इस्लामाबाद, एएनआइ। पाकिस्तान (Pakistan) की करीब 34 फीसद आबादी प्रतिदिन मात्र 3.2 डालर (करीब 240 रुपये) की आय पर जी रही है। विश्व बैंक (World Bank) का कहना है कि नकदी संकट (Economic Crisis) से जूझ रहे पाकिस्तान के नए वित्त मंत्री मिफ्ताह इसामिल बेतहाशा बढ़ती महंगाई पर काबू करने की भीषण चुनौती का सामना कर रहे हैं। यह पाकिस्तान का सबसे बड़ा आर्थिक संकट है। अपनी अर्थव्यवस्था को संभालने में पाकिस्तान की विफलता उसके अपने कार्यों का एक अप्रिय परिणाम है क्योंकि देश ने पहले 10 महीनों (जुलाई-अप्रैल 2021-22) में कई वित्तपोषण स्रोतों से 13.033 अरब अमरीकी डालर का विदेशी ऋण लिया है। पूरे वित्तीय वर्ष के लिए विदेशी वाणिज्यिक बैंकों से 2.623 अरब अमरीकी डालर सहित।

अप्रैल 2022 में कई फाइनेंसिंग स्रोतों से प्राप्त हुई राशि

आर्थिक मामलों के प्रभाग (ईएडी) ने सोमवार को डेटा जारी किया जो दर्शाता है कि देश को अप्रैल 2022 में कई वित्तपोषण स्रोतों से 262.14 मिलियन अमरीकी डालर की भारी राशि प्राप्त हुई। हालांकि, अप्रैल बैंड के दौरान विदेशी वाणिज्यिक बैंकों से कोई राशि उधार नहीं ली गई थी,बिजनेस रिकॉर्डर ने बताया।

रिपोर्टों के अनुसार, वित्तीय वर्ष 2020-21 की इसी अवधि (जुलाई-अप्रैल) के दौरान बाहरी प्रवाह 10.195 बिलियन अमरीकी डालर था, जिसमें विदेशी वाणिज्यिक बैंकों से 3.246 बिलियन अमरीकी डालर शामिल थे, जबकि बजटीय राशि 12.233 बिलियन अमरीकी डालर थी।

सरकार ने चालू वित्त वर्ष के लिए 14.088 बिलियन अमरीकी डॉलर की विदेशी सहायता का अनुमान लगाया है, जिसमें 13.871 बिलियन अमरीकी डॉलर का ऋण और 217.44 मिलियन अमरीकी डॉलर का बहुपक्षीय और द्विपक्षीय स्रोतों से अनुदान शामिल है, जिसमें अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) भी शामिल है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि ऋण की कुल प्राप्ति बहुपक्षीय से 4.050 बिलियन अमरीकी डालर, द्विपक्षीय से 485.97 मिलियन अमरीकी डालर, विदेशी वाणिज्यिक बैंकों से 2.623 बिलियन अमरीकी डालर, बांड जारी करने से 2.041 बिलियन अमरीकी डालर और सऊदी अरब से सावधि जमा में 3 बिलियन अमरीकी डालर है।

गैर-परियोजना सहायता 10.263 बिलियन अमरीकी डालर थी जिसमें बजटीय सहायता के लिए 9.024 बिलियन अमरीकी डालर और 1.937 बिलियन अमरीकी डालर की परियोजना सहायता शामिल थी। बहुपक्षीय विकास भागीदारों में, मुख्य रूप से एशियाई विकास बैंक ने 1.454 बिलियन अमरीकी डालर प्रदान किए और विश्व बैंक ने 1.189 बिलियन अमरीकी डालर का वितरण किया।

इन देशों ने दिया कर्ज 

इस बीच, चीन ने चालू वित्त वर्ष के पहले 10 महीनों (जुलाई-अप्रैल) में 153.30 मिलियन अमरीकी डालर, संयुक्त राज्य अमेरिका ने 64.32 मिलियन, कोरिया 4.81 मिलियन, यूके 16.01 मिलियन, और जर्मनी 13.25 मिलियन अमरीकी डालर और सऊदी अरब अमरीकी डालर सहित 201 मिलियन अमरीकी डालर का वितरण किया। तेल उत्पादों के आयात के लिए अप्रैल में 100 मिलियन, बिजनेस रिकॉर्डर ने बताया।

विश्व बैंक ने पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था की संरचनात्मक कमजोरियों को उजागर किया है जिसमें कम निवेश, कम निर्यात और कम उत्पादकता वृद्धि चक्र शामिल हैं। इसके अलावा, उच्च घरेलू मांग दबावों और बढ़ती वैश्विक वस्तुओं की कीमतों ने देश में मुद्रास्फीति को दो अंकों में बढ़ा दिया है।

इसके अलावा, निकट भविष्य में पाकिस्तान में विकास की गति तेज होने की उम्मीद नहीं है क्योंकि आयात बिल में तेज उछाल से पाकिस्तानी रुपये पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा।

कर्ज में डूबे पाकिस्तान की वित्तीय हालत संभलने के आसार नहीं

पाकिस्तान में विकास की प्रगति को लेकर विश्व बैंक की रिपोर्ट के मुताबिक बेहिसाब महंगाई ने पाकिस्तान के गरीबों को और अधिक बदहाल कर दिया है। वह अपने घर के बजट का अधिकांश हिस्सा दो वक्त की रोटी जुटाने और ईंधन की खपत पर खर्च करते हैं। गरीब लोग अपनी कुल आय का पचास फीसद हिस्सा खाने-पीने की चीजों पर खर्च कर रहे हैं। रिपोर्ट में बताया गया है कि मौजूदा वित्त वर्ष में स्थिति और भी खराब होने वाली है। कर्ज में डूबे पाकिस्तान की वित्तीय हालत संभलने के आसार नहीं हैं।

Edited By: Babli Kumari