार है। जबकि संयुक्त राष्ट्र के संरक्षण में अनाज लेकर दो सप्ताह पूर्व गया पहला जहाज सीरिया के पास पहुंच चुका है। रूसी बलों ने रविवार को दक्षिणी यूक्रेन के माइकोलीव क्षेत्र में राकेट दागे। इसमें कम से कम एक की मौत हुई है। माइकोलीव रूस द्वारा कब्जा किए गए खेरसान के उत्तर में है, जिसे यूक्रेन ने फिर से वापस लेने का संकल्प लिया है। वहीं, एक रूसी राजनयिक ने यूक्रेन से सुरक्षा का आश्वासन देने को कहा है, जिससे एक परमाणु संयत्र में लगे आग का निरीक्षण करने के लिए अंतरराष्ट्रीय पर्यवेक्षक पहुंच सकें। 

मानवीयता के नाते गलियारों की अनुमति नहीं दे रहा रूस: यूक्रेन

यूक्रेन के स्वास्थ्य मंत्री ने रूसी अधिकारियों पर मानवता के विरुद्ध काम करने का आरोप लगाया है। एपी के साथ एक साक्षात्कार में यूक्रेन के स्वास्थ्य मंत्री विक्टर लियाशको ने कहा कि रूसी अधिकारियों ने अपने कब्जे वाले शहरों, कस्बों और गांवों में लोगों तक राज्य की सब्सिडी वाली दवाएं उपलब्ध कराने के प्रयासों को अवरुद्ध कर दिया है। उन्होंने शुक्रवार देर रात कहा कि युद्ध को छह महीने ही चलते हुए हैं लेकिन रूस मानवीयता के नाते गलियारों की अनुमति नहीं दे रहा है ताकि हम उन रोगियों को दवाएं उपलब्ध करा सकें, जिन्हें उनकी आवश्यकता है।

Edited By: Piyush Kumar