इस्‍लामाबाद, पीटीआइ। पाकिस्तान ने देश में अमेरिकी डॉलर की तर्ज पर चीनी युआन का फ्री उपयोग करने से इनकार कर दिया। हाल में दोनों देशों के अधिकारियों ने 50 अरब डॉलर की चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर (सीपीईसी) को लेकर दीर्घकालिक विकास योजना पर फैसला लेने के लिए मुलाकात की थी।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाकिस्तान और चीन के वरिष्ठ अधिकारियों ने युआन और डॉलर की बाधाओं के बावजूद औपचारिक रूप से आगे बढ़ने का फैसला किया। इस दौरान कम से कम तीन विशेष आर्थिक/औद्योगिक क्षेत्रों (एसईजेड) और कुछ महत्वपूर्ण रेल, बिजली व सड़क परियोजनाओं को फाइनेंस करने का निर्णय लिया किया।

पाक अखबार डॉन की खबर के मुताबिक, वरिष्‍ठ सरकारी अधिकारियों ने बताया कि सरकार ने देश में युआन के इस्‍तेमाल से साफ इनकार कर दिया है। पाक अधिकारियों का ये फैसला सुनकर चीनी अधिकारी काफी निराश हो गए। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के किसी भी हिस्से में सामान्य उपयोग के लिए युआन का उपयोग या डॉलर जैसे विनिमय योग्यता एक पारस्परिक आधार पर होना चाहिए।

जानकारों की मानें तो चीन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी करेंसी युआन को अमेरिकी डॉलर की जगह दिलाने की कोशिश कर रहा है। लेकिन कर पाना इतना आसान नहीं होगा। चीन का वन बेल्ट वन रोड (ओबीओआर), जिसका चीन-पाकिस्तान आर्थिक कॉरिडोर भी हिस्सा है, इस दिशा में बड़ा रोल निभाने वाला है। वन बेल्‍ट वन रोड पर चीन अपने युआन को भी चलाने पर की योजना बना रहा है।

यह भी पढ़ें: तो क्या जिंबाब्वे में उथल-पुथल के पीछे है ड्रैगन का हाथ

 

Posted By: Tilak Raj

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप