कराची, एजेंसी। पाकिस्‍तान के जिन्‍ना अंतरराष्‍ट्रीय हवाई अड्डे के पास एक रिहायशी इलाके में दुर्घटनाग्रस्‍त हुए हवाई जहाज में गंभीर रूप से जले हुए शवों की पहचान के लिए डीएन परीक्षण कराया जाएगा। मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि जले हुए शव इतने क्षतिग्रस्‍त हो गए है कि उनकी पहचान करने में मुश्किलेंं आ रही है। अधिकारियों ने यात्रियों के परिजनों से आग्रह किया है कि मृतकों की पहचान के अपना नमूना देने आएं। अधिकारियों ने कहा कि नमूने के जरिए ही शवों को क्रॉस चेक किया जाएगा। इस बाबत एक संपर्क नंबर भी जारी किया गया है।  

पाकिस्तान में एक बड़ा विमान हादसा

बता दें कि शुक्रवार को पाकिस्तान में एक बड़ा विमान हादसा हुआ था। लाहौर से कराची जा रहा पीआईए का एक विमान कराची हवाई अड्डे के समीप दुर्घटनाग्रस्त हो गया। समाचार एजेंसी एएफपी ने स्वास्थ्य मंत्रालय के हवाले से बताया कि इस विमान दुर्घटना में 97 लोगों की मौत हुई है। दो लोग इस हादसे में बच गए। हादसे के वक्त विमान में 99 लोग सवार थे। इसमें 91 यात्री और 8 क्रू सदस्य थे।

पांच व्यक्तियों की पहचान हुई 

जिन्ना पोस्टग्रेजुएट मेडिकल सेंटर के बाहर एक पुलिस अधिकारी ने द एक्सप्रेस ट्रिब्यून के हवाले से बताया कि एक लड़की सहित अब तक केवल पांच व्यक्तियों की पहचान की जा चुकी है। उन्होंने कहा कि परिवारों के लिए मृतक की पहचान करना लगभग असंभव था, क्योंकि शव गंभीर रूप से जले हुए थे। जियो न्यूज ने बताया कि कराची विश्वविद्यालय की फॉरेंसिक डीएनए प्रयोगशाला में डीएनए परीक्षण के लिए संग्रह किया गया है। 

दो लोग चमत्कारिक रूप से बचे 

दुर्घटना में दो लोग चमत्कारिक रूप से बच गए। उनमें से एक बैंक ऑफ पंजाब के अध्यक्ष जफर मसूद हैं, जिन्होंने अपनी भलाई के लिए अपनी मां को फोन किया। एक अन्य जीवित व्‍यक्ति ने जियो न्यूज को बताया कि वह एक मैकेनिकल इंजीनियर है। वह गुजरांवाला में एक परियोजना पर काम करने के बाद ईद के लिए अपने घर जा रहा था।

Posted By: Ramesh Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस