नई दिल्ली [जागरण स्पेशल]पाकिस्तानी मीडिया में अजीबोगरीब हरकतें होती रहती हैं, यहां कभी पीटूसी करते हुए रिपोर्टर हास्य के पात्र बन जाते हैं तो कभी टॉक शो में ऐसी हरकतें हो जाती हैं कि उसका वीडियो पूरी दुनिया में वायरल हो जाता है। मंगलवार को पाकिस्तान के टीवी चैनल पर एक ऐसे ही टॉक शो में आए एक गेस्ट ने अपने पैरों में पहने बूट को निकालकर टेबल पर रख दिया। उसके बाद उसके पास बैठे दूसरे दलों के दोनों नेता उस कार्यक्रम से उठकर चले गए। टॉक शो में हुई इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। पाकिस्तानी  अखबार डॉन ने इस खबर को प्रमुखता से कैरी किया है। 

क्या था प्रोग्राम?

मंगलवार की रात को एआरवाई न्यूज पर ऑफ द रिकॉर्ड शो चल रहा था। इसमें संघीय जल संसाधन मंत्री फैसल वावदा, पीपीपी के वरिष्ठ नेता कमर जमान कैरा और पीएमएल-एन सीनेटर जावेद अब्बासी के साथ एंकर बिरादराना काशिफ अब्बासी मौजूद थे। इसी में एंकर ने हाल ही में संसद में सेना अधिनियम और कुछ अन्य सवाल पूछ लिए। इसी बीच मध्य-कार्यक्रम, पीएमएल-एन सुप्रीमो नवाज शरीफ के बारे में चर्चा करते हुए वावदा ने एक बूट निकाला और उसे मेहमानों के सामने डेस्क पर रख दिया। उन्होंने कहा कि वो इस बूट से स्वागत करते। बूट डेस्क पर रखे जाने से नाराज होकर अब्बासी और कायरा दोनों ने अंततः विरोध में शो छोड़ दिया।

दोनों नेताओं ने नहीं दी कोई प्रतिक्रिया 

पीएमएल-एन के प्रवक्ता मैरियूम औरंगजेब ने बुधवार को डॉन से बात करते हुए कहा कि वावदा के स्टंट ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। हालांकि, पूर्व कानून मंत्री और पीएमएल-एन नेता राणा सनाउल्लाह ने एक और टीवी शो में दिखाई दिए। उन्होंने कहा कि पूरा देश "जोकर" की गतिविधियों को देख रहा था। पीपीपी नेता शेरी रहमान ने भी वाड़ा के व्यवहार की निंदा की। उन्होंने कहा किसी दूसरे के कार्यों की आलोचना करना हर किसी का अधिकार है लेकिन कोई अजीब तरह की घटना करना ठीक नहीं है। किसी भी पीटीआई नेता ने अभी तक इस घटना पर टिप्पणी नहीं की है।

विवादों के लिए जाने जाते फैसल वावदा 

यह पहली बार नहीं है जब जल संसाधन मंत्री ने अपनी विवादित टिप्पणी और कार्यों के लिए सुर्खियां बटोरी हैं। 2018 में, उन्होंने बुलेटप्रूफ बनियान में दिखाया और कराची में चीनी वाणिज्य दूतावास के कार्यालय में पिस्तौल से लैस होकर अधिकारियों ने एक आतंकवादी हमले को नाकाम कर दिया।

जून 2019 में, एक टीवी वार्ता शो में दिखाई देने के दौरान, वावाडा ने टिप्पणी की थी: "अगर हमारे पास 5,000 लोगों को फांसी देने की हमारी शक्ति थी, तो 220 मिलियन लोगों का भविष्य बदल जाएगा"।

पिछले दिनों पत्रकारों से भी वावदा की झड़प हुई। जनवरी 2019 में, एक वरिष्ठ पत्रकार के सवाल पर वावदा की तीखी प्रतिक्रिया ने इस्लामाबाद में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को रद्द कर दिया।

पानी चोरी के आरोपों को लेकर उन्होंने 2018 में पीएमएल-एन नेता और पूर्व प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी के साथ बातचीत की थी।  

Posted By: Vinay Tiwari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस