मास्को, एएनआइ। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने रविवार को कहा कि उनके देश का कोरोना वायरस टीका स्पुतनिक V  लगाने वाले लोगों को दुनियाभर में यात्रा करने के अधिकार से वंचित नहीं किया जाना चाहिए। इंटरनेशनल फेडरेशन आफ रेड क्रास एंड रेड क्रिसेंट सोसाइटीज (IFRC) के अध्यक्ष फ्रांसेस्को रोक्का के साथ एक बैठक के दौरान पुतिन ने कहा कि हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि जिन लोगों को स्पुतनिक V का टीका लगाया गया है, उन्हें भी अन्य टीका लगवाने वाले लोगों की तरह बिना किसी चिंता के दुनिया भर में यात्रा करने का अवसर मिलता है। 

राष्ट्रपति पुतिन ने रोका से आगे कहा कि रूसी अधिकारी हमारे टीके के इस प्रचार की गारंटी के लिए आपके समर्थन की भी उम्मीद करते हैं। रूस को वैक्सीन के लिए डब्ल्यूएचओ से प्रमाणपत्र जल्द से जल्द मिलना चाहिए, ताकि इसे दुनियाभर में और अधिक व्यापक रूप से फैलाया जा सके। पुतिन ने यह भी उल्लेख किया कि विदेशों में टीके के उपयोग के विश्लेषण के परिणामों से पता चला है कि यह सबसे प्रभावी और सुरक्षित टीकों में से एक है।

पुतिन ने भी स्पुतनिक V का टीका लगावाया था और पिछले महीने उन्हें स्पुतनिक लाइट का बूस्टर शाट लिया। उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने अपने बूस्टर शाट लेने के कुछ दिनों बाद स्पुतनिक V का एक प्रयोगात्मक नेजल वैक्सीन भी लिया। वह ठीक महसूस कर रहे रहे और कोई साइड इफेक्ट महसूस नहीं किया है। स्पुतनिक V विकसित करने वाले गामालेया संस्थान ने कहा है कि टीका कोरोना के ओमिक्रोन वैरिएंट के खिलाफ भी प्रभावी होना चाहिए।

रूस दुनिया का पहला देश था जिसने अगस्त 2020 में स्पुतनिक V को लांच करके कोरोना वायरस वैक्सीन को अधिकृत किया था। बता दें कि हाल के महीनों में रूस ने कोरोना वायरस मामलों में काफी उछाल का सामना किया है। मौतों में भी इजाफा हुआ है। पिछले कुछ हफ्तों से इसमें कमी दिखी है।

Edited By: Tanisk