व्लादिवोस्तक, रायटर।  रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने जापान के प्रधानमंत्री शिंजो एबी के समक्ष शांति समझौते की पेशकश है। दोनों देशों के बीच प्रशांत महासागर में स्थित कुछ द्वीपों को लेकर सात दशक से विवाद चल रहा है। इसके चलते द्वितीय विश्वयुद्ध समाप्त होने के बाद भी दोनों की शत्रुता पूरी तरह खत्म नहीं हुई।

ईस्टर्न इकोनॉमिक फोरम में बुधवार को यहां एक प्रश्नोत्तर सत्र के दौरान पुतिन ने कहा, 'मेरे दिमाग में एक सुझाव है। साल के अंत से पहले हमें बिना किसी पूर्व शर्त के शांति समझौता करना चाहिए। धीरे-धीरे विवाद सुलझने चाहिए।' फोरम में मौजूद एबी ने तुरंत इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। द्वितीय विश्वयुद्ध की समाप्ति के दौरान रूस की रेड आर्मी ने इन द्वीपों पर कब्जा कर लिया था। इन पर अब भी रूस का ही नियंत्रण है। दोनों ही देश द्वीपों पर अपनी संप्रभुता का दावा करते हैं।

उत्तर कोरिया को सुरक्षा देने की मांग
पुतिन ने उत्तर कोरिया को परमाणु निरस्त्रीकरण कार्यक्रम के बदले सुरक्षा की गारंटी देने की मांग की है। इकोनॉमिक फोरम में उन्होंने कहा, 'उत्तर कोरिया ने अपने लिए सुरक्षा की मांग की थी। वह इस संबंध में प्रतिक्रिया का इंतजार कर रहा है। बिना कुछ दिए केवल अपनी मांगें मनवाना अनुचित है। अमेरिका के साथ अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी उसे सुरक्षा की गारंटी मिलनी चाहिए।'

Posted By: Ravindra Pratap Sing