लाहौर, एएनआइ। लाहौर प्रदर्शन मे तीन पुलिसवालों की मौत के बाद पाकिस्तान ने यहां पर इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी है। दरअसल, तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (Tehreek-i-Labbaik Pakistan) के कार्यकर्ताओं और लाहौर में पुलिस कर्मियों के बीच झड़प हो गई थी। इस दौरान शुक्रवार को प्रदर्शनकारियों द्वारा पुलिसवालों ऊपर अपने वाहन चलाए जाने के बाद तीन पाकिस्तानी पुलिसकर्मियों की मौत हो गई और पांच अन्य घायल हो गए थे। ऐसे में मामला बढ़ता देख प्रशासन ने यहां के कई इलाकों में इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी है। आंतरिक मंत्रालय ने एक अधिसूचना में कहा कि डेटा दरबार, शाहदरा और रवि ब्रिज क्षेत्रों में इंटरनेट सेवाओं को निलंबित कर दिया जाएगा।

आतंकवाद और कट्टरपंथ को बढ़ावा देने वाले पाकिस्तान को अब इसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा है। पाकिस्तान के ही एक प्रतिबंधित इस्लामी संगठन ने अपने नेता साद रिजवी (Saad Rizvi) की रिहाई और फ्रांस के राजदूत को निकालने की मांग को लेकर इमरान सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

लाहौर के डीआईजी प्रवक्ता मजहर हुसैन ने मारे गए दो अधिकारियों की पहचान अयूब और खालिद के रूप में की है। तीसरे अधिकारी की पहचान अभी तक नहीं हो पाई है, लेकिन प्रांतीय मुख्यमंत्री के एक बयान में कहा गया है कि डान के अनुसार, तीन पुलिसकर्मियों की मौत हो गई। हुसैन ने कहा कि कई अन्य लोग भी घायल हो गए जिन्हें गंभीर हालत में अस्पताल पहुंचाया गया है।

उन्होंने कहा, 'प्रदर्शनकारियों ने अधिकारियों पर पेट्रोल बम भी फेंके।' उन्होंने कहा कि अधिकारियों ने उन्हें सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने से रोकने की कोशिश की थी। ऐसे में गुस्से में भीड ने लाठियों का भी इस्तेमाल किया और पथराव भी किया। उन्होंने कहा कि अधिकारी हिंसा के बावजूद संयम दिखा रहे हैं।

वहीं पाकिस्तान में बढ़ती महंगाई के बीच सरकार पर दबाव बनाने के लिए विपक्ष ने लड़कों पर प्रदर्शन किया। पीएमएल-एन के अध्यक्ष शाहबाज शरीफ ने देश के लोगों से पाकिस्तान में बढ़ती महंगाई के विरोध में शामिल होने की अपील की है।

Edited By: Pooja Singh